बुधवार, 22 जुलाई 2009

जादू कर देता ...

मुस्‍कान सजा लेता जब वह लब पर,

जाने क्‍या जादू कर देता वह सब पर ।

रोज नहीं मिल पाता था वह सबसे,

लेकिन जब भी मिलता था हंस कर ।

बिगड़ी बातें बन जाती थी कह देता जब,

क्‍या मिल जाएगा अपनों से ही लड़ कर ।

बुलबुला पानी का यह जिन्‍दगानी है कुछ तो,

आपस में समझौता कर लिया करो हंस कर ।

कट जाता है सफर आसानी से, हर मुश्किल,

हो जाती आसान सामना करो अगर डट कर ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. unki तो baat ही aisi है........... jab milte हैं chaa jaate हैं सब पर .......... लाजवाब रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. कट जाता है सफर आसानी से, हर मुश्किल,
    हो जाती आसान सामना करो अगर डट कर ।

    bahut bahaut bahut hi sundar lagi yah line ......dero badhaai .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सही कहा........

    जीवन को सकारात्मक बनाने की प्रेरणा देती ,बहुत ही सुन्दर रचना....बधाई आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बुलबुला पानी का यह जिन्‍दगानी है कुछ तो,
    आपस में समझौता कर लिया करो हंस कर ।

    jindagi ko hanseen banane wale sundar vicharon se saja kavita..
    badhayi..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कट जाता है सफर आसानी से, हर मुश्किल,
    हो जाती आसान सामना करो अगर डट कर ।
    सही है -- सामना ही इकलौता समाधान है.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....