शनिवार, 28 जनवरी 2012

कुछ तो गलत है ...














इंसाफ़ होने में देर हो तो
अंदेशा होता है अंधेर का
ज़रूर कहीं न कहीं
कुछ तो गलत है ...
''जागते रहो'' की
आवाज़ लगाता सुरक्षा प्रहरी
अनभिज्ञ रहता है
इस बात से कि
दबे पॉंव आकर पीछे से कोई
उसे हमेशा-हमेशा के लिए
चिरनिद्रा में सुला देगा
फिर भी वह
अपने कर्तव्‍य से
विमुख नहीं होता  ...
लेकिन भ्रष्‍टाचार की खाद पड़ी हो जहां
वहां बिन पानी भी
अपराध की असली जड़
हमेशा हरी रहती है
क्‍यूँकि उसका प्रतिफल
भुगतने के लिए
टहनियॉं सदैव लचीली रहती हैं
और पत्तियॉं इतनी नाजुक  व नरम होती हैं
कि कभी भी
आवश्‍यकता पड़ने पर
बिना किसी आवाज के
कटाई-छंटाई हो जाती है
और किसी को
कानो-कान खब़र नहीं होती ....

28 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा प्रस्तुति…………बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी प्रस्तुति..
    सार्थक विषय..
    माँ सरस्वती की कृपा बनी रहे आप पर...
    शुभकामनाएँ.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही बढ़िया ।

    बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।


    सादर

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. आशीष बरस रहा है आज माँ सरस्वती का ...
    बहुत सुंदर लिखा है ...
    शुभकामनायें ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. 'जागते रहो'' की
    आवाज़ लगाता सुरक्षा प्रहरी
    अनभिज्ञ रहता है
    इस बात से कि
    दबे पॉंव आकर पीछे से कोई
    उसे हमेशा-हमेशा के लिए
    चिरनिद्रा में सुला देगा .....

    इन पंक्तियों के साथ कविता बहुत अच्छी लगी....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. और पत्तियॉं इतनी नाजुक व नरम होती हैं
    कि कभी भी
    आवश्‍यकता पड़ने पर
    बिना किसी आवाज के
    कटाई-छंटाई हो जाती है
    और किसी को
    कानो-कान खब़र नहीं होती ....

    Bahut samvedansheel rachana....bilkul sahee kah rahee hain aap!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. खटकते रहना ही जागते रहने का परिचायक है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. देर होती है तो अंधेर का ही डर रहता है ..बहुत सच्ची रचना ..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. जागते रहो कहनेवाला खुद ही संशय के घेरे में होता है !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. टहनियॉं सदैव लचीली रहती हैं
    और पत्तियॉं इतनी नाजुक व नरम होती हैं
    कि कभी भी
    आवश्‍यकता पड़ने पर
    बिना किसी आवाज के
    कटाई-छंटाई हो जाती है
    और किसी को
    कानो-कान खब़र नहीं होती ....bahut sunder line...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. सच कहा है कभी कभी खुद को ही पता नहीं चलता ... लाजवाब अभिव्यक्ति है ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर।
    आज सरस्वती पूजा निराला जयन्ती
    और नज़ीर अकबारबादी का भी जन्मदिवस है।
    बसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. वैसे तो न्याय में देरी अपने आप में अन्याय है लेकिन जिस टूटी व्यवस्था की आपने बात की है वह सब के लिए चिंता का कारण है. जागते रहना ही होगा. चेताने वाली सुंदर कविता.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. किसी नवजीवन का आना ही ...सृजन हैं

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
    आज चर्चा मंच पर देखी |
    बहुत बहुत बधाई ||

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. इंसाफ़ होने में देर हो तो
    अंदेशा होता है अंधेर का
    ज़रूर कहीं न कहीं
    कुछ तो गलत है
    एकदम वास्तविक और सटीक रचना है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. ब्लॉग बुलेटिन पर की है मैंने अपनी पहली ब्लॉग चर्चा, इसमें आपकी पोस्ट भी सम्मिलित की गई है. आपसे मेरे इस पहले प्रयास की समीक्षा का अनुरोध है.

    स्वास्थ्य पर आधारित मेरा पहला ब्लॉग बुलेटिन - शाहनवाज़

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सही बात कहती सुंदर रचना ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. प्रशंसनीय बहुत अच्छी लगी आपकी यह भावपूर्ण प्रस्तुति....!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरा फोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....