सोमवार, 10 अगस्त 2009

रूठ जाता अपने आप से वो . . .

जब भी वो उदास हो जाता है,

तुझे अपने और पास पाता है ।

तनहाईयों में तेरा अक्‍स जब,

दरो-दिवार में नजर आता है ।

रूठ जाता अपने आप से वो,

क्‍यों नहीं तुझे भूल पाता है ।

तेरी हर बात को दिल से लगा,

मसरूफ खुद को ही पाता है ।

सफर कठिन है मान भी लेता,

पर किसी से कह नहीं पाता है ।

7 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi sundar rachana ....jab kabhi udasi aati hai to tujhe apane aas pas pata hu .......atisundar

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर है आपकी अभिव्यक्ति ............ अक्सर उदासी में इंसान किसी अपने को ढूंढता है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सफर कठिन है मान भी लेता,
    पर किसी से कह नहीं पाता है ।
    बहुत सुन्दर शेर कहे है आपने -- पढकर बहुत अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. रूठ जाता अपने आप से वो,

    क्‍यों नहीं तुझे भूल पाता है ।


    तेरी हर बात को दिल से लगा,

    मसरूफ खुद को ही पाता है ।


    aisa hi hota hai....... hum yaadon ko dil se laga ke khud ko hi masroof kar lete hain....... bhool nahi paate hain....

    prem ki gahri abhivyakti............

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  5. सदा जी,

    इस अकेले अशआर ने पूरी बात कह दी:-

    रूठ जाता अपने आप से वो,
    क्‍यों नहीं तुझे भूल पाता है ।

    अच्छी रचना, बधाई।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी का बहुत-बहुत आभार, प्रोत्‍साहित करने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. aapne jo kavita me vyakt kiya hai use hi prem kahate hai..
    bahut badhiya abhivyakti..
    kavita achchi lagi..aabhar..

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....