बुधवार, 4 अप्रैल 2012

कौन मनायेगा ???













याद तेरी जब भी आती
जाने कितने सवाल करती
कभी जज्‍बातों से लड़ती
तो कभी तनहाईयों से पूछती
किस बात पे तुमने
मुझपर यूं पहरे लगाये हैं
  ...
मैं सिमट जाऊंगी
खुद ही एक दिन
तुम्‍हारी आंखों में
बन के अश्‍क
जिनमें आज भी
मेरी यादों के साये हैं ...
कोई कुछ कहता
इससे पहले ही
इक रूठी हुई याद ने
इस कदर हंगामा कर दिया
मेरे दिल का कोना
फ़कत तनहाईयों के नाम
कर दिया 
...
कौन मनायेगा ?
उस रूठी हुई याद को
किससे पूछती ?
लब खामोश थे  जहां
वहां जज्‍बात बेजुबान से
दिल की सदा
सुनने को कोई तैयार नहीं
दिमाग अपनी चलाता
मर्जी अपनी
सबसे पहले दिखलाता
कोई कुछ कहता तो
बस एक (: बुझी मुस्‍कान
कोई रास्‍ता नहीं
उसके पास यादों का
झगड़ा निपटाने के लिए
कोई याद तैयार नहीं थी तेरी
इस दिल से जाने के लिए ...





38 टिप्‍पणियां:

  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति ।
    बधाई स्वीकारें ।।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. वाह...बहुत ही शानदार रचना प्रस्तुत की है आपने दी पढ़ते पढ़ते आनंद आ गया ......बहुत बहुत आभार।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. किस बात पे तुमने
    मुझपर यूं पहरे लगाये हैं...बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. किस बात पे तुमने
    मुझपर यूं पहरे लगाये हैं.

    शानदार अभिव्यक्ति!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. कौन मनायेगा ?
    उस रूठी हुई याद को
    किससे पूछती ?
    लब खामोश थे जहां
    वहां जज्‍बात बेजुबान से
    दिल की सदा
    सुनने को कोई तैयार नहीं
    ....jab koi nahi sunta tab dil hi to hai jo apne aap ko manata rahta hai..
    bahut badiya jajbaat..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बहुत सुन्दर...................

    सस्नेह.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. रूठी यादों को मनाते चलों, प्यार बाँटते चलो।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. इस कदर हंगामा कर दिया
    मेरे दिल का कोना
    फ़कत तनहाईयों के नाम
    कर दिया
    दिल को छू गाई ये अभिव्यक्ति सदा जी ....!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. कौन मनायेगा ?
    उस रूठी हुई याद को
    किससे पूछती ?
    लब खामोश थे जहां
    वहां जज्‍बात बेजुबान से
    दिल की सदा
    सुनने को कोई तैयार नहीं,...

    शानदार बेहतरीन अभिव्यक्ति!...सदा जी ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. बहुत मना कर भी ,कोई ना मना पाया
    अब क्या देखूं और क्या देखूं कि कौन मनाएगा ||....अनु

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. इक रूठी हुई याद ने
    इस कदर हंगामा कर दिया
    मेरे दिल का कोना
    फ़कत तनहाईयों के नाम
    कर दिया

    जब याद अभी भी बसी है तो तनहाई कैसी ? सुंदर प्रस्तुति

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. तन्हाई और यादों का तो घनिष्ठ रिश्ता है
    बहुत सुन्दर रचना

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. उफ़ यादे भी कैसे कैसे ज़ुल्म ढाती है

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. ये यादें भी तो हट्ठी होती हैं आसानी से जाती नहीं ... और फिर ये तन्हाई से मिल जुल के भी रहती हैं ... अच्छी रचना ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. कोई याद तैयार नहीं थी तेरी
    इस दिल से जाने के लिए ...बहुत खूब...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. ये यादें भी बड़ी संगदिल हुआ करती हैं ... सुन्दर प्रस्तुति!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. यादे तो सच में मनको झकजोर के रख देती है ...बहुत सुन्दर !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति, सुन्दर भावाभिव्यक्ति, बधाई.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. विरोधाभाषों का समुच्चय आपकी इस कविता को अद्भुत बनाता है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. वाह सदाजी! ....आपकी लेखनी ने जुबां को चुप कर दिया ....यह वाह तो दिलसे निकली है ....!!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. वह याद ही ऐसी थी .....
    शुभकामनायें आपको !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. इक रूठी हुई याद ने
    इस कदर हंगामा कर दिया
    मेरे दिल का कोना
    फ़कत तनहाईयों के नाम
    कर दिया

    वाह!! बहुत सुंदर रचना.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. कौन मनायेगा ?
    उस रूठी हुई याद को
    किससे पूछती ?
    लब खामोश थे जहां
    वहां जज्‍बात बेजुबान से
    दिल की सदा
    सुनने को कोई तैयार नहीं
    लाजवाब !!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. सुन्दर भावमय प्रस्तुति.
    सुनीता जी के दिल में अच्छा ख्याल आया हैं.
    क्या खूबसूरत अदाकारा हैं आप ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरा फोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....