शुक्रवार, 20 जनवरी 2012

चुप्‍पी के तट पर .....

मौन बिना खुद से मिलना
संभव ही नहीं
कुछ कहना हो जब
खुद से कुछ सुननी हों बातें दिल की
तो उतर जाना
तुम शब्‍दों की नाव से
लगा देना किनारे इसे चुप्‍पी के तट पर
चलना फिर शांत चित्‍त से
जहां बंद दरवाजा खुल जाएगा
अंधेरे में दिया ज्ञान का जल जाएगा  ...
खुद से कहना हो जब कुछ तो
बस मौन ही सब कुछ कहता है
शब्‍द थोथे हो जाते हैं
भाषा गौण हो जाती है
संवेदनाएं सिमट जाती हैं
रूह के अंक में
चित्‍त एक थपकी मौन की
पाकर कह उठता है
सारी व्‍यथा ... सोचो तो तुम
गर्भ में थे मौन ही
मृत्‍यु पाकर भी मौन हो जाता है मनुष्‍य
शब्‍द तो बस बीच का खेल रह जाता है
शोरगुल के बीच खुद से दूर होकर
तुमने सोचा है कभी
हम उन्‍हीं शब्‍दों को रोज़ रटते रहते हैं
कुछ नया नही है
हम वही सब दुहराते हैं जो
सदियों से दुहराया जा रहा है
हम वही कह रहे हैं
जो सुनते आ रहे हैं जन्‍म के साथ
शब्‍द जरूरी हैं
क्‍योंकि इनके सिवा हमने
कुछ सीखा ही नहीं है
रिश्‍ते शब्‍दों के संसार शब्‍दों का
इनके बिना हमारा आपका  होना
सार्थक नहीं क्‍यूँ कि माध्‍यम तो यही है
शब्‍दों के बिना हमारा ज्ञान
हमारा पांडित्‍य सब शून्‍य हो जाता है
कुछ कहने का मतलब यह तो नहीं कि
खुद को भूल जाओ
अपने लिए भी वक्‍त निकालो
रूहानी बातों को सुनने के लिए
खुद को पहचानने के लिए
तुम्‍हें आवश्‍यकता है तो सिर्फ मौन की ...
कहीं पढ़ा भी था कुछ समय पहले
चुप होना सबसे बड़ी कला है
बाकी सारी कलाएं शब्‍दों पर निर्भर करती हैं ...

46 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दों के साथ लंबा जीवन जीने के बाद मौन की कला सीखना कठिन ही होता है. परंतु है तो यह भी सीखने योग्य. सुंदर सृजन.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. चुप होना सबसे बड़ी कला है
    बाकी सारी कलाएं शब्‍दों पर निर्भर करती हैं ...

    bahut sunder bhav aur abhivyakti bhi ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. जब शब्द कम पड़ जाते हैं तो मौन का ही सहारा लेना पड़ता है...कुछ ना कह के भी सब कुछ कह डालती है आपकी कविता

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. चुप होना सबसे बड़ी कला है
    बाकी सारी कलाएं शब्‍दों पर निर्भर करती हैं ...
    Maun sirf kala hee nahee,ek sadhana hai!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. खुद से पहचान के लिए मौन ज़रुरी है ..खूबसूरत अभिव्यक्ति

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर सदा...
    अब कुछ कहूँगी तो लगेगा कि समझी नहीं तुम्हारी कविता!!!!
    सस्नेह.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. aapki kavitaye sochne ko majboor karati hain.....aap kafi achchha likhati hain..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. चुपी को भी शब्द मिल गए है....... खुबसूरत अभिवयक्ति......

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. चुप होना सबसे बड़ी कला है
    बाकी सारी कलाएं शब्‍दों पर निर्भर करती हैं

    bahut badhiyaa ,
    par kab tak chup rahnaa ,kab bolnaa chaahiye jaannaa bhee zarooree hai ,

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. शब्द नहीं है इस मौन का अनुसरण करने को..........बेहतरीन, लाजवाब, शानदार.............हैट्स ऑफ इस पोस्ट के लिए|

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. चुप होना सबसे बड़ी कला है
    बाकी सारी कलाएं शब्‍दों पर निर्भर करती हैं .

