बुधवार, 26 सितंबर 2018

तर्पण करता मन !!!!

तर्पण करता मन
जब भी
भावनाओं की अँजुरी से
गंगाजल के साथ
कुछ बूँदें नयनों से भी
आ मिलतीं
पलकों की मुंडेर पे
कितने पलों को
भीगते देखा है हर बार
पितृपक्ष में पापा !!!
....

सोमवार, 10 सितंबर 2018

बोलती ही नहीं !!!!

ये ख़ामोशी
सिर्फ बोलती ही नहीं
लड़ती भी है
और कई बार जंग भी हो जाती है
बिना किसी गोली बारूद के
और सब ख़त्म हो जाता है
ख़ामोशी से !!!!
...


ब्लॉग संग्रह

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....