बुधवार, 29 अप्रैल 2009

बंद करके मैंने जुगनुओं को . . .

अपना ही साया जब नजर नही आता आदमी को,
सोचता है वो तन्हाई के साये में कैसे जिया जाए ।

अंधेरे इस कदर मुझे तड़पा गए कि मैंने भी,
एक दिन ये ठाना अपने लिए कुछ किया जाए ।

मुठ्ठी में बंद करके मैंने जुगनुओं को सोचा,
कुछ देर ही सही मेरी तकदीर रौशन हो जाए ।

मेरी मुस्कान पल भर की देख बोले जुगनू भी,
होने वाली है अब तो सहर बोल क्या किया जाए ।

दिल्लगी पल दो पल के लिए "सदा" अच्छी है,
ताउम्र लगा के दिल ना किसी से जिया जाए ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. कभी-कभी तन्हाई के साये भी भले लगते हैं...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है वाह वाह वाह सदा जी।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....