रविवार, 2 मई 2021

ईश्वर पर आस्था रखना !!!

तसल्ली भरे शब्दों के

चेहरों पर

मातम सा छाया देख

दुआओं की 

पगडंडियों पर

साथ चल रही उम्मीद

कहती है ...

गुज़र जाएगा ये वक़्त

ईश्वर पर आस्था रखना

इस प्रार्थना के साथ 

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया,

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुख भागभवेत।




17 टिप्‍पणियां:

  1. उम्मीद और आस्था ही राह दिखाएंगे । सुंदर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  2. भाव पूर्ण अभिव्यक्ति ।बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी कोई रचना सोमवार 3 मई 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  4. आदरणीया मैम, इस सुंदर भकवपूर्ण अभिव्यक्ति के लिए आभार । कठोर से कठोर समय बमें भी प्रार्थना कभी खाली नहीं जाती। हृदय से आभार इस सुंदर रचना के लिए ।

    जवाब देंहटाएं
  5. बिलकुल मैम यही उम्मीद है कि ये वक्त जल्दी गुजर जायेगा

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर। आशा का संचार करती कविता।

    जवाब देंहटाएं
  7. जब सारे दरवाज़े बंद हो जाते हैं तब शायद यही एक दर खुला होता है!!

    जवाब देंहटाएं
  8. बस अब ईश्वर का ही सहारा है...हम सभी को पूरे विश्वास के साथ प्रार्थना करनी चाहिए।प्रभु सब ठीक करेंगे।

    जवाब देंहटाएं
  9. भावपूर्ण रचना है...बहुत गहन लिखा है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  10. इश्वर पर आस्था ... ये बची रहे तो उम्मीद रह जाती है जीवित जो बहुत ज़रूरी है हल पल ...
    सुन्दर रचना ....

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर सृजन ईश्वर पर आस्था और उम्मीदों का दामन.....रहे।

    जवाब देंहटाएं
  12. आभार आप सभी की स्नेहिल और उम्मीद से भरी प्रतिक्रियाओं के लिये ...💐💐

    जवाब देंहटाएं
  13. आपने बहुत ही शानदार पोस्ट लिखी है. इस पोस्ट के लिए Ankit Badigar की तरफ से धन्यवाद.

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....