गुरुवार, 29 नवंबर 2012

मैं हँसता था जब वो कहकहों का दौर कोई और था ...!!!















यह सच है जब कोई रूठा हो तो फिर हँसकर बात नहीं करता,
आहत हो जाता मन कितना जब कोई अपना बात नहीं करता  ।

अपनों की  भीड़ में सिकुड़ा सिमटा रहता हूँ जैसे कैदी हो कोई,
डालकर नज़र बढ़ जाते हैं आगे पर कोई भी बात नहीं करता ।

मैं हँसता था जब वो कहकहों का दौर कोई और था अब देखो,
होठों पर मुस्‍कान लिए बैठा हूँ फिर भी कोई बात नहीं करता ।

मैं वही हूँ वही है वजूद मेरा फिर भी अनमना सा क्‍यूँ है कोई,
कहता हूँ जब भी कुछ सुन लेते हैं पर कोई भी बात नहीं करता ।

दौर कितना भी मुश्किल आए इतना भी मुश्किल न हो जाए
अपनों की महफिल़ में कोई अपनों से ही जब बात नहीं करता ।

36 टिप्‍पणियां:

  1. खलता जब खुलते नहीं, रविकर सम्मुख होंठ |
    देह-पिंड में क्यूँ सिमट, खुद से लेता गोंठ ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपनों की महफिल़ में कोई अपनों से ही जब बात नहीं करता ।

    वक्त से आगे कहाँ निकल गई आप? खुश रहें और मस्त रहें ,
    ऐसा वक्त हमे ही काटने दें !
    सटीक अहसास ......
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये जिंदगी का सबसे कठिन दौर हैं ...जब इंसान खुद में अकेला हो जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  5. कैसे कह दूँ के मुलाक़ात नहीं होती है ...
    रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है .....

    बहुत सुंदर लिखा है सदा जी ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. दायरे इनकार के इकरार की सरगोशियाँ
    ये अगर टूटे कभी तो फासला रह जाएगा
    ............................

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपनों की भीड़ में सिकुड़ा सिमटा रहता हूँ जैसे कैदी हो कोई,
    डालकर नज़र बढ़ जाते हैं आगे पर कोई भी बात नहीं करता ।

    बहुत खूब कहा है...सच्चाई व्यक्त की है आपने अपनी इस रचना में...बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  8. सदा जी माफ़ किजिये मुझे ये पोस्ट कुछ खास पसंद नहीं आई........आपकी अपनी ही लेखनी का मुकाबले ये बहुत फीकी से लगी :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच कहती बेहद खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. समय समय की बात है समय ही सब कराते है
    कभी हमको सर-आखों पर बैठाते थे व अब आँख चुराते हैं.

    bahut achchha ehsas Sada ji

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति |सच में भीड़ में अकेले सिमट कर रह जाना बहुत खलता है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  13. दौर कितना भी मुश्किल आए इतना भी मुश्किल न हो जाए
    अपनों की महफिल़ में कोई अपनों से ही जब बात नहीं करता ।

    मानव मनोविज्ञान की परतों ,आहत मन की परतों को खोलती रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  14. उगते सूर्य को सभी नमन करते है, अस्ताचल को जाते सूर्य को कोई नही पूछता!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. @ वक्त से आगे कहाँ निकल गई आप?
    ऐसा वक्त हमे ही काटने दें !

    मैं कहने ही वाली थी कि ये पोस्ट तो सलूजा जी को लिखनी चाहिए थी
    तस्वीर भी उनसे मिलती जुलती है ....

