शनिवार, 1 सितंबर 2012

नहीं सुनी परी कथा कोई !!!


















मैंने नहीं सुनी परी कथा कोई
ना जादू का पिटारा था मेरे पास
ना ही कोई गुडि़या
जिसके साथ मैं खेलती
और बातें करती
अपनी सहेलियों की
कभी रचाती ब्‍याह गुडि़या का
सपने सजाती उसकी पलकों में
मेरी मुट्ठियों में
काम से बचे वक्‍़त में होते थे
रंगीन कँचे
अकेले ही घर के कच्‍चे आंगन में
फैलाती उन्‍हें निशाना लगाती
कभी कागज की पतंग भी बनाती
उसे उड़ाती जब भी
खुद को भी उसी के जैसा उड़ता पाती
मेरी मुस्‍कान देख मां कहती
गिर मत जाना
छत नहीं थी तो हवा भी कम लगती
तब मैं लकड़ी के स्‍टूल पर खड़ी होकर
पतंग उड़ाया करती :)
...
वक्‍़त बदला सपने बदले
लेकिन मैं नहीं बदली आज़ भी
किसी बच्‍चे को रंगीन कँचे
या उड़ती पतंग की
डोर थामें देखती हूँ जब भी
तो खुद को उसी कच्‍चे आंगन में
खड़ा पाती ह‍ूँ
...

29 टिप्‍पणियां:

  1. वाह सदा जी सुन्दर अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बचपन की यादे भुलाए नही भूलतीं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन और सुन्दर हमेशा की तरह.......हमारे ब्लॉग जज़्बात......दिल से दिल तक की नई पोस्ट आपके ज़िक्र से रोशन है.....वक़्त मिले तो ज़रूर नज़रे इनायत फरमाएं -

    http://jazbaattheemotions.blogspot.in/2012/08/10-3-100.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर भाव लिए
    प्यारी रचना.....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही खूबसूरत अहसासों को उकेरती है आप कविता में. सुन्दर बालमन समझाया बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर...
    प्यारे भाव..

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. सपने कभी नहीं मरते , जब तब ठिठक जाते हैं और सब हरा हो जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  8. अहसासों की प्रभावी अभिव्यक्ति,,,,बधाई सदा जी,,,

    RECENT POST,परिकल्पना सम्मान समारोह की झलकियाँ,

    उत्तर देंहटाएं
  9. कभी कही बचपन आँखों के सामने घुमने लगता है और हम भी बच्चे बन जाते है

    उत्तर देंहटाएं
  10. वक्‍़त बदला सपने बदले
    लेकिन मैं नहीं बदली आज़ भी
    नहीं बदलता .... चाह कर भी बचपन कि आदतें नहीं बदलती !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. वक्‍़त बदला सपने बदले
    लेकिन मैं नहीं बदली आज़ भी
    किसी बच्‍चे को रंगीन कँचे
    या उड़ती पतंग की
    डोर थामें देखती हूँ जब भी
    तो खुद को उसी कच्‍चे आंगन में
    खड़ा पाती ह‍ूँ
    sunder saral shabdon me gahre bhav

    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  12. वक्‍़त बदला सपने बदले
    लेकिन मैं नहीं बदली आज़ भी
    किसी बच्‍चे को रंगीन कँचे
    या उड़ती पतंग की
    डोर थामें देखती हूँ जब भी
    तो खुद को उसी कच्‍चे आंगन में
    खड़ा पाती ह‍ूँ

    बहुत बेहतरीन जज्बा.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सबको बचपन की यादें इसी तरह आती रहती है, सार्थक रचना, आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच है इंसान बचपन को करीब देखता है तो उसी में लौट जाना चाहता है ....
    सार्थक रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बचपन को जी लिया इस रचना में ॥सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच कहा आपने । भरापूरा हो या अभावग्रस्त, बचपन सदा हमारे साथ चलता है ।सुन्दर कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. वक्‍़त बदला सपने बदले
    लेकिन मैं नहीं बदली आज़ भी
    किसी बच्‍चे को रंगीन कँचे
    या उड़ती पतंग की
    डोर थामें देखती हूँ जब भी
    तो खुद को उसी कच्‍चे आंगन में
    खड़ा पाती ह‍ूँ

    मैं भी अपने आप को साथ खड़ा पाता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  18. भाव प्रवण कविता। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं

  19. कुछ यादें ज़हन में ऐसे वाबस्ता हो जाती हैं जैसे किसी चित्र में बक्ग्राउन्ड ...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  20. समय के साथ-साथ कितना कुछ बदल जाता है ...गुजरे दिन अक्सर यूँ ही जाने कितने अवसरों पर हमारे सामने आ खड़े होते हैं ...
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  21. बचपन के अहसासों का पुनर्जन्म होता रहता है. बहुत सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खूबसूरत सदा जी...........

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....