शनिवार, 22 अगस्त 2009

गणपति सबके भाग्‍यविधाता ...


आ गये रिद्धि-सिद्धि के संग,

गणपति सबके भाग्‍यविधाता ।

आसन पर इन्‍हें विराजो भक्‍तो,

मोदक मन को इनके बेहद भाता।

घर-घर आएंगी खुशियां गणपति के

आने से चारों ओर मंगल छा जाता ।

अगले बरस, फिर जल्‍दी आ कहके,

इनको हर बार विदा किया है जाता ।

गणपति बप्‍पा मोरया कहकर तो देखो,

मन कितना सदा पु‍लकित हो जाता ।

4 टिप्‍पणियां:

  1. गणपति बप्‍पा मोरया,
    गणेश भगवान की जय!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना ! श्री गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  3. गणपति बप्‍पा मोरया |बहुत सुंदर रचना ! श्री गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....