गुरुवार, 11 अक्तूबर 2012

गनीमत है ...!!!

कुछ शब्‍दों के अर्थ कई बार
मन में अपना घर बना लेते हैं
अर्थ का अनर्थ करते शब्‍द
मन का चैन हर लेते हैं
ऐसे में एक शब्‍द
मेरे मन के आस-पास
परिक्रमा करता है
गनीमत है
इसका अर्थ मन को
इतना संतोष देता है
सोचती हूँ यदि ये न होता
कैसे मैं उग्र होते विचारों को
संयम का पाठ पढ़ाती 
...
ये शब्‍द अपने भावों को
संतुलित करते हैं
कुछ तोड़ते हैं जिज्ञासाओं को
तब मैं गनीमत की
अहसानमंद हो जाती हूँ
ये सब होना
तुमसे ही संभव हुआ है
जो असंभव को तुम ने
बांध रखा है अपने संयम से
एक लम्‍बी सांस जितना
अहसास है  गनीमत का होना
किसी कार्य के सम्‍पन्‍न होने
पर खुशी का प्रतीक है
इसका भाव
....
मन से निकली एक दुआ
एक श्रद्धा एक आहुति
एक विश्‍वास का पाना ही है  
गनीमत जिसका भाव
मेरे मन के
आस-पास परिक्रमा करता है
....

34 टिप्‍पणियां:

  1. गनीमत है कि
    गनीमत ने दे रखा है
    संतोष
    बद से बदतर होते
    हालात पर भी
    हम कह सकते हैं
    कि
    गनीमत है
    इससे बुरा नहीं हुआ ...

    वाकई गनीमत शब्द सुकून देता है .... बहुत सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही में ये शब्द नही होते तो मन को चैन नही आता |
    बहुत ही सुंदर रचना...सोचने को विवश करती हुई |

    उत्तर देंहटाएं
  3. शब्दों से सकूं मिलता तो सही,
    गनीमत तो है !
    बेहतरीन प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस भाव पूर्ण रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक लम्‍बी सांस जितना
    अहसास है गनीमत का होना
    ......................
    बेहतरीन...बेहतरीन...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सदा जी कुछ तो है जो मन को शांति प्रदान करता है गनीमत है बिलकुल सही

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिलकुल सही सदा जी .........गनीमत है
    इसका अर्थ मन को
    इतना संतोष देता है
    सोचती हूँ यदि ये न होता
    कैसे मैं उग्र होते विचारों को
    संयम का पाठ पढ़ाती

    उत्तर देंहटाएं
  8. अहसास है गनीमत का होना
    किसी कार्य के सम्‍पन्‍न होने
    पर खुशी का प्रतीक है
    इसका भाव

    सही मे सुकून देता है …………बहुत सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये शब्‍द अपने भावों को
    संतुलित करते हैं
    कुछ तोड़ते हैं जिज्ञासाओं को
    तब मैं गनीमत की
    अहसानमंद हो जाती हूँ ...........bahut khub .........sahi kaha

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह....
    बहुत सुन्दर....
    बहुत बढ़िया रचना...(गनीमत है अच्छी है...वरना लगता, वक्त ज़ाया हुआ..)
    :-)

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर , बढिया भाव

    तुमसे ही संभव हुआ है
    जो असंभव को तुम ने
    बांध रखा है अपने संयम से
    एक लम्‍बी सांस जितना
    अहसास है गनीमत का होना
    किसी कार्य के सम्‍पन्‍न होने
    पर खुशी का प्रतीक है
    इसका भाव

    क्या कहने,

    उत्तर देंहटाएं
  12. विश्वास ही है जो अपना है और साथ बना रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. गनीमत है-तुमने इसका महत्व तो जाना
    गनीमत ने भी तुमको पहचाना
    तभी तो शान्ति और सुकून है

    उत्तर देंहटाएं
  14. मन से निकली एक दुआ
    एक श्रद्धा एक आहुति
    एक विश्‍वास का पाना ही है
    गनीमत जिसका भाव
    मेरे मन के
    आस-पास परिक्रमा करता है

    सार्थक!!
    गनीमत है दुआओं का अवसर मिला……
    जन्मदिन की अनंत शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  15. गनीमत है कि दुनिया अभी बची हुई है, क्योंकि इंसानियत अभी जिन्दा है...

    उत्तर देंहटाएं
  16. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन से निकली एक दुआ
    एक श्रद्धा एक आहुति
    एक विश्‍वास का पाना ही है
    गनीमत जिसका भाव
    मेरे मन के
    आस-पास परिक्रमा करता है

    ....लाज़वाब पंक्तियाँ और भाव...बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  18. मन से निकली एक दुआ
    एक श्रद्धा एक आहुति
    एक विश्‍वास का पाना ही है
    गनीमत जिसका भाव
    मेरे मन के
    आस-पास परिक्रमा करता है

    बहुत सकारात्मक भाव .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. गनीमत से जुड़ती है एक आशा की हम किसी ऐसी चीज से बच गए जिसके लिए हम नहीं चाहते हैं .
    एक शब्द पूरा का पूरा इतिहास बन सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. गनीमत है इस पोस्ट पर आ गई वरना इतनी अच्छी भावपूर्ण रचना पढ़ने से वंचित रह जातीः)
    बहुत अच्छी रचना!!!सकारात्मक भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  21. अहसास है गनीमत का होना
    किसी कार्य के सम्‍पन्‍न होने
    पर खुशी का प्रतीक है
    इसका भाव ,,,,,,

    बहुत ही खूबशूरत सुंदर अभिव्यक्ति,,,सदा जी बधाई स्वीकारे

    MY RECENT POST: माँ,,,

    उत्तर देंहटाएं
  22. मन से निकली एक दुआ
    एक श्रद्धा एक आहुति
    एक विश्‍वास का पाना ही है

    बहुत ही निर्मल अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  23. ये शब्‍द अपने भावों को
    संतुलित करते हैं
    कुछ तोड़ते हैं जिज्ञासाओं को

    बहुत खूब! शब्दों की सत्ता को तो स्वीकार करना ही पड़ता है. भावों को नियंत्रित और संयमित करने का काम तो शब्द ही करते हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  24. मन से निकली एक दुआ
    एक श्रद्धा एक आहुति
    एक विश्‍वास का पाना ही है
    गनीमत जिसका भाव
    मेरे मन के
    आस-पास परिक्रमा करता है ...बहुत सुन्दर ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  25. मन से निकली एक दुआ
    एक श्रद्धा एक आहुति
    एक विश्‍वास का पाना ही है
    गनीमत जिसका भाव
    मेरे मन के
    आस-पास परिक्रमा करता है
    beautiful lines

    उत्तर देंहटाएं
  26. मन को कोमल और लोचशील बनाए रखने का सुंदर तरीका है यह- 'ग़नीमत'.बढ़िया.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....