बुधवार, 3 अक्तूबर 2012

तर्पण श्रद्धा का ...










अर्पित है जल की
प्रत्‍येक बूँद से आपको
इस श्राद्ध में
तर्पण श्रद्धा का
मां - पापा ...
भावना की नन्‍हीं सी
अंजुरि मेरी में
जौ, तिल, फूलों के संग
मिश्रित है गंगा का
पावन जल
आपकी तृप्ति के लिए
...
भीगा सा मन
नमी आंखों में
भावनाओं की करूणा  भरे
शब्‍द जिभ्‍या पर लिए मैं
श्रद्धान्‍वत्  हूँ पूर्ण आस्‍था से
यह मान आप जहां भी होंगे
तृप्‍त हो इस पितृपक्ष में अपना
आशीष हम पर सदा रखेंगे
...

39 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर भावना से लिखी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावना की नन्‍हीं सी
    अंजुरी से .....
    तर्पण श्रद्धा का
    ..........................
    आप जहाँ भी होंगे.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेटी की शादी हुई, बेटा भी परदेश |
    जब तक रहते पास में, माने हर आदेश |
    माने हर आदेश, परोसे भोजन पानी |
    बढती जाए आयु, चिंत-रेखा पेशानी |
    शिथिल बदन हो जाय, खाट पर काया लेटी |
    पानी रही पिलाय, हमारी प्यारी बेटी ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भीगा सा मन
    नमी आंखों में
    भावनाओं की करूणा भरे
    शब्‍द जिभ्‍या पर लिए मैं
    श्रद्धान्‍वत् हूँ पूर्ण आस्‍था से
    यह मान आप जहां भी होंगे
    तृप्‍त हो इस पितृपक्ष में अपना
    आशीष हम पर सदा रखेंगे
    आप के साथ मैं भी यही कामना कर रही ............ !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. इत्ते सुन्दर पोस्ट की बधाई दीदी

    उत्तर देंहटाएं
  7. श्रद्धा सुमन बहुत खूबसूरती से भावों में पिरोये हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर सदा....
    बहुत ही प्यारी..नेह से श्रद्धा से भीगी पंक्तियाँ....
    बडों का आशीष बना रहे..

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर भाव संजोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. श्रद्धा भाव से ओत-प्रोत सुन्दर पंक्तियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह सदा जी वाकई श्रद्धा में भीगी भीनी-२ खुशबू फैलाती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. इश्वर आपकी यह साध पूरी करे ,सब कुछ तो है पर फिर भी एक कमी रह जाती है और यही एक माध्यम है जो हमें उन्सबसे बांधे रखता है |

    उत्तर देंहटाएं
  13. श्रद्धा भाव से परिपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  14. स्नेहिल शब्दों का तर्पण ... इससे विशिष्ट कोई तर्पण नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  15. लगा हमने भी अपने लोगों को याद कर लिया।
    बहुत सुंदर

    शब्‍द जिभ्‍या पर लिए मैं
    श्रद्धान्‍वत् हूँ पूर्ण आस्‍था से
    यह मान आप जहां भी होंगे
    तृप्‍त हो इस पितृपक्ष में अपना
    आशीष हम पर सदा रखेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 06/10/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    श्रद्धा से ही श्राद्ध बना है!

    उत्तर देंहटाएं
  18. अर्पित है जल की
    प्रत्‍येक बूँद से आपको
    इस श्राद्ध में
    तर्पण श्रद्धा का
    मां - पापा ...
    भावना की नन्‍हीं सी
    अंजुरि मेरी में
    जौ, तिल, फूलों के संग
    मिश्रित है गंगा का
    पावन जल
    आपकी तृप्ति के लिए

    सदा जी श्रद्धा में भीगी भीनी खुशबू फैलाती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. श्रद्धा भाव से परिपूर्ण सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  20. रखेंगे नहीं वो हमेशा रखते हैं
    मा बाप बच्चों को कभी भी
    अकेला कहाँ कब रखते हैं
    शरीर माना की छोड़ देते हैं
    आत्मा अपने वो हमेशा ही
    सारे बच्चों के दिल के
    हमेशा ही नजदीक रखते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  21. वस्तुतः 'श्राद्ध और तर्पण'=श्रद्धा +तृप्ति। आशय यह है कि जीवित माता-पिता,सास-श्वसुर एवं गुरु की इस प्रकार श्रद्धा-पूर्वक सेवा की जाये जिससे उनका दिल तृप्त हो जाये। लेकिन पोंगा-पंथियों ने उसका अनर्थ कर दिया और आज उस स्टंट को निबाहते हुये लोग वही कर रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पोंगापंथी सिर्फ आवेश में आते हैं,डराते-धमकाते हैं....सत्य अपनी जगह सामर्थ्यनुसार श्रद्धा के फूल अर्पित करता है.

      हटाएं
  22. सभी पूर्व जनों को तर्पण नमन .बढ़िया मौजू रचना है एक परम्परा से रु -बा -रु करवाती .

    उत्तर देंहटाएं
  23. श्रद्धान्‍वत् हूँ पूर्ण आस्‍था से
    यह मान आप जहां भी होंगे
    तृप्‍त हो इस पितृपक्ष में अपना
    आशीष हम पर सदा रखेंगे
    baqhut hi sunder bhav
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  24. श्रद्धा भाव से समर्पित अत्यंत भावमयी प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुबह जल अर्पित करते समय लगता है, वे पास हैं ...
    आभार इस रचना के लिए !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....