सोमवार, 23 अप्रैल 2012

वक्‍़त ये बीज़ बोकर रहेगा ...














मैं हारी नहीं हूं
कदमों में थकान भी नहीं है
तन शिथिल भी नहीं हुआ है
मन निरूत्‍साहित भी नहीं है
पर मैं  अब
जीतना नहीं चाहती किसी के मन को
मैं इन बातों से परे एक 
अलग दुनिया में
लगाना चाहती हूं
अपने उत्‍साह को
अपनी ऊर्जा को
अपने साहस को
बोना चाहती हूं बीज विश्‍वास के
जहां परम्‍पराओं के जल
के सिंचन की आवश्‍यकता न होती हो
विचारों की शुद्धता के लिए
आस्‍थाओं पर कुठाराघात न किया जाता हो
कुल के दीपक के नाम पर
वंश की बे‍ल को बढ़ाने के लिए
बेटियों की बलि न चढ़ाई जाती हो
ज्ञान के अर्जन के लिए
पोथियों को पाठ नहीं बल्कि
ढाई अक्षर का जीवन दर्शन दिखलाना चाहती हूं
कहो अब
क्‍या तुम्‍हें मेरे साथ चलने में खुशी होगी ?
या दिशा बदलकर
तुम भी पूर्व पथ का अनुगमन करना चाहोगे
याद रखो परिवर्तन सृष्टि का नियम है
जो होकर रहेगा
मैने नहीं बोया तो कोई बात नहीं
एक न एक दिन वक्‍त ये बीज़ बोकर रहेगा ...!!!

30 टिप्‍पणियां:

  1. बोना चाहती हूं बीज विश्‍वास के
    जहां परम्‍पराओं के जल
    के सिंचन की आवश्‍यकता न होती हो
    विचारों की शुद्धता के लिए
    आस्‍थाओं पर कुठाराघात न किया जाता हो
    कुल के दीपक के नाम पर
    वंश की बे‍ल को बढ़ाने के लिए
    बेटियों की बलि न चढ़ाई जाती हो
    ज्ञान के अर्जन के लिए
    पोथियों को पाठ नहीं बल्कि
    ढाई अक्षर का जीवन दर्शन दिखलाना चाहती हूं

    सार्थक सोच ... परम्पराओं के नाम पर अब अंकुरण नहीं होना चाहिए ... परिवर्तन ज़रूर होगा ... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. बदलेगा वक़्त जरुर .बहुत अच्छी कविता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. याद रखो परिवर्तन सृष्टि का नियम है
    जो होकर रहेगा
    मैने नहीं बोया तो कोई बात नहीं
    एक न एक दिन वक्‍त ये बीज़ बोकर रहेगा ...!!!... aasha mein hi sanchaar hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी कविता हमेशा मन-मस्तिष्क में एक नया संचार कर देती है...

    Regards.......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बीज तो बोया जा चुका है, पेड़ पल्लवित होकर रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हैट्स ऑफ इसके लिए....अंतिम पंक्तियाँ तो लाजवाब हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वे पुरातन पथ जिनपर अब सिर्फ कांटे ही रह गए हों, वे पुरातन मान्यताएं जिनमें दीमक लग चुकी हो.. उन्हें बिलकुल त्याग देना चाहिए.. क्रान्ति के बीज यूँ ही प्रस्फुटित होते हैं..
    आने वाले कल के लिए एक उत्साह भरा आह्वान!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जो होकर रहेगा
    मैने नहीं बोया तो कोई बात नहीं
    एक न एक दिन वक्‍त ये बीज़ बोकर रहेगा ...!!!

    .....बहुत सच लिखा आपने.
    बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज़रूर !..हमें भी यही विश्वास है ,...

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैने नहीं बोया तो कोई बात नहीं
    एक न एक दिन वक्‍त ये बीज़ बोकर रहेगा ..

    वाह !!!!!! बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर रचना,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...:गजल...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बीज बोते हैं -

    विश्वास करते हैं -

    वृक्ष बनेगा ।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. उम्मीद की बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये ढ़ाई आखर जो सीख ले, उसी में उसकी सार्थकता है। एक सार्थक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  15. बोना चाहती हूं बीज विश्‍वास के
    जहां परम्‍पराओं के जल
    के सिंचन की आवश्‍यकता न होती हो
    विचारों की शुद्धता के लिए
    आस्‍थाओं पर कुठाराघात न किया जाता हो

    प्रभावित करती पंक्तियाँ...... बहुत उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  16. परिवर्तन के लिए सदैव तैयार रहना चाहिए...ये बीज सही समय आने पर स्वयं विकसित हो जायेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर बीज के साथ एक परिवर्तन पैदा होता है. हम सभी परिवर्तन के बीज हैं. सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुंदर रचना.....अंतिम पंक्तियों ने तो मन मोह लिया।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ऐसा समय जरूर आएगा ... सब कुछ तो एक सा नहीं रहता ...
    बहुत लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. अनुकरणीय भाव समेटे सार्थक कविता। ...शुक्रिया इसे पोस्ट करने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  21. एक न एक दिन वक्‍त ये बीज़ बोकर रहेगा ...!!!
    प्रेरक और संकल्पयुक्त रचना

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही सुंदर भाव संयोजन अंतिम पंक्तियों ने समा बाँध दिया सकरात्म्क सोच लिए सार्थक अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सार्थक रचना, आमीन - ऐसा ही हो!!
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  24. याद रखो परिवर्तन सृष्टि का नियम है
    जो होकर रहेगा
    मैने नहीं बोया तो कोई बात नहीं
    एक न एक दिन वक्‍त ये बीज़ बोकर रहेगा ...!!!

    ....लाज़वाब अहसास और उनकी प्रभावी अभिव्यक्ति...बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  25. पोथियों को पाठ नहीं बल्कि
    ढाई अक्षर का जीवन दर्शन दिखलाना चाहती हूं

    Sada ji bahut hi prabhavshali rachana likhi hai aap ne ....badhai ke sath hi mere blog pr amantran bhai sweekaren

    उत्तर देंहटाएं
  26. आशा का संचार करती बहुत ही उत्कृष्ट रचना...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....