गुरुवार, 5 जुलाई 2012

यह दुआ है तुम्‍हारे लिए ....!!!


















किसी योद्धा सी तुम कमजोर विचारों को
मन से झटकते हुए आगे बढ़ती
करती सवाल खुद से
आस्‍थाओं का मान रखना
सबका ह्रदय में सम्‍मान रखना
पर फिर क्‍यूँ
जीवित न अपना स्‍वाभिमान रखना

कर्तव्‍य का रक्‍त धमनियों में
नितांत वेग से बहता हरदम
मैं करती हूँ, कर लूगीं, तुम फिक्र मत करो
हौसले की परछाईं बनकर
समर्पित खुद को करना
मुश्किलें कैसी भी आईं
त्‍याग की पहली सीढ़ी पर कदम
खुद का रखने में पहल करना
वक्‍़त की कसौटियों पर
हँसकर खुद को परखना
बेफिक्री की चादर उढ़ाकर सबको
खुद ख्‍यालों के बिस्‍तर पे  करवट बदलना
तुम्‍हारा देखा है मैने
...
आस्‍थाओं का मान रखना
सबका ह्रदय में सम्‍मान रखना
पर फिर क्‍यूँ
जीवित न अपना स्‍वाभिमान रखना
इस बात से सहमत हूँ शत-प्रति-शत
कुछ रहे न रहे
तुम्‍हारा यह हौसला और यह स्‍वाभिमान सदा रहे
यह दुआ है तुम्‍हारे लिए... !!!

30 टिप्‍पणियां:

  1. वक्‍़त की कसौटियों पर
    हँसकर खुद को परखना
    बेफिक्री की चादर उढ़ाकर सबको
    खुद ख्‍यालों के बिस्‍तर पे करवट बदलना
    तुम्‍हारा देखा है मैंने

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .... किसी की हर बात का खयाल रख दुआ देना ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर.....मन से की गयी दुआ कबूल होती है...
    सस्नेह

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वाभिमान सम्मान,ही जीवित रहने की अदा
    इस बात से सहमत हूँ, शत- प्रति-शत सदा,,,,,,

    MY RECENT POST...:चाय....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर .. हर दुआ कबूल हो..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर रचना


    आस्‍थाओं का मान रखना
    सबका ह्रदय में सम्‍मान रखना

    ये अपेक्षा तो हर किसी से की जानी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी कविता दी!बेह्द उम्दा और गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुंदर एवं सार्थक अभिव्यक्ति आभार.... हर दुआ कुबूल हो...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर अभिव्यक्ति |
    बधाई सदा जी ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर रचना .बेहतरीन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. यह है शुक्रवार की खबर ।

    उत्कृष्ट प्रस्तुति चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. त्‍याग की पहली सीढ़ी पर कदम
    खुद का रखने में पहल करना
    वक्‍़त की कसौटियों पर
    हँसकर खुद को परखना
    बेफिक्री की चादर उढ़ाकर सबको
    खुद ख्‍यालों के बिस्‍तर पे करवट बदलना
    तुम्‍हारा देखा है मैने


    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, खुद नारी होकर जब नारी के त्याग और दायित्वों की सूली पर चढ़ा हुआ देखते हैं तो गर्व होता है लेकिन उसकी सराहना अगर सिर्फ हमने की तो क्या? उसके इस स्वरूप को सबको सराहना होगा तभी उसके तपस्या सार्थक होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  12. वक्‍़त की कसौटियों पर
    हँसकर खुद को परखना
    बेफिक्री की चादर उढ़ाकर सबको
    खुद ख्‍यालों के बिस्‍तर पे करवट बदलना
    तुम्‍हारा देखा है मैने

    फिर तो दुआ मांगना भी चाहिए..... सुंदर लिखा है...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  14. हौसला ही तो आगे बढाता है जीवन में, हमारी क्षमता को निखारता है । दुआ कबूल हो, आमीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. जीवन में मान और सम्मान का बहुत बड़ा महत्व है, वहीं अभिमान का परित्याग भी उतना ही ज़रूरी है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सदा जी आपका ईमेल आईडी चाहिए
    कृपा मेल करें : deepak.mystical@gmail.com

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. मेरी प्यारी लाडली कभी शिकायत की मौका नहीं देती ! फिर इससे नफरत क्यों ? समाज को हजार बार सोंचना होगा ! सुन्दर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  18. हतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना प्रभावशाली प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  19. स्त्री के स्वाभिमान की जंग का सटीक वर्णन. 'मैं करती हूँ, मैं कर लूँगी' जैसे विश्वास के बाद फिर एक कमज़ोर विचार से जंग. बहुत सुंदर रचना है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं बहुत गन्दा हूँ... अच्छी चीज़ें अक्सर मुझसे छूट जातीं हैं.. यह कविता सच में बहुत अच्छी लगीं...दिल को छू गईं....

    उत्तर देंहटाएं
  21. मैं बहुत गन्दा हूँ... अच्छी चीज़ें अक्सर मुझसे छूट जातीं हैं.. यह कविता सच में बहुत अच्छी लगीं...दिल को छू गईं....

    उत्तर देंहटाएं
  22. मैं बहुत गन्दा हूँ... अच्छी चीज़ें अक्सर मुझसे छूट जातीं हैं.. यह कविता सच में बहुत अच्छी लगीं...दिल को छू गईं....

    उत्तर देंहटाएं
  23. आस्‍थाओं का मान रखना
    सबका ह्रदय में सम्‍मान रखना..

    क्या बात !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....