शनिवार, 3 नवंबर 2018

उत्सव के रंग .....

उत्सव के रंग से रंगी हो
द्वार की रंगोली
माँ लक्ष्मी के मङ्गल चरण
हों ड्योढ़ी पर
शुभ लाभ का निवास हो
स्वास्तिक प्रतीक के संग
उत्सव का आनन्द हो
घर के कोने-कोने में
दीपावली की शुभकामनाओं का
प्रकाश अन्तर्मन को
सदा यूँ ही आलोकमय रखे _/\_
....
© सीमा 'सदा'


बुधवार, 24 अक्तूबर 2018

माँ की ममता से !!!!

माँ तुम्हारे
शब्दों की विरासत
मेरी हथेलियों को देती है ताक़त
मन को संबल
कदमों को हौसला
मस्तिष्क को
कभी हार कर भी
नहीं हारने देना
सोचती हूँ
शब्दों में इतनी हिम्मत
पहले तो नहीं थी
जरूर तुमने अभिमंत्रित किया होगा
इन्हें अपनी ममता से
सुना है कि
माँ की ममता से
कोई पार नहीं पा सकता !!!
....


बुधवार, 26 सितंबर 2018

तर्पण करता मन !!!!

तर्पण करता मन
जब भी
भावनाओं की अँजुरी से
गंगाजल के साथ
कुछ बूँदें नयनों से भी
आ मिलतीं
पलकों की मुंडेर पे
कितने पलों को
भीगते देखा है हर बार
पितृपक्ष में पापा !!!
....

सोमवार, 10 सितंबर 2018

बोलती ही नहीं !!!!

ये ख़ामोशी
सिर्फ बोलती ही नहीं
लड़ती भी है
और कई बार जंग भी हो जाती है
बिना किसी गोली बारूद के
और सब ख़त्म हो जाता है
ख़ामोशी से !!!!
...


शुक्रवार, 24 अगस्त 2018

बूँद बूँद गिरता नेह !!!!

सावन आता
बूँद बूँद गिरता
नेह मन का !
...
मेहंदी सजा
सावन में बहना
शुभ करती !
...
पावन रिश्ता
बंधन है स्नेह का
निभाना सदा !
...
अक्षत रोली
सजा थाली में राखी
बहना लाई !
...
चूड़ी खनके
मेंहदी वाले हाँथ
बाँधे जो राखी !
...

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....