रविवार, 17 जनवरी 2021

ज़िंदगी की चाय !!!

ज़िंदगी की चाय में

उबाल देना

सारे रंजो-ग़म

अनबन की गाँठ वाली अदरक को,

कूट-पीटकर डाल देना

जिसका तीखा सा स्वाद भी

बड़ा भला लगेगा,

मिठास के लिए

ज़रा सा अपनापन

डालते ही

जायकेदार चाय

पिला सकोगे

अपने अपनो को !!!

...



बुधवार, 6 जनवरी 2021

मुस्कराहटों के मायने !!!

 मुस्कराहटों के मायने

मत पूछा करो तुम,

दर्द को छिपाने में 

 .... आँसुओं को,

पलकों की ....

कोरों पे रोकने में

अक़्सर ये,

शुभचिंतक हो जाती है!!!

©

    


गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

सजे हैं द्वार मन के !!!

 दिसम्बर का

इंतज़ार ख़त्म होने को है

21वीं सदी को

इक्कीसवें साल की

शुभकामनाएं देने

जनवरी सीढ़ी दर सीढ़ी

उतर रही है ...

शुभता की कामनाओं से

सजे हैं द्वार मन के,

उम्मीद ने बुलावा भेजा है

खुशियों को मंगल गीत गाने को,

आना ही होगा नव वर्ष को,

सबके आँगन …..

हर्ष और उत्कर्ष का

चर्मोत्कर्ष लिए !!!

.....


मंगलवार, 29 दिसंबर 2020

उम्मीदों की पिटारी लिए !!!

 उम्मीदों के माथे पे

कभी काला टीका भी लगा देना

बड़ा बेरोक-टोक ये

इसकी उसकी आँखों में

उतर जाती हैं

बन के अपनी सी !

….

जाने की तैयारी में है

दिसंबर 20 का

उम्मीदों की पिटारी लिये

जनवरी 21 की

दस्तक़ देने को आतुरता से

शुभ क्षण, शुभ दिन को

साथ लिए शुभकामनाओं भरा

शुभ बिहान साथ लाई है !!!

...



रविवार, 27 दिसंबर 2020

एक दुआ !!!

पावन सी एक दुआ

तेरे हक में

कच्चे सूत की

पक्के रँग वाली बाँध दी है

उम्मीद की गठानें मारकर!

..

जब भी गूँजेंगे

मंदिर में घण्टियों के स्वर

ईश्वर को इन

मन्नतों का स्मरण

जरूर होगा

विश्वास की डोर

नेह से बंधी

डोलती रहती है आगे-पीछे

पवित्र स्पर्श से !!!

...



ब्लॉग संग्रह

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....