मंगलवार, 29 दिसंबर 2020

उम्मीदों की पिटारी लिए !!!

 उम्मीदों के माथे पे

कभी काला टीका भी लगा देना

बड़ा बेरोक-टोक ये

इसकी उसकी आँखों में

उतर जाती हैं

बन के अपनी सी !

….

जाने की तैयारी में है

दिसंबर 20 का

उम्मीदों की पिटारी लिये

जनवरी 21 की

दस्तक़ देने को आतुरता से

शुभ क्षण, शुभ दिन को

साथ लिए शुभकामनाओं भरा

शुभ बिहान साथ लाई है !!!

...



12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  2. सार्थक रचना।
    आने वाले नूतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर मन को छूती अभिव्यक्ति दी।

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी लिखी रचना सोमवार. 20 दिसंबर 2021 को
    पांच लिंकों का आनंद पर... साझा की गई है
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति दी।
    उम्मीद की पिटारी लिए नव वर्ष फिर से खड़ा है द्वार पर।

    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर प्रस्तुति।
    नव वर्ष नव विज्ञान लेकर बस दस्तक देने को आतुर खड़ा है।
    सस्नेह सीमा जी।

    जवाब देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. उम्मीदों की पिटारी लिए !!!
    बहुत सटीक... नये साल पर भी ये उम्मीदों की पिटारी मिले सबको...
    बहुत सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर, उम्मीदों से भरी खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....