सोमवार, 17 दिसंबर 2012

कुछ रिश्‍ते ... (8)













कुछ रिश्‍ते
सिर्फ सम्‍मान के होते हैं
सम्‍बोधन उनका कुछ भी हो
बस उन्‍हें
सज़दा करने का जी चाहता है !
.....
कुछ रिश्‍ते
जो अभिमानी होते हैं
उन्‍हें सिर्फ विनम्रता से ही
एक नई राह पर
लाया जा सकता है !
.....
कुछ रिश्‍ते
गुल्‍लक होते हैं
जिनमें हर रोज़ डालना होता है
कुछ अंश स्‍नेह का !
....
कुछ रिश्‍ते
पूँजी होते हैं जीवन की
जिनके संचय में
हर पल सावधानी
रखना आवश्‍यक होता है !
....
कुछ रिश्‍ते
सिर्फ आखेट हो जाते हैं
रिश्‍तों के नाम पर
और अपना मान खो देते हैं !

...

48 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ रिश्‍ते
    सिर्फ आखेट हो जाते हैं
    रिश्‍तों के नाम पर
    और अपना मान खो देते हैं !

    सही भी सार्थक भी

    मेरी नई कविता आपके इंतज़ार में है: नम मौसम, भीगी जमीं ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ रिश्ते आखेट होते हैं ...सच्चे अच्छे , खट्टे मीठे रिश्तों के बीच ऐसे रिश्ते भी होते ही हैं , कब तक आँख मूंदे रहें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ रिश्‍ते
    सिर्फ आखेट हो जाते हैं
    रिश्‍तों के नाम पर
    और अपना मान खो देते हैं !"

    सही चित्रण किया रिश्तो का---

    रिश्ते भी पोधो के सामान होते है जहाँ रोज़ पानी डालो तो फलेगे -फुलेगे ..और पानी नहीं तो मुरझा जायेगे ---

    उत्तर देंहटाएं
  4. रिश्तों को बड़ी गूढ़ नज़रों से देखा है. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर रिश्तों की व्याख्या !

    ~रिश्तों की राह,
    है बहुत कठिन,
    रखना पाँव,
    सँभल -सँभल के,
    कोई दिल ना दुखे!~

    -सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. रिश्तों पर सुंदर गहन अभिव्यक्ति .....सदा जी ॥

    उत्तर देंहटाएं
  7. गुल्लक का बिम्ब बहुत अच्छा लगा .... सभी क्षणिकाएं सत्य को कहती हुई ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. रिश्तों को बहुत सम्हाल कर रखना होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ रिश्‍ते
    गुल्‍लक होते हैं
    जिनमें हर रोज़ डालना होता है
    कुछ अंश स्‍नेह का !
    .... बहुत सुंदर रिश्तों की अभिव्यक्ति सदा जी........

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत कुछ सीखा गई रिश्तों के बारे में ....

    शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. कुछ रिश्‍ते
    सिर्फ आखेट हो जाते हैं
    रिश्‍तों के नाम पर
    और अपना मान खो देते हैं !

    ...बिल्कुल सच..रिश्तों के विभिन्न रूपों का सुन्दर और सटीक आंकलन..

    उत्तर देंहटाएं
  12. रिश्तों की पहचान ...आजकल बहुत जरूरी है .....
    आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  13. कुछ रिश्‍ते
    सिर्फ आखेट हो जाते हैं
    रिश्‍तों के नाम पर
    और अपना मान खो देते हैं !

    बिल्कुल सच..रिश्तों के विभिन्न रूपों का सुन्दर और सटीक आंकलन..
    रिश्तों पर सुंदर गहन अभिव्यक्ति .....सदा जी ॥

    उत्तर देंहटाएं
  14. रिश्तों का गणित बहुत उलझा होता है और एक बार समझ आ जाये तो दो और दो चार हो जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. रिश्तों को समझना बड़ी उलझन का काम है सदा जी, आपने बहुत अच्छी व्याख्या की है इनकी...

    उत्तर देंहटाएं
  16. रिश्ते इतने हसीं होते हैं जिनके सजदे में सर झुकाया जा सकता है, जहाँ अभिमान होता नहीं, प्रेम रूपी धन से भरा दिल सदा हमारा इंतज़ार करता है

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 18/12/12 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका इन्तजार है

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुंदर व्याख्या की रिश्तों की आपने, शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं


  19. कुछ रिश्‍ते
    गुल्‍लक होते हैं
    जिनमें हर रोज़ डालना होता है
    कुछ अंश स्‍नेह का !

    वाऽह ! क्या बात है !
    बहुत खूबसूरत !
    आदरणीया सदा जी
    सुंदर कविता के लिए आभार !

    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं
  20. सही चित्रण किया रिश्तो का.....

    उत्तर देंहटाएं
  21. रिश्तों की बेहतरीन अभिव्यक्ति,सुंदर चित्रण,,,,

    recent post: वजूद,

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुछ रिश्‍ते
    सिर्फ आखेट हो जाते हैं
    रिश्‍तों के नाम पर
    और अपना मान खो देते हैं !"रिश्तों की सुन्दर चित्ररण किया है

    उत्तर देंहटाएं
  23. सजदा वाले और गुल्लकवाले रिश्ते समझ में आ जाते हैं पूँजीवाले भी ठीक पर शेष को समझना टेढ़ी खीर है !

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत बहुत सुन्दर ......
    हर परिभाषा पर दिल भीगा जाता है....
    बेहद खूबसूरत...
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 22/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  26. रिश्तों का निभाना एक कला है। खेल नहीं। खेल समझने वाले हारते ही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  27. कुछ रिश्‍ते
    गुल्‍लक होते हैं
    जिनमें हर रोज़ डालना होता है
    कुछ अंश स्‍नेह का !
    ..............................................
    हाल के दिनों में ब्लॉग पर की सर्वोत्तम रचना.......................

    उत्तर देंहटाएं
  28. रिश्तों के अनेक रूप उजागर करती ... लाजवाब रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. रिश्तों की ये पूरी सीरीज ही काबिले तारीफ है ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. सच ही कहा है किसी ने रिश्ते बनाना बहुत आसान है मगर निभाना उतना ही मुश्किल... :)रिश्तों को परिभाषित करती सुंदर एवं सार्थक रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  31. रिश्तों की नज़ाकत को उतनी ही नाज़ुकी से बयान किया है आपने हर रंग में.. रंगों की विविधता ने कविता को इन्द्रधनुषी बना दिया है!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. रिश्तों की धूप मन को सहलाती है...सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  33. सदा जी हमारी महाता तभी है जब हम दूसरो के ब्‍लाग पर भी कमेनट करे

    उत्तर देंहटाएं
  34. हर रिश्ते की अपनी ही परिभाषा होती है

    उत्तर देंहटाएं
  35. हर रिश्ते का भूगोल वर्णित कर दिया आपकी इस रचना ने...सुंदर प्रस्तुति।।।

    उत्तर देंहटाएं
  36. कुछ रिश्‍ते
    सिर्फ आखेट हो जाते हैं
    रिश्‍तों के नाम पर
    और अपना मान खो देते हैं !
    ..सच आज यही हाल होता जा रहा है रिश्तों का ..
    बहुत बढ़िया चिंतन कराती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  37. रिश्तों की सच्चाई को बयां करती खुबसूरत रचना ..
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  38. bahut sundar Vyakhyaa ki hai rishto'n ki apne ...
    Atti sundar ...sada sis

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....