सोमवार, 18 मई 2009

पाने को उजास . . .






भविष्य की कोख में तेरे लिये क्या पल रहा है,
मत सोच देख सूरज, आज का फिर ढल रहा है ।


जो रह गया है काम बाकी पूरा कर ले वह भी,
तेरा काम आज का फिर, कल पर टल रहा है ।


आ गये आसमां पे सितारे, चांद भी आता होगा,
आज का दिन भी अब तो, कल में बदल रहा है ।


जल गई शमां रौशन करने को महफिल किसी की,
देखो परवाने को कैसे, उसपे हर पल मचल रहा है ।

उसे खबर है कि जल जाएगा, फिर भी पाने को उजास,
बेखबर मौत से अपनी, खुशी-खुशी खुद को छल रहा है ।

5 टिप्‍पणियां:

  1. मत सोच देख सूरज, आज का फिर ढल रहा है - bahut hi sunder, zindagi sochne mein hi beet jaati hai.

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 12 -04-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .....चिमनी पर टंगा चाँद .

    जवाब देंहटाएं
  3. जो रह गया है काम बाकी पूरा कर ले वह भी,
    तेरा काम आज का फिर, कल पर टल रहा है ।
    - सुन्दर संदेश !

    जवाब देंहटाएं
  4. समय की चाल को बखूबी एक गजल का रूप दिया है आपने... आभार.

    जवाब देंहटाएं
  5. जो रह गया है काम बाकी पूरा कर ले वह भी,
    तेरा काम आज का फिर, कल पर टल रहा है ।समय को कहाँ कोई रोक पाया है.......

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....