शनिवार, 7 जुलाई 2012

खामोशी को शब्‍द मिल जाएं .... !!!
















कुछ किवाड़ बंद हैं
सालों साल बीते नहीं बजी सांकल
चौखट ने नहीं सुनी उसकी खनखनाहट
ये कमरा जिसपे पड़ी कुर्सियों पे
बस धूल पसर जाती खामोशी की
कोने जालों से हैं भर जाते
व्‍यस्‍त मकड़ी हर दिन पूरी तन्‍मयता से
नया घर बनाती उतनी तल्‍लीनता से
जितना पहले वाला बनाया था
बहुत काम है उसके लिए तो
पूरा कमरा उसके आधिपत्‍य में जो है
....
कमरे में नमी सी है
इन दीवारों की सिसकियां शायद सुनी हों किसी ने
आहटों पर कान लगाये सन्‍नाटा भी थक चला है
अब वह चाहता है कोई आये
और भंग कर दे उसकी नीरवता को
इन दबी सिसकियों में
वह परत दर परत छिपी नमीं को आखिर 
कब तक ढहने से रोक पाएगा
....
जाने कितनी आवाजें गुम हैं
तुम्‍हें पुकारकर
आओ आजाद कर दो उन आवाजों को
तुम्‍हारा नाम हो हर तरफ़
तुम ही रहो हर तरफ़  बस तुम्‍हारी ही मुस्‍कान हो
जब बजे सांकल ...
तुम्‍हारी पायल के स्‍वर साथ देते हुए कह उठें
लो मैं आ गई ....
खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए .... !!!
...





32 टिप्‍पणियां:

  1. ओह बहुत सुंदर


    खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए .... !!!

    बिल्कुल

    उत्तर देंहटाएं
  2. कमरे की नमी मन के ही भावों का विस्तार है। अब तो पहले इन भवनाओं को कोई समझे फिर सब ठीक हो।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए .... !!!बहुत सुन्दर भाव संजोए है सदाजी..सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब ... आ जाओ की इस खामोशी कों जुबां मिल जाए ...
    बहुत जरूरी है आवाज़ मिलना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. जब बजे सांकल ...
    तुम्‍हारी पायल के स्‍वर साथ देते हुए कह उठें
    लो मैं आ गई ....
    खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए .... !!!
    ...

    न जाने मन के भाव कहाँ और कैसे दस्तक देते हैं .... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए .... !!!

    अत्यंत भावपूर्ण रचना.....
    सदा जी, आपने स्वयं बड़ी सुन्दरता से खामोशी को शब्‍द दे दिए....

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर...

    बहुत सुन्दर....
    सस्नेह

    उत्तर देंहटाएं
  8. ख़ामोशी को ही शब्द देती आपकी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  9. खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए .... आह! क्या ख्वाहिश है ………बहुत सुन्दर भाव संयोजन्।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अति सुन्दर भावपूर्ण रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. ....
    कमरे में नमी सी है
    इन दीवारों की सिसकियां शायद सुनी हों किसी ने
    आहटों पर कान लगाये सन्‍नाटा भी थक चला है
    अब वह चाहता है कोई आये
    और भंग कर दे उसकी नीरवता को
    इन दबी सिसकियों में
    वह परत दर परत छिपी नमीं को आखिर
    कब तक ढहने से रोक पाएगा
    .... वाह

    उत्तर देंहटाएं
  12. अतीत को पुकारती ....सुहानी यादेँ !

    उत्तर देंहटाएं
  13. खामोशी अपना संवाद कह जाती है..अपनी ही भाषा में..

    उत्तर देंहटाएं
  14. कमरे में नमी सी है
    इन दीवारों की सिसकियां शायद सुनी हों किसी ने
    आहटों पर कान लगाये सन्‍नाटा भी थक चला है
    अब वह चाहता है कोई आये
    और भंग कर दे उसकी नीरवता को
    इन दबी सिसकियों में
    वह परत दर परत छिपी नमीं को आखिर
    कब तक ढहने से रोक पाएगा,,,,,,,

    वाह ,,,, भावो की लाजबाब अभिव्यक्ति,,,,

    RECENT POST...: दोहे,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल रविवार को 08 -07-2012 को यहाँ भी है

    .... आज हलचल में .... आपातकालीन हलचल .

    उत्तर देंहटाएं
  16. ख़ामोशी भी कभी कभी बोल उठती है ..बहुत ही प्यारी रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. सन्नाटे को चीरते शब्दों की गूँज बहुत गहरी है.

    सुंदर संवेदनशील कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  18. "खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए .... !!!"
    यह खामोशी से झूझ रहे अंतर्मन की गहरी चाह है. जीवित द्वारा जीवन की इच्छा है. सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  19. नीरवता भंग करने को शब्दों की मनुहार ....
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. यही तो विडम्बना है कि खामोशीयों को ही तो शब्द नहीं मिल पाते ....बहुत बढ़िया गहन भावभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  21. जब बजे सांकल ...
    तुम्‍हारी पायल के स्‍वर साथ देते हुए कह उठें
    लो मैं आ गई ....
    खामोशी को शब्‍द मिल जाएं फिर कुछ और नहीं चाहिए

    यही तो नियति है .ख़ामोशी को शब्द कहाँ मिल पाता है .

    उत्तर देंहटाएं
  22. तुम ही रहो हर तरफ़ बस तुम्‍हारी ही मुस्‍कान हो
    जब बजे सांकल ...
    वाह

    उत्तर देंहटाएं
  23. khaamoshee ko swar mil jaaye,
    to dil ko sukoon man ko chain mil jaayegaa

    sundar rachnaa

    उत्तर देंहटाएं
  24. जज्बातों को शानदार ढंग से पिरोया है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  25. मकड़ी ने नया घर बना लिया न ....?
    तो अब आप भी सांकल बजने का इंतजार कीजिये ....::))

    बहुत सुंदर रचना .....!!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....