बुधवार, 12 सितंबर 2012

कुछ रिश्‍ते ...(2)

कुछ रिश्‍ते इंकलाबी होते हैं,
जिनमें होता है ज़ोश, जुनून
एक मर मिटने का ज़ज्‍बा
वहां कोई रा‍जनीति नहीं होती
...
कुछ रिश्‍तों में भावनाएं नहीं होती,
संवेदनाएं भी मृतप्राय: हो जाती हैं
ऐसे रिश्‍ते जीवित हो के भी
अस्तित्‍वहीन होते हैं
...
कुछ रिश्‍तों की उम्र  कम होती है
फिर भी वे मरते नहीं,
कुछ रिश्‍तों को बिना किसी जु़र्म के
सज़ा मिलती है और
कैद में जिंदगी रहती है
...
कुछ रिश्‍ते प्‍यार की भाषा
विश्‍वास की कीमत
और भावनाओं की बोली लगाकर
जिंदगी का सौदा कर डालते हैं
....

36 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ रिश्‍तों की उम्र कम होती है
    फिर भी वे मरते नहीं,
    कुछ रिश्‍तों को बिना किसी जु़र्म के
    सज़ा मिलती है और
    कैद में जिंदगी रहती है

    वाह वाह वाह वाह बेहद उम्दा क्या बात है अति सुन्दर सदा जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. माता मारक हो जाती है जब भी खतरा हो बच्चों पर |
    ये ही सबसे सच्चा रिश्ता, साबित होता हर अवसर पर |

    जर जमीन बट जाती है जब, गला काट दुश्मनी निभाते |
    रिश्ते तो मर जाते लेकिन, दो भाई इक बाप कहाते ||

    पहला पहला प्यार अनोखा, अल्प समय का साथ सिखाये |
    इस दुनिया में आकर अपना, हम सब कैसे समय बिठाये ||

    महा स्वार्थी लोलुप बन्दे इस दुनिया में भरे पड़े हैं |
    हर रिश्तों को बेंच सके वे, मदद मांगिये हाथ खड़े हैं ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. ्रिश्तों का खूबसूरती से चित्रण कर रही हैं आप

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह....
    बहुत सुन्दर सदा....

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सलीके से रिश्तों की व्याख्या की है इस नज़्म में. मुझे अपना एक शेर याद आ गया. शायद पसंद आये-

    किसी के साथ रहे उम्रभर पराये से
    किसी का दो घडी मिलना बवाले-जान हुआ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब !

    कुछ रिश्ते बस
    मनमोहन हो जाते है
    कितना भी छेड़ लो
    जबान नहीं चलाते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  7. खुल जाये जो बंध , वो गांठ होती है ?
    न टूटे न खुले , वो तेरा मेरा रिश्ता ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरती से चित्रण कर रही हैं आप रिश्तों को

    उत्तर देंहटाएं
  9. रिश्तों का यथार्थ बयां करती कविता...बढ़िया !!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. रिश्तों की छवियाँ गढ़ती यह कविता सुंदर बन पड़ी है. बढ़िया रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 15/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. रिश्ते कहीं जड़ कहीं चेतन तो कहीं अवचेतन में भी सुगबुगाहट जिंदा होने की

    उत्तर देंहटाएं
  13. अभिनव रचना...रिश्तों की गर्माहट जैसी..

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुछ रिश्‍ते प्‍यार की भाषा
    विश्‍वास की कीमत
    और भावनाओं की बोली लगाकर
    जिंदगी का सौदा कर डालते हैं
    rishton ka rasayan samjh pana bhi bda mushkil hai...
    sundar rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  15. अलग अलग रिश्ते और अलग अलग जज्बे.....हर जज्बा दिल से निकलता हुआ ......बहुत सुन्दर पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  16. रिश्ते भी कितना होते हैं ... अलग अलग रंग और एहसास लिए ...
    गहरी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुछ रिश्‍ते प्‍यार की भाषा
    विश्‍वास की कीमत
    और भावनाओं की बोली लगाकर
    जिंदगी का सौदा कर डालते हैं ///

    loved the lines...

    come and join the group...it would be pleasure to see you there...

    http://www.facebook.com/#!/groups/424971574219946/

    उत्तर देंहटाएं
  18. रिश्तों की दुनिया का सुंदर चित्रण .....

