मंगलवार, 30 जून 2020

वक़्त बोल रहा है !!!

सब की बोलती बंद है इन दिनों,
वक़्त बोल रहा है
बड़ी ही ख़ामोशी से
कोई बहस नहीं,
ना ही कोई,
सुनवाई होती है
एक इशारा होता है
और पूरी क़ायनात उस पर
अमल करती है!!!
सब तैयार हैं कमर कसकर,
बादल, बिजली, बरखा
के साथ कुछ ऐसे वायरस भी
जिनका इलाज़,
सिर्फ़ सतर्कता है
जाने किस घड़ी
करादे, वक़्त ये मुनादी.…
ढेर लगा दो लाशों के,
कोई बचना नहीं चाहिये!!
2020 फिर लौट कर
नहीं आएगा,
जो बच गया उसे
ये सबक याद रहेगा,
ज़िंदगी की डोर
सिर्फ़ ऊपरवाले के हाथ में है!!!
....


मंगलवार, 9 जून 2020

तसल्ली भरे शब्द सौंप दूँ !!

समय का साक्षात्कार
कभी यूँ भी होगा
किसने सोचा था
लम्बी-लम्बी योजनाओं में
समय के अवरोध
जीवन पर्यंत
याद रहेंगे, अपने अपनों से
मिलने के लिए
महीनों की प्रतीक्षा !
….
इजाज़त नहीं देता मन,
घटित घटनाओं को
अनदेखा कर
आगे बढ़ने को
पथिक से इन शब्दों की
चहलकदमी से सोचती
किसके दर्द को कम
किसके को ज्यादा आंककर
मैं तसल्ली भरे शब्द सौंप दूँ !!
किसके आँसुओं को
पोछकर उंगलियों से अपनत्व में
किसके काँधे पर,हौसले से भरी
हथेली रख दूँ, दिल, दिमाग
की कहूँ तो ….
इन दिनों, इन दोनों का
कोई तालमेल नहीं बैठता
दोनों ही बस बौखलाये
फिरते हैं, सच कुसूरवार कौन
सज़ा किसी और को मिलती है !!!
....

शनिवार, 18 अप्रैल 2020

ये महामारी है !!!

कुछ घोषणाओं, कुछ वादों को,
सरकारी नल से
पी लिया था जी भर ...
आज सुबह ही ओक से
किया था जब दातून ..
समझाया था मुनिया को,
किसी से भी, कहीं भी
कुछ मत ले लेना
ये महामारी है !
छूने से हो जाती है,
राजा और रंक में
कोई भेद नहीं करती !!
...
जब बंद हो जाता है आवागमन
तब कितना कुछ
मन के पास आ जाता है
बिना किसी पूर्व नियोजन के
बंद हैं बाज़ार सारे,
पैदल भी निकलने की
मनाही है
तभी निकल पड़ी भूख
बदहवास सी
कुछ भी, कहीं से भी, मिले
बस उसे तृप्त करना है,
उस क्षुधा को,
जिसने खो दिया है धैर्य,
पर ... दिखाना है उसे
भय मृत्यु का, सुरक्षित रहोगे
तभी खा पाओगे,
वर्ना एक श्वास भी
अपने मन से न ले पाओगे !!!
 ©

रविवार, 12 अप्रैल 2020

घर पर रहो, सुरक्षित रहो !!


बात सिर्फ़,
#मुलाक़ात की होती,
तुम कहते … तो मेरा आना
शायद हो भी जाता
पर, सवाल तुम्हारी और सबकी
ज़िंदगी का भी है …
घर पर रहो, सुरक्षित रहो,
मुझे कुछ लोगों को
अभी जीवन दान देना है !!!
....
© सीमा 'सदा'



शनिवार, 4 अप्रैल 2020

हार नहीं मानता !!!

मन जो है न,
तन रूपी क़बीले का सरदार,
स्वतंत्र और हर अंकुश से परे
कभी भावुकता इसकी
बिल्कुल माँ की तरह,
तो कभी कड़क बाबा के जैसे
जीवन की पगडंडियों पर
उछलता, कूदता, गिरता, सम्भलता
पर हार नहीं मानता !
...
© सीमा 'सदा'

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....