गुरुवार, 23 जुलाई 2009

दो बूंद ...


दो बूंद जिन्‍दगी के

पोलियो की जंग में

प्रसारित यह विज्ञापन

महज एक विज्ञापन ही नहीं

दो बूंद

वास्‍तव में

ये सिर्फ जिन्‍दगी से कहीं

बढ़कर होते हैं

आपने कभी देखा है

बच्‍चों की मुस्‍कराहट को,

वो जब इसे पीने जाते हैं,

कितना उत्‍साह होता है

उनमें आज हम

दो बूंद पीने जाएंगे

भइया को भी ले जाएंगे

खुशी व्‍यक्‍त करती उनकी मुस्‍कान

इन दो बूंदों से उनके

कदमों में रहता सारा जहान

11 टिप्‍पणियां:

  1. jindagi ko sawarati ye do boond sach me jindagi se bdhkar hai..ek nahi kitani jindagi sawar deti hai..
    sundar bhav..aur sundar kavita
    badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा..... दो बूँद पोलीयो की.......... और दो बूँद पानी की.......... जीवन ओ कभी भी बचा सकती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi sundar ehsas me piro diya hai is do bunda ko aapane........bahut hi badhiya

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा लिखती है आप अच्छी लगी आपकी यह रचना भी ..शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  5. इन दो बूंदों से उनके
    कदमों में रहता सारा जहान


    -बिल्कुल सही कहा!! सुन्दर संदेश!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. कदमो मे जहान भरने के लिये दो बून्द तो जरूरी है ही ---

    उत्तर देंहटाएं
  7. शायद ये ब्लाग पहले मेरी नज़र से रह गया इस्ने तो कमाल की रचनायें हैं बहुत सुन्दरकविता है पोलियो अभियान सच मे ही बच्चों के लिये वरदान है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सबके स्‍नेह व सहयोग से ये ही संभव हो सका है आप सभी का बहुत-बहुत धन्‍यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इन दो बूंदों से उनके
    कदमों में रहता सारा जहान

    बहुत खूब,
    सामाजिक सरोकार...
    एक नए विषय की कविता...
    बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....