गुरुवार, 27 दिसंबर 2012

मौन ही होता जहाँ अभिषेक !!!

मेरी खामोशियों को देख
शब्‍द आपस में कानाफूसी करते हैं इन दिनो
अपने-अपने क़यास लगाते
जुबां कुछ कहने को तैयार नहीं
मन अपनी धुन में
हर वक्‍़त शून्‍य में विचरता
आखिर वज़ह क्‍या है ??
...
बहुत सोचने पर
एक जवाब आता कहीं भीतर से
हो रहा है कुछ ऐसा
जो नहीं होना चाहिए था
घट रहा है कुछ ऐसा जिसे नहीं घटना था
बस ये चुप्‍पी उस घटित के होने की है
जैसे कोई शांत जल में मारता कंकड
मच जाती एक उथल-पुथल चारों ओर
भंग हो जाती जैसे कोई समाधि
क्षण भर ... मात्र क्षण भर को ही होता ऐसा
फिर झांकती खामोशी मेरी आँखों में
....
कुछ टूटा दिखाई नहीं देता फिर भी
टूटने का स्‍वर कहीं है अन्‍तर्मन में ही
इस खामोशी में !!!!!
तुम्‍हें पता है खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
सांझा करने में जाने इन्‍हें कैसा सुकून मिलता है
जब कभी जलते हैं सपने
ये चुपके से ले आती खारा पानी आँखों में
मौन ही होता जहाँ अभिषेक !!!

32 टिप्‍पणियां:

  1. मच जाती एक उथल-पुथल चारों ओर
    भंग हो जाती जैसे कोई समाधि
    क्षण भर ... मात्र क्षण भर को ही होता ऐसा
    फिर झांकती खामोशी मेरी आँखों में ......superb .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्कृष्ट ...बहुत सुंदर सुकून देती रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. wahhh....sis..तुम्‍हें पता है खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
    behad umda Rachna ...Badhai..!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ टूटा दिखाई नहीं देता फिर भी
    टूटने का स्‍वर कहीं है अन्‍तर्मन में ही
    इस खामोशी में !!!!!

    बस यही हाल है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
    सांझा करने में जाने इन्‍हें कैसा सुकून मिलता है ..
    वाकई..
    बहुत अच्छी रचना सदा...
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सोचने पर
    एक जवाब आता कहीं भीतर से
    हो रहा है कुछ ऐसा
    ------------------
    बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. दीदी आस पास घटित घटनाएं जब मन को व्यथित करती हैं तो ऐसा हाल होता है, आपने भावनाओं का बहुत सुन्दर वर्णन किया है बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम्‍हें पता है खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
    सांझा करने में जाने इन्‍हें कैसा सुकून मिलता है
    जब कभी जलते हैं सपने
    ये चुपके से ले आती खारा पानी आँखों में
    आज सब की यही स्थति है ,क्या कहूँ इस रचना पर ................

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 29/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आँखों का यह खारा पानी कितने शब्द दे जाता है, इन खामोशियों को शायद उसे जो सुन सका वही जान सका... गंभीर भाव... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  11. खामोशियों की भी अपनी ज़ुबान होती है ..जो मौन रहकर भी बहुत कुछ कह जाती हैं ..
    जैसे आप की ये रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2012) के चर्चा मंच-११०७ (आओ नूतन वर्ष मनायें) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  13. शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .

    मेरी खामोशियों को देख
    शब्‍द आपस में कानाफूसी करते हैं इन दिनो इन दिनों ......
    अपने-अपने क़यास लगाते
    जुबां कुछ कहने को तैयार नहीं
    मन अपनी धुन में
    हर वक्‍़त शून्‍य में विचरता
    आखिर वज़ह क्‍या है ??

    आग लगी है साऱी कायनात को इन दिनों ....

    बड़ी ही मौजू रचना है भाव और शब्दों की लयात्मक ताल लिए .

