सोमवार, 15 अक्तूबर 2012

जन्‍मदिन मुबारक हो .... अलंकार

अपनी तोतली जबान से उआ (बुआ) कहना शुरू करने वाला मेरा भतीजा अलंकार 'अंकू' और अपने मित्रों के बीच में 'Alan' के नाम से लोकप्रिय आज 15 अक्‍टूबर को 20 वर्ष पूरे करने जा रहा है, उंगली पकड़कर चलते-चलते दौड़ना सीखा और तोतली ज़बान कब मधुरता के गीत गाने लगी उसका प्रिय शौक गाना है पढ़ाई में अव्‍वल बी.ई. (सिविल) 5वें सेमेस्‍टर में अध्‍ययनरत अलंकार फोटो्ग्राफी भी पूरी तन्‍मयता से करता है ...  आज के दिन बस यही दुआ है उसकी हर ख्‍वाहिश पूरी हो ...

कुछ दुआओं के शब्‍दों को
रख तेरे सिरहाने
मैने तेरे जन्‍म का
सदका उतारा है
तू मेरा ही नहीं
मां-पापा के संग
हम सबका दुलारा है
 ...
कुछ शब्‍दों में स्‍नेह है,
कुछ में कामना है
तुम्‍हारी सफलता की
कुछ शब्‍दों के भाव
आशीषों संग चले हैं
कुछ शब्‍दों ने
मन्‍नतों के मंत्र भी पढ़े हैं
तब जाकर कहीं ये
भाव तुम्‍हारे हुए हैं
.... 
मन के आंगन में
देखो खुशियों के लम्‍हे आये है
दुआओं के शब्‍द हैं
जो आशीषों से झोली तुम्‍हारी
भरने आये हैं
हर लम्‍हे से मांगती हूँ
तुम्‍हारी खुशी
जिनसे महके फूलों सी
तुम्‍हारी जिन्‍दगी

31 टिप्‍पणियां:

  1. मन के आंगन में
    देखो खुशियों के लम्‍हे आये है
    दुआओं के शब्‍द हैं
    जो आशीषों से झोली तुम्‍हारी
    भरने आये हैं
    हर लम्‍हे से मांगती हूँ
    तुम्‍हारी खुशी
    जिनसे महके फूलों सी
    तुम्‍हारी जिन्‍दगी

    जन्म दिन की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर लम्‍हे से मांगती हूँ
    तुम्‍हारी खुशी
    .......................
    हमारी ओर से भी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. अलंकार को जन्म दिन की शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन के आंगन में
    देखो खुशियों के लम्‍हे आये है (हैं )..........हैं
    दुआओं के शब्‍द हैं
    जो आशीषों से झोली तुम्‍हारी
    भरने आये हैं
    हर लम्‍हे से मांगती हूँ
    तुम्‍हारी खुशी
    जिनसे महके फूलों सी
    तुम्‍हारी जिन्‍दगी

    माँ का आशीष मन्नतों से ऊपर होता है क्योंकि वह तो संतान के लिए सदैव ही शिव रूपा है .कल्याणी है .फलीभूत हो आशीष हमारा भी .

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन के आंगन में
    देखो खुशियों के लम्‍हे आये है (हैं )..........हैं
    दुआओं के शब्‍द हैं
    जो आशीषों से झोली तुम्‍हारी
    भरने आये हैं
    हर लम्‍हे से मांगती हूँ
    तुम्‍हारी खुशी
    जिनसे महके फूलों सी
    तुम्‍हारी जिन्‍दगी

    माँ का आशीष मन्नतों से ऊपर होता है क्योंकि वह तो संतान के लिए सदैव ही शिव रूपा है .कल्याणी है .फलीभूत हो आशीष हमारा भी .हाँ बुआ -माँ ,मौसी माँ माँ सम ही होती हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर भावपूर्ण कविता । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर भाव संजोये हैं.....अलंकार को हार्दिक शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बबुआ हो ले बीस का, दूँ मंगल आशीश ।
    दुनिया में हरदम रहे, तू सबसे इक्कीस ।

    तू सबसे इक्कीस, होय हर चाहत पूरी ।
    स्वास्थ्य आयु बल बुद्धि, मिले सब चीज जरुरी ।

    रविकर का आशीष, बुआ की दुआ कुबूले ।
    सदा यशस्वी होय, बीस का बबुआ हो ले ।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपके भतीजे को जन्मदिवस की अनंत शुभ कामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  10. अलंकार को जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. अलंकार को जन्मदिन की शुभकामनायें .... बहुत प्यारी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. बुआ की हर दुआ पूरी हो .....
    जन्मदिन की मुबारक !
    आशीर्वाद!

    उत्तर देंहटाएं
  13. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अलंकार सुखों से अलंकृत रहे ,और आशीर्वाद से भरा रहे

    उत्तर देंहटाएं
  15. अलंकार को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ. बहुत सुंदर भावनाओं से भरी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  16. अलंकार (अंकू) के जन्मदिन की बहुत२ हादिक बधाई और शुभकामनाएं,,,,

    RECENT POST ...: यादों की ओढ़नी

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत प्यारी रचना.. अलंकार को जन्मदिन की हादिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरी भी शुभकामनाएं छोटू 'अंकू' के लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी कविता में वैसे भी ममता बिखरी हुई है.. देर से ही सही, जन्मदिन मुबारक "उआ' कहने वाले २० साल के छोटे से बच्चे के लिए!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. अलंकार को ढेरों स्नेहाशीष और शुभकामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. जितना स्नेह आपने किया उतना सम्मान वो आपको देगा...आप आशीष से झोली भरें वो खुशियों से आँचल भरेगा.....
    ढेर सा आशीष हमारी ओर से...बुआ भतीजे दोनों को :-)
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....