सोमवार, 4 जून 2012

ताकि शंखनाद कर सकूँ !!!


















मैने आज कोई फूल
किसी देवता के
श्रीचरणों पर नहीं चढ़ाया
ना ही किया है मंत्रोच्‍चार
ना ही किया किसी देव प्रतिमा के आगे
अगर का धुंआ
बांधे नहीं वंदनवार श्रद्धा के
तेरा तुझको अर्पण की भावना  ने
मन की हर आराधना को जाने क्‍यूँ
विरक्‍त कर दिया है
...
हाँ ये और बात है  कि
तुम्‍हारे चेहरे पर अब भी
मंद मुस्‍कान कायम है
तुम अपना प्रतिबिम्‍ब मेरी
आंखों में बहते अश्‍कों के बीच
अब भी देख पा रहे हो
मेरी जिजीविषा ने
हर कमज़ोर पल में
तुम्‍हारे समक्ष खड़े होकर
विजय यात्रा का आ‍ह्वान किया है
जब भी ..
तुम्‍हारी बंसी की
मधुर ध्‍वनि गूंजी है मेरे कानों में
बस उसी क्षण मैने जाना
केवल तुम ही मेरा संबल हो
लेकिन उससे पहले
तुम चाहते थे यही
मैं अभिषेक कर लूं भावनाओं के
अश्रुजल से तुम्‍हारा
आत्‍मबल का भी ले लूँ सहारा
ताकि शंखनाद कर सकूँ
मन के जीते जीत है मन के हारे हार
विश्‍वास का दीपक प्रज्‍जवलित करने से
पहले तुम्‍हारी मुस्‍कान को
मैं अपना आशीष मान लूँ ... !!!

27 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ठ प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 5/6/12 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी |

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन के जीते जीत है मन के हारे हार
    विश्‍वास का दीपक प्रज्‍जवलित करने से
    पहले तुम्‍हारी मुस्‍कान को
    मैं अपना आशीष मान लूँ ... !!!बहुत सुन्दर भाव बेहतरीन अभिव्यक्ति बधाई सदा जी...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर...
    बहुत सुंदर सदा....
    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम चाहते थे यही
    मैं अभिषेक कर लूं भावनाओं के
    अश्रुजल से तुम्‍हारा
    आत्‍मबल का भी ले लूँ सहारा
    ताकि शंखनाद कर सकूँ ,,,,,

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,,,,,,

    RECENT POST .... काव्यान्जलि ...: अकेलापन,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर और गहनता का आभास कराती है ये रचना
    प्रतेक पंक्तिया बहुत ही बेहतरीन है
    अति सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर क्षण साथ हैं प्रभु...!
    ये पवित्र शंखनाद मन को पावन करता रहे!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन के जीते जीत है, मन के हारे हार।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह... उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  9. तेरा तुझको अर्पण की भावना ने
    मन की हर आराधना को जाने क्‍यूँ
    विरक्‍त कर दिया है……………सत्य कहा जब ये भावना समाहित होती है फिर हर इच्छा कामना विचार सब इसी मे समाहित हो जाते हैं और द्र्ष्टा बनकर देखने का आनन्द ही और होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन के जीते जीत है मन के हारे हार ...

    सच कहा है ... ये तो जीवन मन्त्र है ... जितनी जल्दी आ जाए समझ उतना ही आसान है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. उम्मीद की बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. मधुर मुस्कान सबको ही अनुप्राणित करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. ईश्वर में विश्वास की अद्भुत अभिव्यक्ति !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. मन के जीते जीत है.. और अगर आत्म-बल और विश्वास हो.. तो फिर ये शंखनाद भी बस यही प्रतिध्वनि देगा कि 'विजयी भव:'
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  16. विश्‍वास का दीपक प्रज्‍जवलित करने से
    पहले तुम्‍हारी मुस्‍कान को
    मैं अपना आशीष मान लूँ ... !!!
    बहुत बढ़िया रचना है विश्वास और मुस्कान की ताकत किसी भी और चीज़ से कम नहीं .

    उत्तर देंहटाएं
  17. तुम्‍हारी बंसी की
    मधुर ध्‍वनि गूंजी है मेरे कानों में
    बस उसी क्षण मैने जाना
    केवल तुम ही मेरा संबल हो....
    सुंदर....
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ईश्वर भी तो बस मन के भाव देखता है। कृपापात्र बनने के लिये बस भाव पवित्र होने चाहिये,मिथ्याचार नही
    बहुत ही प्यारी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर रचना है... सब विश्वास की ही तो बात है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. इष्ट की मुस्कान ही आशीष है. बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....