सोमवार, 10 सितंबर 2018

बोलती ही नहीं !!!!

ये ख़ामोशी
सिर्फ बोलती ही नहीं
लड़ती भी है
और कई बार जंग भी हो जाती है
बिना किसी गोली बारूद के
और सब ख़त्म हो जाता है
ख़ामोशी से !!!!
...


शुक्रवार, 24 अगस्त 2018

बूँद बूँद गिरता नेह !!!!

सावन आता
बूँद बूँद गिरता
नेह मन का !
...
मेहंदी सजा
सावन में बहना
शुभ करती !
...
पावन रिश्ता
बंधन है स्नेह का
निभाना सदा !
...
अक्षत रोली
सजा थाली में राखी
बहना लाई !
...
चूड़ी खनके
मेंहदी वाले हाँथ
बाँधे जो राखी !
...

मंगलवार, 14 अगस्त 2018

उत्सव मनाना तुम !!!

स्वतंत्रता दिवस का
उत्सव मनाना तुम
तिरंगा भी फहराना पर
शपथ मत लेना उसके नीचे
आन बान शान की
तुम्हारे शब्दों की ये गुलामी
वो सह नहीं पायेगा
साये में उसके छल होता तो है
पर वो किसी से कह नहीं पायेगा !!!
...
जहाँ बेटी को जन्म देने से
माँ घबराती
मौत हो जाती है
भूख से
सौदेबाज़ी हो जाती
ख़ाकी वर्दी में
दरिंदों की बस्तियों में
कैद हो जाती है
मासूमियत सुरक्षा गृहों में
जश्न मनाने को बचा क्या
पढ़ाने को इतिहास में
रहा क्या ????

शुक्रवार, 3 अगस्त 2018

मन का मौसम !!!!

इन बेचैनियों को
सुकून तेरे साथ से मिलता है
दूरियों को ये बातें
मैं कैसे समझाऊं भला !
...
उदास शाम की क्यारी में
मैंने रोप दिया है पौधा
रात की रानी का
जब भी इसके क़रीब से गुजरोगे
मन का मौसम बदल जायेगा !!!
....


शुक्रवार, 27 जुलाई 2018

उगता हुआ सूरज !!!!

बुज़दिल होने से अच्छा है
मन को ताकतवर बनाया जाये
कुछ घूँट हौसले के
उम्मीद से भरकर
जिन्दगी को रोज़
उगता हुआ सूरज दिखाया जाये !!!


ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....