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 खबरनामा सेहत का

    उत्तर देंहटाएं
  14. बस ये चुप्‍पी उस घटित के होने की है
    जैसे कोई शांत जल में मारता कंकड

    बिलकुल ठीक व्यक्त किया है. अबकी बार तो लगता है इन पापियों ने पहाड़ ही फेंक दिया है. बहुत सुन्दर लगे भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  15. kuchh toot jane ka swar kewal apna man hee to sunta hai...behad achhe rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच ... आज कल कुछ ऐसा ही हो रहा है .... खामोश हैं पर मन मेन न जाने कितना तूफान है .... बहुत भाव पूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुछ टूटा दिखाई नहीं देता फिर भी
    टूटने का स्‍वर कहीं है अन्‍तर्मन में ही
    इस खामोशी में !!!!!
    --------------------------
    भावपूर्ण सुंदर प्रस्तुति,,,,

    recent post : नववर्ष की बधाईबहुत ही सुंदर प्रस्तुति,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  18. तुम्‍हें पता है खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
    सांझा करने में जाने इन्‍हें कैसा सुकून मिलता है
    जब कभी जलते हैं सपने
    ये चुपके से ले आती खारा पानी आँखों में
    मौन ही होता जहाँ अभिषेक

    ....उत्कृष्ट अहसास और उनकी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत कुछ बोलती हैं ये खामोशियाँ....~खूबसूरत रचना सदा जी !
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. उम्दा भावपूर्ण रचना ।
    मेरी नई पोस्ट में आपका स्वागत है ।
    ख्वाब क्या अपनाओगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  21. कुछ टूटा दिखाई नहीं देता फिर भी
    टूटने का स्‍वर कहीं है अन्‍तर्मन में ही
    इस खामोशी में !!!!!
    तुम्‍हें पता है खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
    सांझा करने में जाने इन्‍हें कैसा सुकून मिलता है
    जब कभी जलते हैं सपने
    ये चुपके से ले आती खारा पानी आँखों में
    मौन ही होता जहाँ अभिषेक !!!

    आपने मौन के रुदन से आंसूं निकाल सचमुच अभिषेक कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  22. सब मौन, कुछ शासित सा, कुछ शापित सा।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सोचने पर
    एक जवाब आता कहीं भीतर से
    हो रहा है कुछ ऐसा
    जो नहीं होना चाहिए था
    घट रहा है कुछ ऐसा जिसे नहीं घटना था
    बस ये चुप्‍पी उस घटित के होने की है
    जैसे कोई शांत जल में मारता कंकड
    मच जाती एक उथल-पुथल चारों ओर
    भंग हो जाती जैसे कोई समाधि
    क्षण भर ... मात्र क्षण भर को ही होता ऐसा
    फिर झांकती खामोशी मेरी आँखों में ... अद्भुत एहसास

    उत्तर देंहटाएं
  24. कुछ टूटा दिखाई नहीं देता फिर भी
    टूटने का स्‍वर कहीं है अन्‍तर्मन में ही
    इस खामोशी में !!!!!
    ............बेहद अद्भुत एहसास सदा दी

    @ संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  25. मौन ...बवंडर समेटे विचारों का ...बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  26. तुम्‍हें पता है खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
    सांझा करने में जाने इन्‍हें कैसा सुकून मिलता है
    जब कभी जलते हैं सपने
    ये चुपके से ले आती खारा पानी आँखों में
    मौन ही होता जहाँ अभिषेक !!!

    सुंदर प्रस्तुति...हमेशा की तरह।।।

    उत्तर देंहटाएं
  27. कुछ टूटा दिखाई नहीं देता फिर भी
    टूटने का स्‍वर कहीं है अन्‍तर्मन में ही
    इस खामोशी में !!!!!

    खूबसूरत अहसास.

    उत्तर देंहटाएं
  28. सच है की ऐसा बहुत कुछ जो आस-पास होता रहता है पर कई बार दिखाई नहीं देता ... पर मन को उदास कर जाता है अनायास ही ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. जब कभी जलते हैं सपने
    ये चुपके से ले आती खारा पानी आँखों में
    मौन ही होता जहाँ अभिषेक !!!

    बहुत बढ़िया लिखा है

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....