शुक्रवार, 13 जुलाई 2012

क्‍या कहूँ अब इन यादों को ... !!!














वो आज रूठा है यादों से
गुस्‍से से बोला
निकम्‍मी हैं ये तो
जब भी छुट्टी होती है
सोचता हूँ आज तो जी भर के सोना है
पर कहां आज तो आंखे रोज से पहले ही
तरोताज़ा हो गईं
यादें ले आईं सवेरे-सवेरे
एक फीकी सी बेड टी
मैं करवट बदल - बदल कर उसे अनदेखा करता  रहा
कानों में एक धीमी फुसफुसाहट सी हुई
ठंडी हो जाऊंगी तो बेस्‍़वाद लगूंगी
....
उफ् तुम्‍हें पता है हफ्तें भर की भागमभाग के बाद
ये संडे कितना प्‍यारा लगता है
एक भरपूर नींद हो कुछ ख्‍वाब हों
बस कोई खल़ल डालने वाला न हो
यादों का सुबह से आ धमकना
सच इन यादों की जगह
तुम होती तो
ये फीकी सी बेड टी भी मीठी लगती
हम मिलकर कुछ यादों का
एक स्‍पेशल बुके तैयार करते
कुछ यादों को साथ शेअर कर खिलखिलाते
कुछ को गुनगुनाते गीत की तरह
कुछ पलों को बनाते हम भी इक याद
कहते - कहते वो बड़बड़ा उठा
लो इन निकम्‍मी यादों ने मुझे भी
निकम्‍मा कर दिया :)
क्‍या कहूँ अब इन यादों को ... !!!


30 टिप्‍पणियां:

  1. वाह....
    बहुत सुन्दर........
    सस्नेह

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. फीकी सी बेड टी भी मीठी लगती !
    क्या खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या कहा जा सकता है …………सिवाय मुस्कुराने के :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम मिलकर कुछ यादों का
    एक स्‍पेशल बुके तैयार करते
    कुछ यादों को साथ शेअर कर खिलखिलाते

    मन को छू लेने वाली रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया ।

    सादर अभिनन्दन ।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इश्क ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया
    वरना हम भी आदमी थे काम के !

    सच इन यादों की जगह
    तुम होती तो ...

    मेरी कविता तो यहीं पर पूरी हो गई सदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये संडे कितना प्‍यारा लगता है
    एक भरपूर नींद हो कुछ ख्‍वाब हों
    बस कोई खल़ल डालने वाला न हो .... सप्ताह भर की थकान उतारनी होती है , और खलल से .... मन थक जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह भी तो देखिये जनाब ,की यादों की उम्र कितनी लम्बी होती है,शायद अपनी ज़िन्दगी से भी ज्यादा, और हर याद का एक अपना अलग अंदाज
    बहुत ही खूबसूरत कविता

    उत्तर देंहटाएं
  9. यादें भी तो संडे को ही आएँगी न...फुरसत में:)

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी रचना...सचमुच कोई साथ दे न दे लेकिन गुजरे दिनों की यादें हमेशा साथ देती हैं. वही जिंदगी का सरमाया होती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही है सारे फसाद कि जड़ यह मुई यादें ही तो है :)सुंदर भाव संयोजन...

    उत्तर देंहटाएं
  13. अब क्या कहें बेहतरीन रचना...
    यादें तो बस यादें होती हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  14. :):) यादों मेँ रचे बसे प्यारे से लम्हे ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. यादों के कोमल संसार की सारी खूबियाँ यह कविता कह जाती है. सुंदर अहसासों की रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बस ये यादें ही तो हैंजो सोने नही देती ..सुन्दर अहसास..

    उत्तर देंहटाएं
  17. लो इन निकम्‍मी यादों ने मुझे भी
    निकम्‍मा कर दिया :)
    क्‍या कहूँ अब इन यादों को ... !!!
    Sach....kabhee socha hee nahee tha ki yaden bhee nikamma kar detee hain!

    उत्तर देंहटाएं
  18. हम मिलकर कुछ यादों का
    एक स्‍पेशल बुके तैयार करते
    कुछ यादों को साथ शेअर कर खिलखिलाते
    कुछ को गुनगुनाते गीत की तरह


    सुन्दर एहसासों से भरी प्यारी सी कविता
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  19. यादों का प्रभाव संबंद्ध घटनाओं से कहीं अधिक होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. लो इन निकम्‍मी यादों ने मुझे भी
    निकम्‍मा कर दिया :)
    क्‍या कहूँ अब इन यादों को ... !!!

    यादों का सिलसिला ऐसा ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. आज 16/07/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  22. जब भी छुट्टी होती है
    सोचता हूँ आज तो जी भर के सोना है
    पर कहां आज तो आंखे रोज से पहले ही
    तरोताज़ा हो गईं

    बहुत ही सुन्दर लगी पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....