सोमवार, 30 जनवरी 2012

जो लोग जिन्‍दगी को जी लेते हैं .....














तुम्‍हें संवारना आता है
हर बात को बनाना आता है
टूटी-फूटी चीज को भी
तुम दे देती हो एक नया आकार ...
दिशाओं के मार्ग
तुम्‍हारे एक कदम बढ़ाने से
प्रशस्‍त हो जाते हैं
और मंजिल के लिए राह
अपने आप बन जाती है ...
सोचती हूं मैं कई बार आखिर
ये हौसला ... ये उम्‍मीद
तुम तक पहुंचने से पहले कहां गुम थे
मेरी सोच को तुम
पढ़ लेती हो मेरे चेहरे पर
जानती हो क्‍यूं ?
क्‍योंकि तुम्‍हें जिन्‍दगी को जीना आता है
जो लोग जिन्‍दगी को जी लेते हैं
सच कहूं तो वह वंदनीय हो जाते हैं
बिल्‍कुल तुम्‍हारी तरह
ये हंसी क्‍यों ...
मेरी बातों पर भरोसा नहीं क्‍या ...
अरे यह सच है
कई बार पढ़ी हैं तुम्‍हारी आंखे मैने
जिनमें सपने तैरते हैं
हंसी के चिराग से जलते हैं
उम्‍मीदों के  साये लहराते हैं
जितना कोई तुम्‍हारे रास्‍ते में कांटे बिछाता है
तुम उतनी ही जिंदादिली से
अपने कदम वहां रख देती हो ...
जिन्‍दगी के इस सफ़र  में
जहां सन्‍नाटा भी तुमसे बात कर लेता है
खामोशी भी तुम्‍हें पाकर बोल उठती है
और मायूसी भी खिलखिलाती
वीराने में भी बहार आ जाती है
सपने तुम्‍हारे आगे हकी़कत हो जाते हैं
शब्‍द मुखर हो जाते हैं
तुम हो जाती हो अहसासों की एक
बेमिसाल कविता
जिसे हर कोई गुनगुनाना चाहता है
गीत की तरह ...

35 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर...
    जिंदादिली से जीने वालों की राह के काटें खुद-ब-खूब फूल बन जाते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह वाह्………बेहद खूबसूरत अहसासों से लबरेज़्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi sundar ....ek rah ek path ban jati hai kuch jindagiyan ....so sine ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ati sundar...mam..aapki har kavita nayapan leti hui hoti hain...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर अभिव्यक्ति ..
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. log ulajhte rahte hein
    kaamnaaon ke jangal mein bhatakte rahte hein
    nirantar rote rahte hein
    जो लोग जिन्‍दगी को जी लेते हैं
    सच कहूं तो वह वंदनीय हो जाते हैं
    bahu.............t badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  7. Aap bahut achha likhtee hain....mere paas tippanee karne ke liye alfaaz nahee hote!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कई बार पढ़ी हैं तुम्‍हारी आंखे मैने
    जिनमें सपने तैरते हैं
    हंसी के चिराग से जलते हैं
    उम्‍मीदों के साये लहराते हैं
    जितना कोई तुम्‍हारे रास्‍ते में कांटे बिछाता है
    तुम उतनी ही जिंदादिली से
    अपने कदम वहां रख देती हो ...

    प्रेरणादायक पंक्तियाँ .. बहुत खूबसूरत एहसास .

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह सदा दी
    बेह्द खूबसूरत दिल मे उतर जाने वाली रचना……………सुन्दर भाव संयोजन्।

    उत्तर देंहटाएं
  10. तुम हो जाती हो अहसासों की एक
    बेमिसाल कविता
    जिसे हर कोई गुनगुनाना चाहता है
    गीत की तरह ...
    ...........दिल में गहरे उतर जानेवाली

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन अहसासों की सुंदर प्रस्तुति,सदा जी,..वाह!!!!!बहुत लाजबाब रचना,...

    welcome to new post ...काव्यान्जलि....

    उत्तर देंहटाएं
  12. तारीफ करूँ ? ... तारीफ से ऊपर लिख दिया है तो अब क्या करूँ ?

