शनिवार, 1 दिसंबर 2012

मेरी माँ.. हर विधा में प्रवीण ... स्‍नेह !!!

शब्‍दों के चौक पर ..
भावनाओं का कलश विराजित कर
माँ... की तर्जनी ने पहला पन्‍ना खोला
अनामिका  ने झट ऊँ लिखा
शब्‍दों ने मिलकर पंक्ति की रचना की
सबने मिल-जुल कर स्‍नेह की एक भूमिका बांधी
अपना नाम सुनते ही स्‍नेह ने झट से
माँ की विशेषता बताई
कैसे करनी है उसे सबकी अगुआई
...
मेरी माँ.. हर विधा में प्रवीण
माँ वीणापाणि की सेवा में निस्‍वार्थ भाव से रत रहती
स्‍नेह को जब भूख लगती माँ
झट-पट पकाती लज़ीज खाना हँसते-मुस्‍कराते
स्‍नेह के मुँह में कौर रखती औ सिर पे ममता का हाथ
पता नहीं उस ममतामयी का क्‍या जादू होता
स्‍नेह की आंखे बोझिल होने लगती
माँ गुनगुनाती लोरी मीठे शब्‍दों की
स्‍नेह सपनों की दुनिया में परियों के संग खेलती खेल,
तब तक का सारा वक्‍त माँ लेखन को समर्पित करती
...
एक दिन स्‍नेह ने मासूम सवाल किया ?
तुम जब देखो काम करती रहती हो
कभी हम बच्‍चों का ध्‍यान तो कभी लिखती दिखती हो
बस आराम नहीं करती, माँ सहज भाव से मुस्‍कराते हुये ...
लेखन मेरा 'प्रेम' है  इसके बिना मेरी हर सांस अधूरी है
स्‍नेह की नन्‍हीं पलकें हैरानी से फैल गईं
वो धीमे स्‍वर में बोली 'प्रेम' लेकिन माँ !
किसी को पता चल गया तो आपको प्रेम है तब
माँ उसके सवाल पर हँसी ये प्रेम तो मुझे विरासत में मिला है !
माँ सरस्‍वती की आराधना में निस्‍वार्थ भाव से किया गया कार्य
उनकी श्रेष्‍ठ उपासना है, जिसे माँ सहर्ष स्‍वीकार कर बदले में
यश, ख्‍याति और आत्‍मसंतुष्टि दे हर क्षेत्र में अपराजित रखती है !
...
स्‍नेह ने माँ के गले में नन्‍हीं बांहे डाली और बोली तभी तो
सब आपको प्‍यार और सम्‍मान देते हैं
माँ ने समझाया ..
इसके पहले मैं सबकी भावनाओं का मान करती हूँ
हर नये व्‍यक्ति के आने पर बिना किसी परिचय के उसकी चौखट पर
दस्‍तक़ देती हूँ .. उसे सबसे मिलाती हूँ
फिर यूँ ही खोजते-खोजते अपनी इस अमूल्‍य निधि में
जाने कितने रत्‍नों का संग्रह करते हुए नित सूरज के उगते ही
हर दिशा में एक नई तलाश के साथ
मैं अभिषेक करती हूँ आपनी भावनाओं का तभी पाती हूँ
यह प्‍यार और सम्‍मान याद रखो जो हम पाना चाहते हैं पहले
हमें वही औरों को देना होता है..
स्‍नेह ने समझदारी दिखाई तो मैं आपकी हेल्‍प कैसे कर सकती हूँ
मुझे तो बस आपका ही प्‍यार चाहिये
माँ ने उसकी इस शैतानी पर भी मुस्‍कराते हुये कहा
हर आने वाले का स्‍वागत ! जाने वाले को शुभकामनायें !! देते हुये चुप बैठो !!!
(आदरणीय रश्मि प्रभा जी , जो मेरे ही नहीं कितनों के अन्दर माँ सी छवि लिए रहती हैं -
उनसे जब भी कुछ सुना,पढ़ा,सीखा तो लगा कुछ कहूँ ')

39 टिप्‍पणियां:

  1. आपने तो सबके हिस्से का कह दिया ...वाकई ..:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर पोस्ट.........रश्मि जी का योगदान अमूल्य है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन कविता ...मन और दिल दोनों को छू गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी आँखों में तुमसब अति विशिष्ट ..........
    स्नेह,आशीष,शुभकामनायें ..... दुआएँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह दी वाह एक ही रचना में इतना कुछ कह दिया सचमुच पढ़कर आनंद आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जय हो ... सारे भाव समेट लिए आपने तो !

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिसने भी
    स्नेह से गले लगाया
    मुझे जीवन दर्शन
    समझाया
    विपत्ति में साथ निभाया
    समय से लड़ना सिखाया
    साथ रोया साथ हंसा
    हर पल अपने साथ पाया
    उसे ही
    माँ का रूप समझा मैंने
    उसे ही नमन किया मैंने

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति |
    सदा बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर रचना सदा जी !:)
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सचमुच बहुत ही खुबसूरत लाइन और रश्मि प्रभा जी का योगदान .

