सोमवार, 6 जुलाई 2009

फिजायें महकी . . .

शोख चंचल उसकी हर अदा,

ठहरी, सदा मैं खामोश रहा ।

उसकी हंसी से महफिल गूंजी,

मैं उसी में सदा खोता रहा ।

गेसूओं से टपकती बूंदे जब,

कभी मैं सदा नम होता रहा ।

फिजायें महकी उसके आने से,

मैं सदा उनमें ही गुम होता रहा ।

धड़कता ये दिल उसके ही नाम पर,

बता सदा साथ मेरे क्‍यों ये होता रहा ।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर रचना जो सवाल भी नाजुक अदा से करती है ...........अन्दाज निराला है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. गेसूओं से टपकती बूंदे जब,
    कभी मैं सदा नम होता रहा

    बहुत प्रभावशाली रचना...वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह होता तो सबके साथ है सदा

    पर होता है आपके साथ इसलिए

    क्‍योंकि आपका तो नाम ही है सदा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत और नम रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी कुछ तो उससे ही है............ बहूत ही लाजवाब लिखा है मन के करीब से

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut hi ptrabhaavshali rachana ...
    shabd jaise goonj goonjkar kuch kah rahe ho...

    meri badhai sweekar karen..
    Aabhar
    Vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/07/window-of-my-heart.html

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....