    उत्तर देंहटाएं
  13. कविता अपने मूल में,सचमुच ऐसी ही होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर सार्थक रचना। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्‍योंकि तुम्‍हें जिन्‍दगी को जीना आता है

    वाह जी जिंदगी को जीना आ गया तो जिंदगी सफल है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  16. कोमल एहसास के साथ ही सुन्दर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. जिन्दादिली से जीना ही तो जिन्दगी है...

    उत्तर देंहटाएं
  18. जितना कोई तुम्‍हारे रास्‍ते में कांटे बिछाता है
    तुम उतनी ही जिंदादिली से
    अपने कदम वहां रख देती हो ...
    जिन्‍दगी के इस सफ़र में
    जहां सन्‍नाटा भी तुमसे बात कर लेता है
    खामोशी भी तुम्‍हें पाकर बोल उठती है
    और मायूसी भी खिलखिलाती
    वीराने में भी बहार आ जाती है
    जीवट जिंदादिली से भरपूर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  19. जिन्दादिली कानाम ही जिन्दगी है...बहुत ही बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत अच्छी बात कही है सदा जी आपने,
    जिन्दादिली से जिए तो हर पल हर लम्हा खुबसूरत होता है
    वीराने में भी बहार आती है ..
    शब्द शब्द खुबसूरत अहसास दिलाते है ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. जहां सन्‍नाटा भी तुमसे बात कर लेता है
    खामोशी भी तुम्‍हें पाकर बोल उठती है
    और मायूसी भी खिलखिलाती
    वीराने में भी बहार आ जाती है
    सपने तुम्‍हारे आगे हकी़कत हो जाते हैं
    शब्‍द मुखर हो जाते हैं
    तुम हो जाती हो अहसासों की एक
    बेमिसाल कविता.

    कमाल की प्रस्तुति. दिलके सारे भाव कविता में दिख रहे हैं.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  22. //जो लोग जिन्‍दगी को जी लेते हैं
    सच कहूं तो वह वंदनीय हो जाते हैं

    bahut sateek baat kahi hai..
    bahut sundar rachna.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  24. यह एक सनातन अनुभूति है कि पुरुष को लगता है कि स्त्री को जीवन जीना आता है और वह उसमें आश्रय ढूँढता है. आपकी कविता उसी भाव के विभिन्न रंगों को कोमल क्षणों में बाँधती चलती है. बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  25. मन के उठते अहसासों बहुत सुंदर प्रस्तुति अच्छी लगी.
    ,
    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    उत्तर देंहटाएं
  26. जिन्‍दगी के इस सफ़र में
    जहां सन्‍नाटा भी तुमसे बात कर लेता है
    खामोशी भी तुम्‍हें पाकर बोल उठती है
    और मायूसी भी खिलखिलाती
    वीराने में भी बहार आ जाती है

    क्या शब्द पिरोये हैं आपने अपनी रचना में भाई वाह...कमाल कर दिया

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  27. तुम्‍हें संवारना आता है
    हर बात को बनाना आता है
    टूटी-फूटी चीज को भी
    तुम दे देती हो एक नया आकार .......बेहद खूबसूरत शब्द रचना ..निशब्द कर दिया आपने ........

    निराकार को आकार देना ,एक जीवन देना ही इस नारी का कर्म और धर्म बन जाता हैं ...जब वो किसी के शब्दों में ..उसकी आँखों में अपने लिए ऐसा आदर देखती हैं तो अपना पूर्ण जीवन हार जाती हैं उसके आगे

    उत्तर देंहटाएं
  28. जिन्‍दगी के इस सफ़र में
    जहां सन्‍नाटा भी तुमसे बात कर लेता है
    खामोशी भी तुम्‍हें पाकर बोल उठती है
    और मायूसी भी खिलखिलाती
    वीराने में भी बहार आ जाती है
    सपने तुम्‍हारे आगे हकी़कत हो जाते हैं
    शब्‍द मुखर हो जाते हैं
    तुम हो जाती हो अहसासों की एक
    बेमिसाल कविता
    जिसे हर कोई गुनगुनाना चाहता है
    गीत की तरह ... वाह वाह ,बहुत सुंदर गहन अभिव्यक्ति सदा जी बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. जिन्दगी के यथार्थ को बताती सार्थक अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....