सोमवार, 26 नवंबर 2012

रूह से रूह का रिश्‍ता ...!!!

















प्रेम की महिमा में
आख्‍यानों का आयोजन कर
विषय विशेष पर टीका-टिप्‍पणी करते  गुणीजन
बस इसे ढूँढते ही रहे कस्‍तूरी की भांति,
ये तो ठहरा रूह से रूह का रिश्‍ता
जो अंजाने ही बांध लेता जन्‍मों-जनम के लिए
कुछ समय के लिए जो होता है
वो प्रेम कहां महज़ आकर्षण
प्रेम तो हर हाल में
संकल्‍प के मंत्रों से गुंजायमान रहता है
मन का हर कोना अभिमंत्रित हो अगर के धुएं सा
मोहक और सुगंधित हो जैसे !
....
हर परिभाषा से मुक्‍त
नेह के सोपानो पे दौड़ता
कभी छू लेता तारो-सितारों को
कभी दीदारे यार कर बैठता चांद में
प्रेम का होना
फिज़ाओं में खुश्‍बू सा घुलना चाहत का
मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
सिर्फ संभव है प्रेम में !!
...

30 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर बात कही सदा...
    मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में !!
    वाह...

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर परिभाषा से मुक्‍त
    नेह के सोपानो पे दौड़ता
    कभी छू लेता तारो-सितारों को
    कभी दीदारे यार कर बैठता चांद में
    प्रेम का होना

    प्रेम के प्रति सटीक और सुंदर बात ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. किसी दिन, चाहते हैं
    चुपके से हम उस के जीने पर
    कोई जलता दिया,
    कुछ फूल
    रख आयें
    सो इस इमकान पर
    इक शाम उस के नाम करते हैं
    चलो यह काम करते हैं!
    ...........................

    उत्तर देंहटाएं
  4. मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में !!

    यही तो प्रेम है ………सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहने को बहती, मन की बातें,
    वरना वे सब जानते ही थे।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर अभिव्यक्ति...मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में !!.......bahut khubsurat

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम का होना
    फिज़ाओं में खुश्‍बू सा घुलना चाहत का
    मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में !!

    सार्थक और बहुत सुंदर बात ...
    बहुत सुंदर रचना .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम जिए हर हाल में, मर मर जाय शरीर |
    फर्क पड़े कंकाल में, हो प्राणान्तक पीर |
    हो प्राणान्तक पीर, वासना को धिक्कारो |
    मिले जहाँ में सत्य, राधिके तन-मन वारो |
    कृष्णा ने दी पीर, वही चरणामृत पावन |
    होवे अंधा प्रेम, दिखे सावन ही सावन ||

    उत्तर देंहटाएं
  10. हर परिभाषा से मुक्‍त
    नेह के सोपानो पे दौड़ता
    कभी छू लेता तारो-सितारों को
    कभी दीदारे यार कर बैठता चांद में
    प्रेम का होना
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेमी का सुन्दर सजह वर्णन लाजवाब प्रस्तुति दी

    उत्तर देंहटाएं
  13. मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में,,,

    सार्थक और सुंदर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में,,,
    बहुत सुन्दर रचना है...
    अति सुन्दर....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक लौ इस तरह क्यूँ बुझी ... मेरे मौला - ब्लॉग बुलेटिन 26/11 के शहीदों को नमन करते हुये लगाई गई आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्रेम की सही व्याख्या की है आपने.. यही प्रेम अपने चरम पर पहुंचकर आध्यात्म बन जाता है, भक्ति बन जाता है!! रूह से रूह का रिश्ता, जहाँ शब्द भी बाधाएं पैदा करते हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. ....
    हर परिभाषा से मुक्‍त
    नेह के सोपानो पे दौड़ता
    कभी छू लेता तारो-सितारों को
    कभी दीदारे यार कर बैठता चांद में
    प्रेम का होना
    फिज़ाओं में खुश्‍बू सा घुलना चाहत का
    मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में !!

    किसी भाषा का मोहताज़ नहीं है प्रेम ,प्रेम की अपनी मुद्राएँ हैं जो भाषा के पार निकल जातीं हैं ,"तारों "की

    बारात बन बन .

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच कहा है आपने ...मूक रहकर ही होती है दिल से
    दिल की बात !

    उत्तर देंहटाएं
  19. कभी छू लेता तारो-सितारों को
    कभी दीदारे यार कर बैठता चांद में

    खूबसूरत भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  20. अद्भुत और सुन्दर रचना के लिए बधाई।
    मेरी नयी पोस्ट "10 रुपये का नोट नहीं , अब 10 रुपये के सिक्के " को भी एक बार अवश्य पढ़े । धन्यवाद
    मेरा ब्लॉग पता है :- harshprachar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रेम का बहुत सुन्दर वर्णन

    उत्तर देंहटाएं
  22. लिखा था कभी मैंने भी ऐसा ही कुछ ...प्रेम न मरता है , ना मारता है , धीमे धीमे सुलगाता है , अगर सा महके या सिगरेट सा जले , यह हम पर निर्भर !
    खूबसूरत अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  23. ये अद्भुत कविता और सत्य है सदा जी

    बस इसे ढूँढते ही रहे कस्‍तूरी की भांति,
    ये तो ठहरा रूह से रूह का रिश्‍ता
    जो अंजाने ही बांध लेता जन्‍मों-जनम के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  24. मूक रहकर भी कह जाना दिल की हर बात
    सिर्फ संभव है प्रेम में
    .........बहुत सुन्दर रचना है दी

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....