गुरुवार, 12 जनवरी 2012

ख़ामोशी की झोली ...

मैं जब भी कहूं
तेरी याद सताती है
उसके लबों पे
आ के इक तबस्‍सुम ठहर जाती है ...
उसने कहा एक दिन
इन यादों के फेर में मत पड़ना
ये छलती हैं
कसमें टूटती हैं
वादे अक्‍सर झूठे होते हैं
बस कामयाब होती हैं तो कोशिशें
मैं उसकी अनुभवी आंखों में
सूनापन देखकर
हैरान सी हो गई थी
भला यादें कैसे छल करती होंगी
तब उसने कहा मैं भी यूं हीं
इन यादों के साये  में
जब तक रही
सबने मुझे बावरी कहा
लेकिन मैं उस सांझ से क्‍या कहती
जो ढलते ही
मुझे अपनी पनाह में  ले लेती थी ...
उन पलों से क्‍या कहती
जो तेरे साथ गुजारे थे
वही सब तो थे जो मुझे घेर लेते थे
मैं तनहाई और यादें
बस मैं हो गई बावरी लोगों की नज़र में
फिर ... ? मेरी उत्‍सुक निगाहें
पागल ....
मेरे सर पर एक हल्‍की सी चपत लगाई उसने
ऐसा कर ...
इन यादों को तू मेरी झोली में डाल दे
मैं समय-समय पर
इनकी झाड़-पोंछ करती रहूंगी
ताकि गर्द न जमें
और तुझे कोई सताये भी न ...
मैं खुश ...
ऐसा भी होता है ... !
बिल्‍कुल दिल चाहे तो क्‍या नहीं होता ... !!
बस आप यकीं करना
मैने दिल की बात मन ली
सारी यादें खामोशी की  झोली में डाल दी ...
अब मैं भी खुश और वो भी खुश ... !!!
 

31 टिप्‍पणियां:

  1. खामोशी के झोली में सारी यादों को डालकर खुश रहना ..वाह .. कितना सुन्दर लिखा है सदा जी , बेहद खुबसूरत..

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह सदा जी................
    बहुत बहुत बढ़िया...
    तह लगा कर रखी होती हैं यादे...अलमारी के कागज़ ने नीचे...

    उत्तर देंहटाएं
  3. खामोशी सब समेट लेती है,सब बयाँ कर देती है...
    सुंदर प्रस्तुति सदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बेहतरीन और अर्थपूर्ण अभीव्यक्ति... सुंदर...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सारी यादें खामोशी की झोली में डाल दी ...
    अब मैं भी खुश और वो भी खुश ... !!!

    अद्भुत अभिव्यक्ति!! एक सार्थक सन्देश!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं खुश ...
    ऐसा भी होता है ... !
    बिल्‍कुल दिल चाहे तो क्‍या नहीं होता ... !!
    behatarin

    उत्तर देंहटाएं
  7. यादों का भंवर.......सुन्दर प्रस्तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  8. ख़ामोशी की झोली में यादों को डालने की तरकीब अच्छी लगी ...खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह ख़ामोशी की झोली भी सबके पास नहीं होती ..तभी न यादें बहुत सताती हैं :):)
    अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर रचना
    (पिछले दिनों आपकी एक पुस्तक को देखा, बहुत अच्छा लगा।)

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर...
    दिल को छू गयी आपकी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. इन यादों के फेर में मत पड़ना
    ये छलती हैं
    कसमें टूटती हैं
    वादे अक्‍सर झूठे होते हैं
    बस कामयाब होती हैं तो कोशिशें
    bahut badi baat kah gayi hain aap in panktiyon men. achchhi lagi ye nazm.

    उत्तर देंहटाएं
  13. जो दिल की बात सुनता है उसका दिमाग भी दुरुस्त रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुन्दर और सार्थक कविता शब्दों में अपनापन सा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  15. मकर संक्रांति की शुभकामनायें.....बेहतरीन रचना,बधाई स्वीकारें..|

    उत्तर देंहटाएं
  16. सबने मुझे बावरी कहा
    लेकिन मैं उस सांझ से क्‍या कहती
    जो ढलते ही
    मुझे अपनी पनाह में ले लेती थी ...
    उन पलों से क्‍या कहती
    जो तेरे साथ गुजारे थे
    वही सब तो थे जो मुझे घेर लेते थे
    मैं तनहाई और यादें
    बस मैं हो गई बावरी लोगों की नज़र में

    उत्तर देंहटाएं
  17. बखूबी अपने भावों को शब्दों में पिरोया है!

    आभार
    प्यार में फर्क पर अपने विचार ज़रूर दें...

    उत्तर देंहटाएं
  18. गहरे भाव। सुंदर रचना।....मकर संक्रांति की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  19. गहरे भाव की बहुत अच्छी रचना,सुंदर प्रस्तुति,मकर संक्रांति बधाई,
    नई रचना-काव्यान्जलि--हमदर्द-

    उत्तर देंहटाएं
  20. यादों की ख़ामोशी भी बहुत कुछ कहती है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. मन के भाव को शब्दों में उकेर दिया है ... बेहतरीन ...
    मकर संक्रांति की बहुत बहुत बधाई हो ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. ख़ामोशी भी बहुत कुछ कहती है.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरा फोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....