बुधवार, 13 जून 2012

रिश्‍ता कोई भी हो !!!


















मस्तिष्‍क कोई उपजाऊ भूमि नहीं
जहां एक शब्‍द के बदले में
तुम पा सकोगे अनेक शब्‍द
प्रत्‍येक शब्‍द की उपज के लिए
मस्तिष्‍क को दिल के रास्‍ते
रूह तक पहुंचना होता है
समेटना होता है
कितने ही अर्थों में हर शब्‍द के भाव को
विचार मन की सम्‍पत्ति है
जो पनपते हैं पोषित होते हैं
और पल्‍लवित होते हैं
हमारे संस्‍कारों से
....
विचार भी बीज की तरह हैं
जो शब्‍दो से पनपते हैं
समेटते हैं भावनाओं को
बनाते हैं एक रिश्‍ता
रूह से रूह का
मन को संयम का
पाठ पढ़ाते हुए  सिखाते हैं
उंगली पकड़कर चलना
....
रिश्‍ता कोई भी हो
वो यूँ ही किसी की परवाह नहीं करता
रिश्‍तों का पालन-पोषण
करने के लिए
दिल के दरवाजे पर
दस्‍तक़ देनी होती है 
क्‍यूँ कि तुम ही तो कहते हो
रिश्‍ते दिमाग का नहीं
दिल का मामला होते हैं !!!

39 टिप्‍पणियां:

  1. कभी कभी दिल के दरवाजों पर दस्तक देने पर भी कपाट बंद ही मिलते हैं ..... तब क्या करें ?

    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल के घुप्प रास्ते निर्णायक दिशा देते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाँ.... दस्तक देना होता है...या घंटी बजानी होती है दिल के दरवाज़े पर :-)

    सुन्दर भाव..
    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  4. संगीता स्वरूप जी के अर्थपूर्ण प्रश्न के होते हुए भी मानवीय अपेक्षाएँ मनुष्यों के दिल-दिमाग़ पर दस्तक देते रहने को मजबूर हैं. कविता विचार और आत्मा के दार्शनिक पक्ष पर बात करती नज़र आती है. बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  5. रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!

    और दिल के रिश्ते संगदिल नहीं होते

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल के दरवाजे पर
    दस्‍तक़ देनी होती है
    क्‍यूँ कि तुम ही तो कहते हो
    रिश्‍ते दिमाग का नहीं

    दिल का मामला होते हैं !!!

    वाह,,,, बहुत ही सुंदर प्रस्तुति,,,बेहतरीन भाव ,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. विचार भी बीज की तरह हैं
    जो शब्‍दो से पनपते हैं
    समेटते हैं भावनाओं को
    बनाते हैं एक रिश्‍ता
    रूह से रूह का

    बहुत खुबसूरत ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बिना दस्तक दिए कोई समझता नहीं...बेहतरीन रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!
    बहुत बढ़िया है .vichar pravaah ko nai dishaa deti post , sambandhon ko aanch muhaiyaa karvaati kaayam rakhne ke nuskhe samjhaati post . post .

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया है .विचार प्रवाह को नै दिशा देती पोस्ट , संबंधों को आंच मुहैया कर वाती कायम रखने के नुस्खे समझाती पोस्ट . .

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर ....दस्तक देना बहुत जरुरी है तभी दरवाज़ा खुलता है !

    उत्तर देंहटाएं
  12. रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!

    वाह...बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  13. रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!
    dil se bane rishte hi sukun dete hain ...sundar rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  14. दस्तक दिए बिना कोई दरवाजा नही नही खोलता...सच कहा रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं...बहुत सुन्दर मन को छूती रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  15. विचार भी बीज की तरह हैं
    जो शब्‍दो से पनपते हैं
    समेटते हैं भावनाओं को
    बनाते हैं एक रिश्‍ता
    रूह से रूह का
    बहुत बहुत सुन्दर....
    दिल को छु लेनेवाले भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  16. रिश्‍ता कोई भी हो
    वो यूँ ही किसी की परवाह नहीं करता
    रिश्‍तों का पालन-पोषण
    करने के लिए
    दिल के दरवाजे पर
    दस्‍तक़ देनी होती है
    क्‍यूँ कि तुम ही तो कहते हो
    रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!

    very true.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूब

    हर रिश्ता जरुरी होता हैं ......

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी पोस्ट कल 14/6/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा - 902 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  19. ब्लॉग का नया रंग रूप आकर्षक है।
    रिश्तों की अहमियत पर लिखी गई इस कविता में जो सिद्दांत प्रतिपादित किए गए हैं वे शाश्वत सत्य हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. रिश्ते वाकई में किसी की परवाह नहीं करते.... और रिश्तों में सिर्फ दिल ही होता है.. .आपकी कविता यह वाली मुझे बहुत ही अच्छी लगी... एकदम मीनिंगफुल...

    उत्तर देंहटाएं
  21. आजकल वाकई में टाइम नहीं मिल पाता है.... इसीलिए आपकी कई पोस्ट्स पर कमेन्ट नहीं कर पाया... इसके लिए सॉरी... प्लीज़ माफ़ कर दीजियेगा.. अभी सारी छूटी हुई पोस्ट्स को पढ़ता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. रिश्ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं ! bilkul theek.

    उत्तर देंहटाएं
  23. सच कहा है रिश्तों कों बड़ी शिद्दत से सहेजना पड़ता है ... पलना पड़ता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. रिश्तों को किसी की परवाह नहीं होती...!

    बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  25. रिश्ते वाकई परवाह नहीं करते. कई दफा बार बार दस्तक देने पर भी नहीं खुलते दरवाजे.
    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  26. भूषण अंकल की बात से पूर्णतः सहमत हूँ। सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  27. रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!

    सहमत हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  28. रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!

    ....बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्रत्‍येक शब्‍द की उपज के लिए
    मस्तिष्‍क को दिल के रास्‍ते
    रूह तक पहुंचना होता है
    .....
    क्या कमाल की बात कही है आपने ...आपतो खैर आप ही हैं ये मेरा निजी दुर्भाग्य है कि मैं आपके लेखन को जानते हुए भी आपको पढ़ नहीं पाता !

    उत्तर देंहटाएं
  30. रिश्‍ता कोई भी हो
    वो यूँ ही किसी की परवाह नहीं करता
    रिश्‍तों का पालन-पोषण
    करने के लिए
    दिल के दरवाजे पर
    दस्‍तक़ देनी होती है
    क्‍यूँ कि तुम ही तो कहते हो
    रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!

    नै पुराणी हलचल पर दोबारा पढ़ी यह रचना आज भी उतना ही उद्वेलित करती रही यह भाव को अनुभाव को बुद्ध तत्व को .विचार को .रूह को .

    उत्तर देंहटाएं
  31. sada ji
    bilkul sahi v sateek baat kahi hai aapne------------
    rishte yun hi nahi bana karte
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  32. दिल के दरवाजे पर
    दस्‍तक़ देनी होती है
    क्‍यूँ कि तुम ही तो कहते हो
    रिश्‍ते दिमाग का नहीं
    दिल का मामला होते हैं !!!
    BEAUTIFUL LINES WITH DEEP THOUGHT AND GREAT FEELINGS.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....