सोमवार, 2 अप्रैल 2012

सुननी ही होगी आवाज ... वो !!!
















तुमने भागने का मन बना तो लिया है
पर खुद से कब तक भाग सकोगे
बहुत मुश्किल है
मैं कोई और नहीं ... तुम्‍हारी ही परछाईं हूँ
सुननी ही होगी आवाज ... वो !!!
जो दस्‍तक दे रही है दिल के दरवाज़े पर
जिसकी वजह से मन और बुद्धि  में
हो जाता है झगड़ा
फिर कसैला हो हर मधुर ख्‍याल
हिला देता है हर बुनियाद को
मन को हमेशा
अपनी 'मैं' का ही ख्‍याल होता है
और बुद्धि निसहाय हो जाती है
विवेक को जागृत करना
उतना ही आवश्‍यक है
जितना मन के 'मै' का मान रखना ...
मन पे लग़ाम तो
विवेक ही लगा सकता है
आदत ... याने नशा
फिर वह किसी भी काम का हो
आदत अच्‍छी है या बुरी
इसके लिए विवेक को
ध्‍यान से जोड़कर
उसकी सतह तक जाना ही
होता है तभी किसी नतीज़े पर
पहुंचा जा सकता है ...
यक़ीन रखो जिस दिन तुमने
ये कर लिया
तुम मुक्‍त हो जाओगे
भय से .. अवसाद से...
आंखे डालकर जि़न्‍दगी से बातें
कर सकोगे और पा सकोगे
कुछ लम्‍हे सुकून के ...

36 टिप्‍पणियां:

  1. आदत अच्‍छी है या बुरी
    इसके लिए विवेक को
    ध्‍यान से जोड़कर
    उसकी सतह तक जाना ही
    होता है तभी किसी नतीज़े पर
    पहुंचा जा सकता है ...
    यक़ीन रखो जिस दिन तुमने
    ये कर लिया
    तुम मुक्‍त हो जाओगे ... behad achhe bhaw

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत गहरी बात कही सदा जी....
    विवेक को
    ध्‍यान से जोड़कर
    उसकी सतह तक जाना ही
    होता है तभी किसी नतीज़े पर
    पहुंचा जा सकता है .

    बहुत बढ़िया..
    सस्नेह

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह क्या बात है,

    तुमने भागने का मन बना तो लिया है
    पर खुद से कब तक भाग सकोगे
    बहुत मुश्किल है
    मैं कोई और नहीं ... तुम्‍हारी ही परछाईं हूँ
    सुननी ही होगी आवाज ... वो !!!

    बहुत सुंदर
    क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमारे अपने भय ही हमे डराते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुमने भागने का मन बना तो लिया है
    पर खुद से कब तक भाग सकोगे
    बहुत मुश्किल है
    मैं कोई और नहीं ... तुम्‍हारी ही परछाईं हूँ
    सुननी ही होगी आवाज ... वो !!!

    बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति,बेहतरीन पोस्ट,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. गहन बहुत सार्थक ...सुंदर अभिव्यक्ति ...
    शुभकामनायें .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर रचना...उत्तम प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन को छूती हुई नज़्म....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन को छूती हुई नज़्म....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. हम खुद से कब तक भाग सकते हैं .... ये आवाज़ तो सुनानी ही होगी तभी भाय दूर होगा ...अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut sundar ..aaj kal aapki hi arpita padh rahi hun ...behtreen bhaaw hai har kawita ke

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन पे लग़ाम तो
    विवेक ही लगा सकता है
    सुंदर रचना...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  13. यक़ीन रखो जिस दिन तुमने
    ये कर लिया
    तुम मुक्‍त हो जाओगे
    भय से .. अवसाद से...
    आंखे डालकर जि़न्‍दगी से बातें
    कर सकोगे और पा सकोगे
    कुछ लम्‍हे सुकून के ...
    Kitna sach kah rahee hain aap!

    उत्तर देंहटाएं
  14. दार्शनिक-से भाव, उत्तम रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्टस पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  16. आवाज़ तो सुननी ही होगी...अच्छी रचना...../

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह !!!!! बेहद खूबसूरत रचना,,बस पढ़ते ही गए जैसे की कोई कुछ बयान कर रहा है और आप अपने आप में नहीं....

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच कहा है ... विवेक से ही मन पे काबू किया जा सकता है ...
    उत्तम रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. हृदय की आवाज को नकार पाना बड़ा कठिन होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. मन को हमेशा
    अपनी 'मैं' का ही ख्‍याल होता है
    और बुद्धि निसहाय हो जाती है
    विवेक को जागृत करना
    उतना ही आवश्‍यक है
    जितना मन के 'मै' का मान रखना ...
    मन पे लग़ाम तो
    विवेक ही लगा सकता है

    ....बहुत सारगर्भित प्रस्तुति...सच में विवेक ही मन को काबू में रख सकता है...

    उत्तर देंहटाएं
  21. यथार्थ को कहती सुंदर भावपूर्ण सार्थक अभिव्यक्ति बहुत खूब ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. अपने से बच कर कोई जायेगा भी तो कहाँ .,
    स्वयं से सामना करने में ही सारे समाधान हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही सुन्दर एवं सारगर्भित रचना । मेरे नए पोस्ट "अमृत लाल नागर" पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  24. विवेक तक की यात्रा झीनी और कठिन है लेकिन संभव और सुहानी है. सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....