शनिवार, 25 अप्रैल 2009

चुरा लिये जिन्‍दगी ने . . .

हसरतों के समन्‍दर में जब - तब,
एक नई हसरत जन्‍म लेती रही ।

चुपके से उसको बहला दिया मैने जब,
देख बेबसी मेरी वो भी दफन होती रही ।

घुटन, दर्द, आंसू भी उसके न हुये जब,
पल- पल वो पराई खुद से होती रही ।

लुटा दिया उसने यूं तबस्‍सुम का खजाना,
खोखली हंसी से खुद ही आहत होती रही ।

चुरा लिये जिन्‍दगी ने हर हंसी पल उसके,
फिर भी ‘ सदा' वो उसकी बन्‍दगी करती रही ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi khoobsoorat ahsaas........sach zindagi kabhi kabhi sab kuch chura leti hai..............adbhut,dil ko choo gayi aapki rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  2. घुटन, दर्द, आंसू भी उसके न हुये जब,
    पल- पल वो पराई खुद से होती रही ।

    लुटा दिया उसने यूं तबस्‍सुम का खजाना,
    खोखली हंसी से खुद ही आहत होती रही ।
    ehsason ko bahut achhe se piroya hai lafzon mein sunder rachana badhai

    उत्तर देंहटाएं
  3. चुरा लिये जिन्‍दगी ने हर हंसी पल उसके,
    फिर भी ‘ सदा' वो उसकी बन्‍दगी करती रही ।
    अदभुत!सुंदर। मनोभाव।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार o9-08 -2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... लंबे ब्रेक के बाद .

    उत्तर देंहटाएं
  5. घुटन, दर्द, आंसू भी उसके न हुये जब,
    पल- पल वो पराई खुद से होती रही ।

    हृदयस्पर्शी ..

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....