बुधवार, 1 फ़रवरी 2012

ज़ाने क्‍यूँ ....????


















मैं समेट लूंगी अपने अहसासों को,
तुम्‍हारे आस-पास से
उन ख्‍यालों को खड़ा कर दूंगी
तपती धूप में
सूख जाएंगे वे इस कदर
कि उन्‍हें जब चाहे
तोड़ा जा सकेगा
आसानी से तिनके की तरह
उंगलियों के बीच पोरों में दबाकर
बिल्‍कुल सही समझा तुमने
वही पोर जिनसे हम
कभी ऐसे पलों में पोछ लेते हैं
आंसुओं को ....

सख्तियां तेरी मुझ पे हर बार
जाने क्‍यूँ सब से
ज्‍यादा हो जाती थी
जब कोई तुझसे ये शिकायत  करता था
तुझे मुझसे बहुत प्‍यार है
मेरी सज़ाओं को देखता वो आकर
कभी तो शायद
उसका ये भरम टूट जाता ...

यादों में निशानियाँ  रखना है
तो सीख ले
ये हुनर दिल से
करीने से सजी यादों के
बीच खुद तन्‍हा हो जाता है
और देखता रहता है
हर याद को
किसी मूक दर्शक की तरह
जैसे कोई
चलचित्र हो रज़तपट  पर वो जिन्‍दगी का ...

36 टिप्‍पणियां:

  1. ....अहसास जगा दिए आपने कोमल भावों से परिपूर्ण सुंदर प्रस्तुति आपकी कविता पसंद आयी
    शब्द कभी कभी शब्द कम पड़ जाते हैं प्रतिक्रिया देते हुए.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं समेट लूंगी अपने अहसासों को,

    वाकई कोमल अहसासों को करीने से सजाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद खूबसूरत भाव संजोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम्‍हारे आस-पास से
    उन ख्‍यालों को खड़ा कर दूंगी
    तपती धूप में
    सूख जाएंगे वे इस कदर
    कि उन्‍हें जब चाहे
    तोड़ा जा सकेगा ...

    मन की कोमल जज्बात जब बहते हैं तो रुकते नहीं ... ख्यालों को तोड़ने से कभी कभी जीवन भी टूट जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. करीने से सजी यादों के
    बीच खुद तन्‍हा हो जाता है
    और देखता रहता है
    हर याद को
    किसी मूक दर्शक की तरह

    गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. करीने से सजी यादों के
    बीच खुद तन्‍हा हो जाता है
    और देखता रहता है
    हर याद को
    किसी मूक दर्शक की तरह
    जैसे कोई
    चलचित्र हो रज़तपट पर वो जिन्‍दगी का ...ye lines prabhawit karti hain...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब सदा जी शानदार है पोस्ट और तस्वीर भी बहुत प्यारी है......एक बात की आपका ब्लॉग खुलने में काफी वक़्त लेता है हो सके तो कुछ विजेट कम करे उससे लोड कम होगा|

    उत्तर देंहटाएं
  8. करीने से सजे यादों के अहसासों की प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी.,

    welcome to my post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    उत्तर देंहटाएं
  9. करीने से सजी यादों के
    बीच खुद तन्‍हा हो जाता है
    और देखता रहता है
    हर याद को
    किसी मूक दर्शक की तरह
    जैसे कोई
    चलचित्र हो रज़तपट पर वो जिन्‍दगी का ...
    yaadon kaa safar kabhee khatm nahee huaa naa hogaa,kabhee rulaataa kabhee hansaataa

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपके उत्‍कृष्‍ठ लेखन का आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. यादों में निशानियाँ रखना है
    तो सीख ले
    ये हुनर दिल से
    करीने से सजी यादों के
    बीच खुद तन्‍हा हो जाता है
    और देखता रहता है
    हर याद को

    ....लाज़वाब कोमल अहसास ...बहुत उत्क्रष्ट प्रस्तुति ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. सख्तियां तेरी मुझ पे हर बार
    जाने क्‍यूँ सब से
    ज्‍यादा हो जाती थी
    जब कोई तुझसे ये शिकायत करता था
    तुझे मुझसे बहुत प्‍यार है
    मेरी सज़ाओं को देखता वो आकर
    कभी तो शायद
    उसका ये भरम टूट जाता ...

    बहुत बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! बेहद सुन्दर रचना....
    हार्दिक बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  14. एहसास तपा कर तोड़ देने का बिम्ब जीवन के कितने निकट है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैं समेट लूंगी अपने अहसासों को,.....अहसासों को खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही सुन्दर रचना ..प्रभावशाली है इसका लिखा हर शब्द.

    उत्तर देंहटाएं
  18. वैचारिक ताजगी लिए हुए रचना विलक्षण है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहतरीन अहसास।
    सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.in/2012/02/777.html
    चर्चा मंच-777-:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.in/2012/02/777.html
    चर्चा मंच-777-:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  22. zindagi mein na jaane kaise kaise ehsaas hote hain ki dil mein dard thahar jata hai...behad bhaavpurn rachna, shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  23. sada ji
    bahut hi gahan bhav liye hai aapki prastuti
    hamesha ki tarah ------shandaar
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  24. मैं समेट लूंगी अपने अहसासों को,
    तुम्‍हारे आस-पास से
    उन ख्‍यालों को खड़ा कर दूंगी
    तपती धूप में
    सूख जाएंगे वे इस कदर
    कि उन्‍हें जब चाहे
    तोड़ा जा सकेगा
    आसानी से तिनके की तरह
    उंगलियों के बीच पोरों में दबाकर....

    कोमल मन के मजबूत एहसास

    उत्तर देंहटाएं
  25. पढ़कर अच्छा लगा ,बेहतरीन
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  26. बेहद खूबसूरत।
    पढ़कर अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  27. सख्तियां तेरी मुझ पे हर बार
    जाने क्‍यूँ सब से
    ज्‍यादा हो जाती थी
    जब कोई तुझसे ये शिकायत करता था
    तुझे मुझसे बहुत प्‍यार है
    मेरी सज़ाओं को देखता वो आकर
    कभी तो शायद
    उसका ये भरम टूट जाता ...
    ...........
    कविता का एक एक शब्द अनूठा है दिल को छूने वाला ..वाह सदा जी !!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....