    उत्तर देंहटाएं
  19. रिश्तों पर गहन चिंतन ...विचारणीय प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब, सदाजी! कभी कभी हम एक ही रिश्ते में ये सारे रिश्ते जी लेते हैं. आखिर ज़िन्दगी इतनी छोटी भी नहीं होती न. दो लोगों के बीच रिश्ता कभी इंकलाबी होता है, कभी अर्धजीवित/ अर्धमृत, और कभी अपने होने की सज़ा काटता हुआ.

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह ...हिंदी दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. ये कैसी सदा... जो रिश्तों के रेशों को खोल-खोलकर पहचान करा रही है और अपने को इन प्रकारों में खोजने को मजबूर कर रही है.

    मुझे यह रचना पढ़कर युवाओं के बीच बोला जाने वाला जुमला याद हो आया :

    नवल प्रेमी युगल परस्पर ये बोलते पाये जाते हैं : "हम अपने रिश्ते को क्या नाम दें???"

    घनघोर समस्या रहती है उनके सामने .... वे अपने बीच पनप रहे प्रेम को 'अनाम' 'बेनाम' कहकर संबोधित करते हैं.... और वे इस कन्फ्यूजन में ही 'रिश्ते' की मर्यादाएँ नहीं बना पाते, बड़े भी उन्हें नहीं समझा पाते.

    उत्तर देंहटाएं
  23. सच्चे रिश्तों की अपनी एक अलग दुनिया होती हैं ...और वो रिश्ते सीधे दिल पे दस्तक देते है:)))

    उत्तर देंहटाएं
  24. रिश्तों से ही तो चलती है ज़िंदगी है इसलिए रिश्ते तोड़ना बहुत आसान होता है शायद मगर जोड़ना उतना ही मुश्किल क्यूंकि रिश्तों कि नीव होता है प्यार और विश्वास और उसी पर निर्भर करती है हर रिश्ते की उम्र....

    उत्तर देंहटाएं
  25. रिश्तों का उलझाव होता ही ऐसा है कि जो समझने की कोशिश करता है वो उलझता चला जाता है और जो महसूस करने की कोशिश करता है बस वही जान पाता है कि रिश्ते क्या होते हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. कुछ रिश्‍ते प्‍यार की भाषा
    विश्‍वास की कीमत
    और भावनाओं की बोली लगाकर
    जिंदगी का सौदा कर डालते हैं
    sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  27. रिश्तों की सुन्दर पहचान ......ऐसे ही होते हैं यह ......सच !

    उत्तर देंहटाएं
  28. रिश्तों के मिले-जुले आयाम !
    जिन्हें सभी को सम्भालना पड़ता है !

    उत्तर देंहटाएं
  29. सुंदर रचना! बहुत खूब बखान किया है रिश्तों का!
    ~कुछ रिश्ते चलते रहते हैं...मगर फिर भी एक ही जगह थमे रह जाते हैं...,
    कुछ रिश्ते थमे से रहते हैं...फिर भी मंज़िल के नज़दीक पहुँच जाते हैं...
    ~सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  30. रिश्ते ही तो रिश्तों को मजबूत बनाते है ।

    जतन से सम्हालिये इन्हें वरना ये ताबूत बनाते है ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. कुछ रिश्‍ते प्‍यार की भाषा
    विश्‍वास की कीमत
    और भावनाओं की बोली लगाकर
    जिंदगी का सौदा कर डालते हैं

    बहुत उम्दा काट कही है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....