शनिवार, 4 जुलाई 2009

यादों को समेट के आंचल में . . .

जाने कब से तरसती थी निगाहे,

तेरे एक दीदार को हमनशी मेरे ।

रूखसत हुआ जब से दिया नहीं,

कोई संदेश कभी ये हमनशी मेरे ।

तेरे जाने के बाद घर में सूनेपन,

के सिवा कुछ नहीं हमनशी मेरे ।

तेरी यादों को समेट के आंचल में,

ढक लेती हूं चेहरा हमनशी मेरे ।

लब खामोश, आंखों में विरह की,

छाया सदा साथ रही हमनशी मेरे ।

15 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi sundarta se wirah ke aag ko abhiwykt kiya hai.....
    तेरी यादों को समेट के आंचल में,

    ढक लेती हूं चेहरा हमनशी मेरे ।

    dil ko chhoo gayee.......

    उत्तर देंहटाएं
  2. नमस्कार!
    आज मुझे आप का ब्लॉग देखने का सुअवसर मिला।
    वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है। आप की रचनाएँ, स्टाइल अन्य सबसे थोड़ा हट के है....आप का ब्लॉग पढ़कर ऐसा मुझे लगा. आशा है आपकी कलम इसी तरह चलती रहेगी और हमें अच्छी -अच्छी रचनाएं पढ़ने को मिलेंगे. बधाई स्वीकारें।

    आप के अमूल्य सुझावों और टिप्पणियों का 'मेरी पत्रिका' में स्वागत है...

    Link : www.meripatrika.co.cc

    …Ravi Srivastava

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्‍छा, दिल को छू लेने वाले भाव हैं आपकी इस रचना के।

    उत्तर देंहटाएं
  4. विवेक सिंह के स्वप्नलोक से आप का पता ले वहां से छूट कर सीधे ''सदा'' लगाने यहाँ आ गया कि
    कुछ जरुरी सूचनाये यहाँ भी उपलब्ध हैं ::---- " स्वाइन - फ्लू और समलैंगिकता [पुरूष] के बहाने से " परन्तु यहाँ जो भावों का प्रवाह , संवेदनाओं तूफान देखा तो उसी में बह गया ,
    बहुत खूब कहा
    " रूखसत हुआ जब से दिया नहीं,

    कोई संदेश कभी ये हमनशी मेरे ।

    तेरे जाने के बाद घर में सूनेपन,

    के सिवा कुछ नहीं हमनशी मेरे । "
    या इसे ही देखें

    " रिश्‍ते न बढ़ते हैं,

    रिश्‍ते न घटते हैं,

    वो तो उतना ही

    उभरते हैं ।

    जितना रंग उनमें,

    हम अपनी

    मुहब्‍बत का भरते हैं ।
    या फिर यह

    जन्‍म देने वाली,

    होती एक मां

    फिर भी बेटे को,

    कुल का दीपक,

    बेटी को पराई ही,

    सदा कहते लोग ।|

    आप के इन भावों का रसास्वादन एक बार में एक साथ संभव नहीं है ,आनन्द नहीं आयेगा \ अब तो ''सदा '' आना पड़ेगा हर स्वर के भावों का रसपान करने |
    कभी मेरे ब्लॉग ''कबीरा '' पर भी आवें आमंत्रण है ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. sada ji bahut hi shandar
    rachna ha.....ek baat aour itne sunder alfaz kaha se dhund laati hain....
    is sunder rachna k liye aapko dher saaree badhai....

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेरी यादों को समेट के आंचल में,
    ढक लेती हूं चेहरा हमनशी मेरे

    गहरी बात लिखी है .......... लाजवाब रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप का ब्लाग अच्छा लगा...बहुत बहुत बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  8. WAH BADHIYA GHAZAL...

    ..AUR YE LINE TO JAAN HAI IS GHAZAL KI...

    तेरी यादों को समेट के आंचल में,

    ढक लेती हूं चेहरा हमनशी मेरे ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. simple and effective hai...some of the words chosen are really good...impressiveone

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप सभी की बहुत ही आभारी हूं, आशा है आप सब यूं ही सदा प्रोत्‍साहित करते रहेंगे ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. तेरी यादों को समेट के आंचल में,

    ढक लेती हूं चेहरा हमनशी मेरे ।

    बहुत सुन्दर पसंद आई आपकी यह रचना शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  12. तेरी यादों को समेट के आंचल में,
    ढक लेती हूं चेहरा हमनशी मेरे
    खूबसूरत एहसास शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sundar shabd sanyojan sada sis ...wahh..
    लब खामोश, आंखों में विरह की,
    छाया सदा साथ रही हमनशी मेरे ।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....