गुरुवार, 30 अप्रैल 2009

बुलंद हैं इरादे . . .

हर कदम यूँ उठे की एक कदम
मेरी मंजिल और मेरे पास हो ।

डगमगाए जो कहीं मुश्किलों से कदम,
बुलंद हैं इरादे मन में ये अहसास हो ।

हर काम पहले आसां नहीं हुआ करता,
जीत होती है उसकी जिसे उसकी आस हो ।

सूरज सा जिसमे तेज, चाँद सी शीतलता हो,
साहस की डोर हाँथ में मन मैं विश्वास हो ।

कहते हैं "सदा" कुछ ख़ास करना है,
फिर क्यों डरूं जब विश्वास मेरे पास हो ।



5 टिप्‍पणियां:

  1. साकारात्मक सोच लिये एक सुन्दर रचना... लिखते रहिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल 25/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ...बहुत बढ़िया और प्रेरणादायक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीत होती है उसकी जिसे उसकी आस हो ।

    वाह! क्या ही सार्थक रचना...
    सादर बधाई

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....