गुरुवार, 22 नवंबर 2012

कुछ रिश्‍ते ... (7)

कुछ रिश्‍ते
धोखा होते हैं
जो छल करते हुए
जिन्‍दा रहते हैं !
.....
कुछ रिश्‍ते
अंबर होते हैं
कहीं भी रहो
वो अपना साया कर देते हैं !
.....
कुछ रिश्‍ते
बन जाते हैं स्‍वयं ही
कुछ बनाये जाते हैं
कुछ टूट जाते हैं
फिर भी निभाये जाते हैं !
...
कुछ रिश्‍ते
हमेशा साथ होते हैं
चाहे वक्‍त उनमें कितनी भी
दूरियां ले आये !
...
कुछ रिश्‍ते सूख जाते हैं
वक्‍़त की धूप में जब भी
एक प्‍यास जागती है मन में
इन्‍हें नम रखने के लिए !!!
....

30 टिप्‍पणियां:

  1. रिश्तों की बेहद सुन्दर गाथा गूँथ दी है आपने सदा दीदी, ह्रदय स्पर्शी रचना बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ रिश्तों का रूमानी संसार ज़िंदा रखता है आदमी को बादे मर्ग (मौत के बाद )भी .बढ़िया प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं

  3. एक उलझन सी है जिसमें
    कुछ ख्‍याल उलझ गये हैं
    कुछ गुथे से हैं एक दूसरे में (गुंथे से हैं एक दूसरे में )
    अपनी मैं का मान लिए
    सबके सम्‍मान में
    खामोश सी मैं एक
    नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी
    कहीं वो गुम न जाए
    ख्‍यालों की भीड़ में !!!

    गुंथे शब्द ठीक करें कृपया ,देखिये मैंने ऊपर "दुसरे" का शुद्ध रूप दूसरे लिख दिया है यह गलती मुझसे हुई थी .गूंथना शब्द है .

    बढ़िया एहसासात को संजोये हैं ये चंद पंक्तियाँ .

    उत्तर देंहटाएं
  4. गहन और सशक्त ....जीवन दर्शन कराती रचना ...सदा जी ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर.....सुन्दर....सुन्दर..........
    कुछ रिश्‍ते सूख जाते हैं
    वक्‍़त की धूप में जब भी
    एक प्‍यास जागती है मन में
    इन्‍हें नम रखने के लिए !!!
    ये तो लाजवाब है.......
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर एहसासों को संजोये आपकी यह रचना अच्छी लगी. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. रिश्तों की परख करती सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन को छू लेने वाली पंक्तिया

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ रिश्‍ते
    धोखा होते हैं
    जो छल करते हुए
    जिन्‍दा रहते हैं !
    Kitna bada sach kah diya aapne!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं
  12. रिश्ते स्वयं को संजोये जाते देखना चाहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रिश्ते होते हैं मीठे नमकीन कडवे तीते
    फिर भी हम इंन्हे निभाते हैं चाहे हारें या जीते ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत शानदार रचना आपको बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह सदाजी ...रिश्तों को खूब पहचाना और परिभाषित किया ....एक रिश्ता और होता है ...अनदेखा ..अनजाना मगर प्यारा सा ...जो हमारे बीच है .....:)

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच में रिश्तों के बहुत रूप होते हैं बहुत बढ़िया प्रस्तुति बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर रिश्ते का अपना महत्व और अपनी कहानी है

    उत्तर देंहटाएं
  18. रिश्तों में सदा जी सदा सिक्तता ही होती है जो छल और टूटन से दूर होती है. रिश्तों को सदा अपनी भांति नम रखें अम्बर की विशालता आपने आप समा जाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. रिश्तों के विभिन्न रूप...बहुत सुंदर और सटीक...

    उत्तर देंहटाएं
  20. रिश्ते लिए रहतें हैं अक्सर एहसासात के पंख कुछ पंख हीन भी बने रहतें हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  21. रिश्तों के जितने आयाम आपने अपनी कविता में दिखाए हैं वो आपकी रिश्तों के प्रति संवेदनशीलता को दर्शाता है!! बहुत ही सुन्दर कविता सदा जी!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुछ रिश्‍ते सूख जाते हैं
    वक्‍़त की धूप में जब भी
    एक प्‍यास जागती है मन में
    इन्‍हें नम रखने के लिए !!!

    बहुत खूब ... रिश्तों के मायने बताती सुंदर क्षणिकाएं

    उत्तर देंहटाएं
  23. कुछ रिश्‍ते
    धोखा होते हैं
    जो छल करते हुए
    जिन्‍दा रहते हैं !
    .....
    कुछ रिश्‍ते
    अंबर होते हैं
    कहीं भी रहो
    वो अपना साया कर देते हैं !

    Superb ! I am speechless....

    Manju Mishra
    www.manukavya.wordpress.com

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....