मंगलवार, 25 अगस्त 2009

एक – एक फूल गूंथकर ...

जाने कब से बिखरी थी

मेरे चारों ओर तेरी यादें

जिन्‍हें समेटकर

मैं तुझे अपनी रूह में

बसाना चाहता था


जिनसे निकलकर

फिर तुम यूं जा ना सको

मुझे देकर तनहाई

मैं खुद के वजूद में,

उन यादों को

यूं गूंथना चाहता हूं

जैसे एक एक फूल गूंथकर

बनती है पूरी माला


जिसकी खुश्‍बू बस जाती है

अन्‍तर्मन में

यादों के साये में

मैं गुनगुनाना चाहता हूं

तुझे गीत की तरह

अपनाना चाहता हूं

संगीत की तरह जीवन में

13 टिप्‍पणियां:

  1. waah waah waah waah waah ......our koee shbda sujh hi nahi raha hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. सदा जी बहुत ही बेहतरीन रचना मन खुश हो गया ये लायने तो कुछ ख़ास ही बन पड़ी है

    मैं गुनगुनाना चाहता हूं

    तुझे गीत की तरह

    अपनाना चाहता हूं
    संगीत की तरह जीवन में
    मेरी बधाई स्वीकार करे
    सादर
    प्रवीण पथिक

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना है बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अत्यन्त सुंदर रचना! यही कहूँगी की आपकी लेखनी को सलाम!

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुझे गीत की तरह

    अपनाना चाहता हूं

    संगीत की तरह जीवन में।

    सुंदर, आह्ललादक लाइने।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सदा जी की सदा की तरह एक और बेहतरीन प्रस्तुति.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. dil se nikli hui
    dil hi ki baateiN
    anmol rachnaa
    anmol prastuti

    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिनसे निकलकर

    फिर तुम यूं जा ना सको

    मुझे देकर तनहाई

    मैं खुद के वजूद में,

    उन यादों को

    यूं गूंथना चाहता हूं

    जैसे एक –एक फूल गूंथकर

    बनती है पूरी माला...mujhe ye kavita etni achhi lagi kyee baar padhi...boht khoobsurat likhti hai aap....

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं गुनगुनाना चाहता हूं
    तुझे गीत की तरह
    अपनाना चाहता हूं
    संगीत की तरह जीवन में

    लाजवाब लिखा है ............ किसी को मन में basaane की chaah .......... sundar रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. यादों के साये में

    मैं गुनगुनाना चाहता हूं

    तुझे गीत की तरह

    अपनाना चाहता हूं

    संगीत की तरह जीवन में

    ..यादों के सहारे जीवन के सकारात्मक पक्षों को उजागर करती कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत प्यारी रचना सदा जी...
    आज कुछ पुराने पन्ने पलट रही हूँ...
    आप भी यादें ताज़ा कर लीजिए :-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर रचना.दिल को भा गयी

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....