    बेहतरीन अभिव्यक्ति ..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. सच है चुप रहना एक बड़ी ही नहीं एक मुश्किल कला है..सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. मौन अत्यन्त प्रभावी है, स्वयं को समझने के लिये।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. मौनी अमावस्या के पूर्व लाज़वाब पोस्ट।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. अच्छी प्रस्तुति,बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन पोस्ट....लाजबाब
    new post...वाह रे मंहगाई...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी पुरानी हलचल पर कल शनिवार 21/1/2012 को। कृपया पधारें और अपने अनमोल विचार ज़रूर दें।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. गर्भ में थे मौन ही
    मृत्‍यु पाकर भी मौन हो जाता है मनुष्‍य
    शब्‍द तो बस बीच का खेल रह जाता है

    Gahan Abhivykti....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. बस मौन ही सब कुछ कहता है
    शब्‍द थोथे हो जाते हैं
    भाषा गौण हो जाती है
    संवेदनाएं सिमट जाती हैं
    रूह के अंक में

    बहुत सुन्दर

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. खामोशी वार्तालाप की महान कला है,सुंदर प्रस्तुति।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. बुद्धि के रास्ते दिल से रूह को पहुँच खुद से परिचय करवाती सुंदर रचना। बधाई !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. मृत्‍यु पाकर भी मौन हो जाता है मनुष्‍य,सुंदर रचना लाजबाब |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. बस मौन ही सब कुछ कहता है
    शब्‍द थोथे हो जाते हैं
    भाषा गौण हो जाती है
    संवेदनाएं सिमट जाती हैं
    रूह के अंक में ....................वाह शानदार ...लाजवाब

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. अपने लिए भी वक्‍त निकालो
    रूहानी बातों को सुनने के लिए
    खुद को पहचानने के लिए............बिलकुल सही कहा ..सदा!!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. चुप होना सबसे बड़ी कला है
    बाकी सारी कलाएं शब्‍दों पर निर्भर करती हैं ....wah bahut khoob
    sarthak rachna :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. अपने लिए भी वक्‍त निकालो
    रूहानी बातों को सुनने के लिए
    खुद को पहचानने के लिए
    तुम्‍हें आवश्‍यकता है तो सिर्फ मौन की .

    Atm chintan ke liye vivash karati hui rachana ......bahut prabhavshali .......badhai ke sath abhar sweekaren Sada ji.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. बस मौन ही सब कुछ कहता है
    शब्‍द थोथे हो जाते हैं
    भाषा गौण हो जाती है
    संवेदनाएं सिमट जाती हैं.

    आत्म चिंतन जरूरी है. सुंदर प्रस्तुति.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. मौन दरअसल मौन कहाँ रह जाता है ... वो तो मुखर हो कर बोलता है ... अपने आपसे तो हमेशा बोलता है ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. मौन में बहुत शक्ति होती है.इसी कारण पहुँचे हुए संत महात्मा बहुत कम बात करते हैं.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. मौन बिना खुद से मिलना संभव ही नहीं| सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति| धन्यवाद।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  30. खुद से पहचान के लिए मौन ज़रूरी है गहन चिंतन से युक्त बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  31. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट्स पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  32. निःशब्दता और भी ज्यादा मुखर होती है......

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  33. चित्‍त एक थपकी मौन की
    पाकर कह उठता है
    सारी व्‍यथा ... सोचो तो तुम.bahhhhut khub sada jee.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  34. आपके इस उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  35. चुप होना सबसे बड़ी कला है
    बाकी सारी कलाएं शब्‍दों पर निर्भर करती हैं ...

    ....बिलकुल सच ..मौन की भी एक अनुपम भाषा होती है..बहुत सुन्दर

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  36. मौन की खूबी बताती बहुत ही अच्‍छी कवि‍ता।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  37. मौन की सार्थकता बताती खूबसूरत रचना..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  38. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण अच्छी रचना,..
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरा फोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....