मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

देते रहे दस्तक वारिसशाह . . .

तेरी रूह जाने किस तन में जा समाई होगी,
अब भी शायद मन में कविता ही छाई होगी ।

तेरी कलम से निकला हर शब्द अमिट हो गया,
हर शब्द की चाहत में सिर्फ़ तू ही समाई होगी ।

कितनी नज्में लिखी कवियों ने याद में तेरी,
जाने कितनो ने अपनी महफिलें सजाई होगी ।

कोरे कागज पे रंग भरते तेरे अल्फाज़ जिनमें,
डूब के तूने रंगत ये निखरी हुई सी पाई होगी ।

तेरे ख्वाबों में "सदा" देते रहे दस्तक वारिसशाह,
किसी के ख्वाबों में अमृता तू भी तो आई होगी ।


4 टिप्‍पणियां:

  1. waah bahut hi sunder
    कोरे कागज पे रंग भरते तेरे अल्फाज़ जिनमें,
    डूब के तूने रंगत ये निखरी हुई सी पाई होगी ।

    तेरे ख्वाबों में "सदा" देते रहे दस्तक वारिसशाह,
    किसी के ख्वाबों में अमृता तू भी तो आई होगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही खूबसूरत गजल कही है आपने, बधाई।
    ----------
    TSALIIM.
    -SBA-

    उत्तर देंहटाएं
  3. तेरे ख्वाबों में "सदा" देते रहे दस्तक वारिसशाह,
    किसी के ख्वाबों में अमृता तू भी तो आई होगी ।

    बहुत खूब बहुत सुन्दर ..

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....