    उत्तर देंहटाएं
  16. सदा जी!!
    रविन्द्र नाथ ठाकुर ने कहा था कि तुम्हारी पुकार पर कोई न साथ आये, तो तुम अकेले चलो. यह भी कहा गया कि लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया. लगता है अब यह कहने का वक्त आ गया है कि अगर कोई बात नहीं करता तो खुद से बात करो.. कभी दिल पे हाथ रखकर सोचिये कि कितने युग बीत गए जब हमने खुद से बात नहीं की!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर प्रस्तुति । धन्यवाद ।
    मेरी नयी पोस्ट "10 रुपये के नोट नहीं , अब 10 रुपये के सिक्के" को भी एक बार अवश्य पढ़े ।
    मेरा ब्लॉग पता है :- harshprachar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  18. ब्लॉग बुलेटिन पर भी इस पोस्ट को बांचा .वहां पोस्ट पर टिपण्णी करना मना है ,
    मैं हँसता था जब वो कहकहों का दौर कोई और था अब देखो,
    होठों पर मुस्‍कान लिए बैठा हूँ फिर भी कोई बात नहीं करता । वो कहकहे मोहन राकेश के साथ कब के गए .कमलेश्वर भी गए दुष्यंत भी गये .

    उत्तर देंहटाएं
  19. सोनल जी ने सही कहा है कि जिन्दगी में ऐसे भी दौर आते हैं ,सदा जी सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस जिन्दगी में अक्सर ऐसे भी दौर आये,
    दिल खून रो रहा था और मैंने गीत गाये,,,,

    resent post : तड़प,,,

    उत्तर देंहटाएं
  21. मनोभावों को बहुत ही सुन्दर शब्दों में व्यक्त किया है आपने .आभार आत्महत्या:परिजनों की हत्या

    उत्तर देंहटाएं
  22. तेज़ रफ़्तार जिंदगी का सच यही है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. जीवन के इक मोड़ पे आकर हम फिर से मिल जाएं भी तो
    लब थिरकेंगे, दिल मचलेगा, पर आपस में बात न होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  24. मुझे लगता है कि
    मै एक नही कई हू
    मै देख रहा हू
    एक साथ ढेर सारे लोग
    मेरे मुखौटे लगाये हुये
    किंतु
    भाव अलग अलग है
    ये सभी
    मै होने का दावा करते है
    छिडा है भीषण युद्ध
    मेरे द्वारा मेरे विरुद्ध्

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत ही उम्दा ख्याल है, हृदयस्पर्शी प्रस्तुति बधाई स्वीकारें दी
    दौर कितना भी मुश्किल आए इतना भी मुश्किल न हो जाए
    अपनों की महफिल़ में कोई अपनों से ही जब बात नहीं करता ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही शानदार रचना वाह वाह

    सदा जी आपके ब्‍लाग से एक ज्ञान तो हमे मिला है कि यह जरूरी नही की आपके ब्‍लाग पर कितने व्‍यक्त्‍िा टिप्‍पणी करते है बल्कि यह मायने रखता है कि आप कितने ब्‍लागो पर कमेन्‍ट देते हो ,

    फेसबुक थीम को बदले

    उत्तर देंहटाएं
  27. समय करे नर क्या करे ,समय समय की बात ,

    किसी समय के दिन बड़े ,किसी समय की रात .

    हाँ .आखिरी सफर अकेला है .महाप्रयाण पे जाने से पहले यह बोध हो जाए तो अच्छा है .अपने साथ रहना सीखना चाहिए हर किसी को ,लुत्फ़ भी ले लें जरा सा खुद से रु -ब -रु होने का .

    उत्तर देंहटाएं
  28. दौर कितना भी मुश्किल आए इतना भी मुश्किल न हो जाए
    अपनों की महफिल़ में कोई अपनों से ही जब बात नहीं करता ।


    वाह सदा जी क्या कहने बेहद उम्दा पोस्ट

    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/11/3.html

    उत्तर देंहटाएं
  29. अपनों की महफिल़ में कोई अपनों से ही जब बात नहीं करता...तभी वे दिन याद आते हैं जब छोटी छोटी बातों पर भी कहकहे लगते थेः)

    उत्तर देंहटाएं
  30. यह सच है जब कोई रूठा हो तो फिर हँसकर बात नहीं करता,
    आहत हो जाता मन कितना जब कोई अपना बात नहीं करता ...

    सच कहा है ... कोई अपना हो ओर बात न करे तो मन आहट होना स्वाभाविक है ...
    लाजवाब रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....