गुरुवार, 19 अप्रैल 2012

यादों की हथेली को ....


















इक याद ने तेरी
हठ ठानी है
उसके आगे मेरी
हर बात हुई बेमानी है .... !
जरूर उसने कोई
काला जादू सीखा होगा :)
मैं कितना भी उसे  कहती
मुझको न यूँ आकर
अपने रंग दिखलाओ
कुछ यादों ने
अभी-अभी ही पलकें मूंदी हैं
उनको न जगाओ
कभी हिचकी  तो
कभी बेवज़ह खिलखिलाना
सोती हुई यादों को
गुदगुदाना ... !!
फ़कत इक लम्‍हा हँसी का  देकर
फिर खो जाना दूर कहीं
अचानक भरी भीड़ में सब के बीच
कभी चुपके से आ जाना
यादों की हथेली को
पलकों पे रख
धीमे से फुसफसाना
पहचानो मुझे ... !!!

40 टिप्‍पणियां:

  1. स्मृतियाँ यूँ ही दस्तक देती रहती हैं.... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्र चाहे जो भो हो .....
    यादोँ का काम है सुकून देन!
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये हठ भी गजब की होती है ... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. यादें कहीं मानती है क्या ,आये बिना.....बड़ी जिद्दी होतीं हैं.....

    सुंदर भाव...

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!....आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया यादों की सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  7. hmmm...kuch yaadein badi nalayak hoti hai...bin bulaye aa tapakti hai :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. कभी चुपके से आ जाना
    यादों की हथेली को
    पलकों पे रख
    धीमे से फुसफसाना
    पहचानो मुझे ... !!!
    ...........बहुत ही सुन्दर बहुत ही सुकून भरी पंक्तियाँ..!

    उत्तर देंहटाएं
  9. कभी चुपके से आ जाना
    यादों की हथेली को
    पलकों पे रख
    धीमे से फुसफसाना
    पहचानो मुझे ...
    sundar bhaav liye,behatariin rachana.

    उत्तर देंहटाएं
  10. ज़िन्दगी में हंसी-ठिठोली के ये दो चात क्षण बडे महत्वपूर्ण होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये यादें नहीं जाती ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  12. यादों की हथेली को
    पलकों पे रख
    धीमे से फुसफसाना
    पहचानो मुझे ... !!!
    बस यही तो यादों की आँख मिचौली होती है :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. यादें वैसे भी अंधियारे में एक प्रकाश की किरण की तरह होती है.. या फिर अनजान लोगों की भीड़ में किसी दोस्त की तरह.. बहुत ही हौले से दिल को छूने वाली कविता!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. कोमल एहसास की कोमल अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  15. यादें ऐसी ही होती है , भरी भीड़ में चुपके से आँखों पर हाथ रख आँख मिचौली खेलती है !
    मन को भिगोती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  16. अनूठे शब्द और अद्भुत भाव से सजी इस रचना के लिए बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर रचना। सहज अभिव्यक्ति। मन पर प्रभाव
    छोड़ने वाली प्रस्तुति।

    आनन्द विश्वास

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरे पास शब्द नहीं
    कि
    प्रतिक्रिया दे सकूं
    मौन भावनाएँ अर्पित है
    सादर
    यशोदा

    उत्तर देंहटाएं
  19. छोटी छोटी घटनाएँ भी कितनी संवेदना जगाती है यह आपकी कविता दर्शाती है. बधाई इस सुंदर प्रस्तुति के लिये.

    उत्तर देंहटाएं
  20. इक याद ने तेरी
    हठ ठानी है

    इन चार शब्दों में ही पूरी कहानी है....

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही प्यारी रचना है... मन में एक मीठी मुस्कान बिखेर गयी... :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. कभी चुपके से आ जाना
    यादों की हथेली को
    पलकों पे रख
    धीमे से फुसफसाना
    पहचानो मुझे ... !!!

    aisi pahachan se bhala kaun nahi vakif hoga ....badhai ke sath abhar bhi .

    उत्तर देंहटाएं
  23. कोमल भावो की सुन्दर ,प्यारी रचना....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....