    उत्तर देंहटाएं
  11. हर दिशा में एक नई तलाश के साथ
    मैं अभिषेक करती हूँ आपनी भावनाओं का तभी पाती हूँ
    यह प्‍यार और सम्‍मान याद रखो जो हम पाना चाहते हैं पहले
    हमें वही औरों को देना होता है..

    ....एक शास्वत सत्य की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  12. जिसको भी साथ मिला रश्मि जी का उनके मन के भाव उकेर दिये हैं .... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  13. उन सभी में एक छोटा सा नाम मेरा भी है | आपने वाकई बहुत अच्छे से हम सब के मन का लिख दिया |
    और साथ ही जो तस्वीर अपने प्रयोग की है , न जाने क्यूँ ये तस्वीर मुझे बहुत पसंद है |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    दो दिनों से नेट नहीं चल रहा था। इसलिए कहीं कमेंट करने भी नहीं जा सका। आज नेट की स्पीड ठीक आ गई और रविवार के लिए चर्चा भी शैड्यूल हो गई।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (2-12-2012) के चर्चा मंच-1060 (प्रथा की व्यथा) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  15. हर आने वाले का स्‍वागत ! जाने वाले को शुभकामनायें !! देते हुये चुप बैठो !!
    आदरणीय रश्मि जी का कहा सोलह आने सच है , साथ ही सच ये भी है की हमे स्वयं उनमे सदा माँ की छवि ही दिखती है।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर कृतज्ञता ज्ञापन रश्मि प्रभाजी के लिए! बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  17. .... बहुत ही खुबसूरत लाइन...बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपने सही कहा,,,
    आदरणीय रश्मि प्रभा जी , जो मेरे ही नहीं कितनों के अन्दर माँ सी छवि लिए रहती हैं -
    उनसे जब भी कुछ सुना,पढ़ा,सीखा तो लगा कुछ कहूँ ')

    बहुत उम्दा भावअभिव्यक्ति,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  19. मां बेटी के निश्छल प्रेम और सरस्वती की आराधना की इससे बढ़िया अभिव्यक्ति क्या हो सकती है. सदा जी! आपकी लेखनी तो सरिता के प्रवाह की तरह स्वाभाविक गति से निरंतर चलती है. कमाल है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सच-मुच उम्दा

    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/11/3.html

    उत्तर देंहटाएं
  21. पढते हुये मुझे ऐसा ही लग रहा था जैसे रश्मि जी के लिये लिखा गया हो और जब आखिर में पढा तो लगा कि हाँ कुछ जानने लगी हूँ उन्हें :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. समेटा नहीं जाता प्रेम कैसे होवूं ऋण मुक्त

    उत्तर देंहटाएं
  23. मन के भावो को बहुत ही सादगी और
    सुन्दरता से व्यक्त किया है..बहुत ही खुबसूरत रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  24. waah bahut sundar ..behtreen abhiwykti ...sabke dil ki baat kah di AAPNE TO IS RACHNA MEIN ....

    उत्तर देंहटाएं
  25. रश्मि दी के लिए लिखा तो रचना खुद-ब-खुद अनमोल हो गई
    ऐसी ही हैं हम सबकी प्यारी रश्मि दी !!

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही खुबसूरत प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  27. स्‍नेह ने माँ के गले में नन्‍हीं बांहे डाली और बोली तभी तो
    सब आपको प्‍यार और सम्‍मान देते हैं
    माँ ने समझाया ..
    इसके पहले मैं सबकी भावनाओं का मान करती हूँ
    हर नये व्‍यक्ति के आने पर बिना किसी परिचय के उसकी चौखट पर
    दस्‍तक़ देती हूँ .. उसे सबसे मिलाती हूँ
    फिर यूँ ही खोजते-खोजते अपनी इस अमूल्‍य निधि में
    जाने कितने रत्‍नों का संग्रह करते हुए नित सूरज के उगते ही
    हर दिशा में एक नई तलाश के साथ
    मैं अभिषेक करती हूँ आपनी भावनाओं का तभी पाती हूँ
    यह प्‍यार और सम्‍मान याद रखो जो हम पाना चाहते हैं पहले
    हमें वही औरों को देना होता है..

    मैं अभिषेक करती हूँ आपनी ............(अपनी )...........भावनाओं का तभी पाती हूँ .

    आदर करने से आदर नेहा से नेहा मिलता है ......यही सीख है माँ के कोमल स्पर्श संसर्ग की .

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत सुन्दर भाव हैं सदा......
    रश्मि दी के लिए हम सबकी भावनाएँ ऐसी ही हैं...
    उनके ख़याल से ही मन में आदर और प्रेम उमड़ता है..
    आभार..

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  29. निश्छल प्रेम की इस अविरल धारा का आनंद केवल महसूस ही किया जा सकता है ...
    दिल में सीधे उतर जाती है ये रचना ...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....