सोमवार, 19 नवंबर 2012

ख्‍यालों की भीड़ में !!!










कभी खोये से ख्‍याल,
मिल जाते हैं जब
एक जगह तो सवाल करते हैं
अपने आप से ?
ऐसा क्‍यूँ है कोई आवाज उठाता
हक़ की कोई कहता
मेरी कद्र क्‍यूँ नहीं की ?
मैं हालातों का जिक्र करती
समझौते की जिन्‍दगी
कैसे जीनी होती है बतलाती
पर कहाँ सुनते वे मेरी !
....
कभी तेज़ हवाओं के बीच
तुम रहे हो ?
यदि हां तो कितने अस्‍त-व्‍यस्‍त
हो गये होगे
उन पलों के बीच
बस उसी तरह से आज
कुछ तेज ख्‍यालों के बीच में
मैं हूँ ! हर ख्‍याल
एक अपनी ही तेजी में है
मेरी कुछ सुनता ही नहीं
मैं सुनते-सुनते सबकी
अपनी कहना भूल ही गई
किस ख्‍याल का अभिनन्‍दन करूं
तो किस ख्‍याल के आगे
हो जाऊँ नतमस्‍तक
....
एक उलझन सी है जिसमें
कुछ ख्‍याल उलझ गये हैं
कुछ गुथे से हैं एक दूसरे में
अपनी मैं का मान लिए
सबके सम्‍मान में
खामोश सी मैं एक
नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
चली हूँ अभी - अभी
कहीं वो गुम न जाए
ख्‍यालों की भीड़ में !!!
.....

28 टिप्‍पणियां:

  1. मैं सुनते-सुनते सबकी
    अपनी कहना भूल ही गई
    किस ख्‍याल का अभिनन्‍दन करूं
    तो किस ख्‍याल के आगे
    हो जाऊँ नतमस्‍तक
    मैं निशब्द हूँ ,अपने मन के भाव देख कर !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ख़यालों की भीड़ में एक खयाल की उंगली पकड़ चलना ही सार्थक है ... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक उलझन सी है जिसमें
    कुछ ख्‍याल उलझ गये हैं
    कुछ गुथ से एक दूसरे में
    अपनी मैं का मान लिए
    सबके सम्‍मान में
    खामोश सी मैं एक
    नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी ............bahut sundar panktiyaan

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपनी मैं का मान लिए
    सबके सम्‍मान में
    खामोश सी मैं एक
    नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी
    कहीं वो गुम न जाए
    ख्‍यालों की भीड़ में !!!..........सुन्दर भावाभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ख्यालों की पीर ख्यालों मे खो गयी

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया आदरेया ||

    समझौते की जिंदगी, अस्त व्यस्त शत-ख्याल |
    इक अलबेला ख्याल ले, चलती आज सँभाल ||

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  8. भगदड़ मची है ख्यालों की....
    एक दुसरे को रौंदते जा रहे हैं ख़याल...
    बहुत सुन्दर..

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 20/11/12 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  10. उलझती राहों को सोचती सी ये छोटी सी जिंदगी

    उत्तर देंहटाएं
  11. मूक हो गई में निसंदेह .............

    उत्तर देंहटाएं
  12. नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी
    कहीं वो गुम न जाए
    ख्‍यालों की भीड़ में !!!निशब्द करती रचना,बहुत सुंदर,,,


    recent post...: अपने साये में जीने दो.

    उत्तर देंहटाएं
  13. उम्दा प्रस्तुति शसक्त रचना गहरे भाव पिरोयें हैं सदा दीदी मज़ा आ गया.
    एक उलझन सी है जिसमें
    कुछ ख्‍याल उलझ गये हैं
    कुछ गुथे से हैं एक दूसरे में
    अपनी मैं का मान लिए
    सबके सम्‍मान में
    खामोश सी मैं एक
    नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी
    कहीं वो गुम न जाए
    ख्‍यालों की भीड़ में !!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. कितने ही ख्याल बिन बुलाये आ जाते हैं...नये ख्याल को ख्यालों की भीड़ में गुम होने से बचाके रखना बहुत ही दुरूह है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 21/11/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैं सुनते-सुनते सबकी
    अपनी कहना भूल ही गई

    हर लफ्ज़ एहसासों में भींगे हुए. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  17. ख्यालों की भीड़ में कुछ खोये ख्याल मिल जाते हैं... वाह

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी इन पक्तियों ने मन के संवेदनशील तारों को झंकृत कर दिया। मेरे नए पोस्ट पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहतरीन रचना वाह..... मैं सुनते-सुनते सबकी
    अपनी कहना भूल ही गई
    किस ख्‍याल का अभिनन्‍दन करूं
    तो किस ख्‍याल के आगे
    हो जाऊँ नतमस्‍तक

    उत्तर देंहटाएं
  20. इन ख्‍यालों की भीड़ में,बेचारा दिल तन्हा
    रह गया !!!!
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  21. एक उलझन सी है जिसमें
    कुछ ख्‍याल उलझ गये हैं
    कुछ गुथे से हैं एक दूसरे में (गुंथे से हैं एक दुसरे में )
    अपनी मैं का मान लिए
    सबके सम्‍मान में
    खामोश सी मैं एक
    नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी
    कहीं वो गुम न जाए
    ख्‍यालों की भीड़ में !!!

    बढ़िया एहसासात को संजोये हैं ये चंद पंक्तियाँ .

    उत्तर देंहटाएं
  22. जो ख्याल इतनी सुंदर कविता का रूप अख्तियार कर लेते हैं वो अक्सर ख्यालों की भीड़ में नहीं खोते...सुन्दर रचना।।।

    उत्तर देंहटाएं

  23. एक उलझन सी है जिसमें
    कुछ ख्‍याल उलझ गये हैं
    कुछ गुथे से हैं एक दूसरे में (गुंथे से हैं एक दूसरे में )
    अपनी मैं का मान लिए
    सबके सम्‍मान में
    खामोश सी मैं एक
    नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी
    कहीं वो गुम न जाए
    ख्‍यालों की भीड़ में !!!

    गुंथे शब्द ठीक करें कृपया ,देखिये मैंने ऊपर "दुसरे" का शुद्ध रूप दूसरे लिख दिया है यह गलती मुझसे हुई थी .गूंथना शब्द है .

    बढ़िया एहसासात को संजोये हैं ये चंद पंक्तियाँ .

    उत्तर देंहटाएं
  24. कुछ ख्‍याल उलझ गये हैं
    कुछ गुथे से हैं एक दूसरे में
    अपनी मैं का मान लिए
    सबके सम्‍मान में
    खामोश सी मैं एक
    नन्‍हें ख्‍याल की उँगली थाम
    चली हूँ अभी - अभी

    बहुत खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....