सोमवार, 16 अप्रैल 2012

मेरी राहों का तम हरता है ... !!!













 कैसे बिखरे हैं आज शब्‍द
मन के आंगन में
मैं समेटती हूं
भावनाओं की अंजुरी में जब  भी
ये दूर छिटक
मुझसे जाने कैसे - कैसे सवाल करते हैं
मैने कुछ नहीं छिपाया इनसे
सच कहा है सदा
सच को ही जिया है सदा
मेरा वज़ूद सच की
आंच से तप कर कुंदन हुआ
मन में  कितना भी क्रंदन हुआ
पर नहीं तन कभी विचलित हुआ
है शिखर पर आज जो
होकर मुझसे ज़ुदा
कल वो मेरा ही साया थे
तुम ही कहो
साया भी कभी पराया होता है?
पर कैसे समझाऊं
किसको अपना मन दर्पण दिखलाऊं
इनके मन का भरम में
किस विधि मिटाऊं
.....
वक्‍त की साजि़शों का शिकार
जब भी कभी मन होता है
सच कहूं
बस अपनों से ही गिला होता है
एहसासों के म‍ंदिर में
एक दिया विश्‍वास का जलता है
यही है वह  दिया जो
हर तूफ़ान में
मेरी राहों का तम हरता है ...

44 टिप्‍पणियां:

  1. विश्वास का ये दिया सदा जलता रहे ...सदा जी ..
    अनेक शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. एहसासों के म‍ंदिर में
    एक दिया विश्‍वास का जलता है
    यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है ...



    छू गए शब्द दिल को!! बहुत सुन्दर और प्रेरित करती रचना...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब आस पास रौशनी ना हो तो साया साथ छोड़ता ही है..............
    विश्वास का दीप जलाये रखिये..........राह अपने आप मिलेगी....

    बहुत सुंदर रचना सदा....

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर

    शब्द-भाव -प्रवाह ।

    वाह वाह ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. विश्वास के ये दिये जलते रहने चाहियें .. शाश्वत ... भावमय रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर

    भावनाओं की अंजुरी....

    मुझे याद नहीं ये अंजुरी शब्द मैने कितने दिनों बाद सुना होगा। इतना प्यारा वाकई कहीं गुम हो गया था।

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक दिया विश्‍वास का जलता है
    यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है ...

    विस्वास के सहारे ही तो जीवन की नैया चलती है

    बहुत सुंदर सार्थक भावनात्मक रचना...बेहतरीन पोस्ट के लिए बधाई

    सदा जी,..मेरे पोस्ट पर आइये स्वागत है,...
    .
    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    उत्तर देंहटाएं
  8. वक्‍त की साजि़शों का शिकार
    जब भी कभी मन होता है
    सच कहूं
    बस अपनों से ही गिला होता है ... स्वाभाविक है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. वक्‍त की साजि़शों का शिकार
    जब भी कभी मन होता है
    सच कहूं
    बस अपनों से ही गिला होता है
    Bilkul sahee kaha aapne!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच, यह दिया नहीं होता तो रास्ते अंधेरे में खो जाते, सदा जी बहुत गहरी सोंच है, आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. कैसे बिखरे हैं आज शब्‍द
    मन के आंगन में
    मैं समेटती हूं
    भावनाओं की अंजुरी में जब भी
    ये दूर छिटक
    मुझसे जाने कैसे - कैसे सवाल करते हैं
    बहुत कठिन भावाभिव्यक्ति है जिसे पर्याप्त शब्दों के साथ कहा गया है. कविता सकारात्मकता के साथ मंज़िल तक आती है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर गहन अभिव्यक्ति सदाजी ......!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. विश्वास बनाये दृढ़ रखता,
    स्पष्ट समय की थापों पर।

    उत्तर देंहटाएं
  14. विश्वास से तो परम-सत्ता तक पहुंचे हैं लोग। उस सत्ता से नीचे कोई किसी भी शिखर पर क्यों न हो,कमतर ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है ..

    जी हाँ ..
    विश्वास न हो
    तो
    कोई आस-पास न हो

    उत्तर देंहटाएं
  16. ...शब्दांकन और तस्वीर दोनों ही बहुत अच्छी लगीं ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  17. तुम ही कहो
    साया भी कभी पराया होता है?
    पर कैसे समझाऊं
    किसको अपना मन दर्पण दिखलाऊं
    इनके मन का भरम में
    किस विधि मिटाऊं
    भावनाओं में रची बसी सुन्दर प्रस्तुति. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस कविता का आशावादी स्वर हमें प्रेरित करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. एक उम्मीद का दिया दिखाती, कोमल भावनाओं को खूबसूरत में शब्दों में पिरोती संवेदनशील रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. एहसासों के म‍ंदिर में
    एक दिया विश्‍वास का जलता है
    यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है ...

    Skaratmak Soch liye Panktiyan..... Sunder Rachna

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुंदर रचना सदा जी ! ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही सुन्दर और आशा भरी पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर आशाओं से भरी अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बेहतरीन रचना,कोमल भाव.कोमल भाव बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  25. लाख तम हर लेता हो
    पर विश्वास ही है जो
    जीवन को आगे बढाता है

    उत्तर देंहटाएं
  26. शब्दों के बिखरने की मन में छवि बनी मानो आँधी आयी हो और बाहर रस्सी पर सूखने के लिए शब्दों को इधर उधर बिखेर दिया हो. :)

    सदा जी, मेरे चिट्ठे के बारे में "नयी पुरानी हलचल" पर लिन्क देने के लिए बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  27. एहसासों के म‍ंदिर में
    एक दिया विश्‍वास का जलता है
    यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है ...
    sunder bhavon se saji aapki kavita man ko bhai hai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  28. सच कहूं
    बस अपनों से ही गिला होता है
    एहसासों के म‍ंदिर में
    एक दिया विश्‍वास का जलता है
    यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है ...

    हृदयस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  29. भावुक कविता.. यह आस और विश्‍वास का दिया यूं ही जलता रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  30. वक्‍त की साजि़शों का शिकार
    जब भी कभी मन होता है
    सच कहूं
    बस अपनों से ही गिला होता है

    ....यही आज का सत्य है...बहुत सुन्दर भावमयी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  31. वक्‍त की साजि़शों का शिकार
    जब भी कभी मन होता है
    सच कहूं
    बस अपनों से ही गिला होता है
    एहसासों के म‍ंदिर में
    एक दिया विश्‍वास का जलता है
    यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है
    सत्य का एहसास कराती बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  32. कल 20/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  33. यही है वह दिया जो
    हर तूफ़ान में
    मेरी राहों का तम हरता है ......kitna sahi kahe hain.

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुन्दर सदा जी ..आपकी इस रचना को पढ़ कर अपनी एक रचना याद आ गई

    मेरे मन के आँगन में
    नहीं खिलते अब
    कोई भी फूल
    न ही लगते हैं
    कोई बेल बूटे

    http://sumanmeet.blogspot.in/2011/12/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  35. बस विश्वास का दिया "सदा" यूं ही जलाये रहियेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत ही सुन्दर बहुत ही बेहतरीन रचना....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरा फोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....