सोमवार, 9 अप्रैल 2012

आस का एक धागा ....














मैं  आस का एक धागा लाई हूं
जो अभी बहुत कमज़ोर है
पर तुम्‍हे पता है

इसे हम और मज़बूत कर सकते हैं
इसी तरह का
एक धागा मैने तुम्‍हारे पास भी देखा था
तुमने भी तो उसमें
कोई गांठ नहीं बांधी है
और मैंने भी 
इसमें कोई गांठ नहीं बांधी 
दोनो इकट्ठे होंगे तो
मजबूत हो जाएंगे ...

हमें इस धागे को
मजबूत करने के लिए
दोनो को एकसार करना होगा
कमजोर धागों में यूं तो
गांठ लगती नहीं
यदि लग गई तो फिर
खुलती नहीं ...

फिर जब भी कोई
इसे तोड़ना चाहेगा
उंसकी उंगलियों में
ये अपने टूटने का
घाव जरूर दे जाएगा
और एक अनचाहा दर्द भी ...

31 टिप्‍पणियां:

  1. सदा दीखती दृष्टि-नवल, धवल प्रेम संवाद ।

    संग जुड़ें शक्ति मिले, प्रेम सूत्र नाबाद ।।



    dineshkidillagi.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  2. आस सबल होती है ..दो लोगों की आस जुड़ कर प्रार्थना बन जाती है .....आसानी से नहीं टूटती ...
    बहुत सुंदर रचना ...सदा जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमें इस धागे को
    मजबूत करने के लिए
    दोनो को एकसार करना होगा
    कमजोर धागों में यूं तो
    गांठ लगती नहीं
    यदि लग गई तो फिर
    खुलती नहीं ...
    Kya gazab ka likha hai!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भाव सदा जी.......................

    किसी के तोड़ने से भी नहीं टूटते ये धागे........

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कमजोर धागों में यूं तो
    गांठ लगती नहीं
    यदि लग गई तो फिर
    खुलती नहीं ...


    Bahut Sunder....

    उत्तर देंहटाएं
  6. मनोभावों को बेहद खूबसूरती से पिरोया है आपने.......
    हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जी बहुत सुंदर रचना है
    आपको पढने में सच में अच्छा लगता है


    हमें इस धागे को
    मजबूत करने के लिए
    दोनो को एकसार करना होगा
    कमजोर धागों में यूं तो
    गांठ लगती नहीं
    यदि लग गई तो फिर
    खुलती नहीं ...

    क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  8. jahaan do miljaate hain vahaan majbooti aati hai sudradhta aati hai chaahe vo rishton ki hi baat ho.bahut gahan baat kahi hai rachna ke maadhyam se sada ji.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आस का धागा और मजबूत करने के लिए एकसार करना ... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. आस का धागा टूटने पे बहुत तकलीफ होती है ... ऊपर के घाव तो भर भी जाते हैं ... अंदर के घाव नहीं भरते ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह....बहुत खूबसूरत लगी पोस्ट....शानदार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. फिर जब भी कोई
    इसे तोड़ना चाहेगा
    उंसकी उंगलियों में
    ये अपने टूटने का
    घाव जरूर दे जाएगा
    और एक अनचाहा दर्द भी ..

    .............भावपूर्ण रचना अभिव्यक्ति. रचना के माध्यम से सटीक बात ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. जो अभी बहुत कमज़ोर है
    पर तुम्‍हे पता है

    इसे हम और मज़बूत कर सकते हैं
    ...बहुत ही सुन्दर सदा दी ....शब्दों में अपनापन सा लगता है 1!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. फिर जब भी कोई
    इसे तोड़ना चाहेगा
    उंसकी उंगलियों में
    ये अपने टूटने का
    घाव जरूर दे जाएगा
    और एक अनचाहा दर्द भी ...

    yahi to is dhaage ki khasiyat hai....isliye saawdhan rahna hoga.
    sunder prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  15. कमजोर धागों में यूं तो
    गांठ लगती नहीं
    यदि लग गई तो फिर
    खुलती नहीं ... sarvsty

    उत्तर देंहटाएं
  16. आशाओं को इस तरह मजबूती मिले तो क्या बात है । कोई तोडना चाहे तो वह खुद ही टूट जाए ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. फिर जब भी कोई
    इसे तोड़ना चाहेगा
    उंसकी उंगलियों में
    ये अपने टूटने का
    घाव जरूर दे जाएगा
    और एक अनचाहा दर्द भी ...
    सुन्दर रचना,बेहतरीन भाव पुर्ण प्रस्तुति,.....

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....
    RECENT POST...फुहार....: रूप तुम्हारा...

    उत्तर देंहटाएं
  18. आस का धागा कातते कातते एक जीवन सूत्र बन जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह !!! धागे के माध्यम से गहन बात...बधाई असीमित भाव भरी रचना के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  21. अति सुन्दर रचना ,सारगर्भित लेखन के लिये बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  22. रिश्तों की कच्ची डोर और मज़बूत संबंधों की दास्तान!!
    बहुत सुन्दर!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. उत्कृष्ट कृति |
    बुधवारीय चर्चा-
    मस्त प्रस्तुति ||

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. आस का धागा। दो धागों को एकसार करना। अदृभुत बिम्‍ब है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  25. आस का धागा बहुत ही खुबसूरती से बंधा है..बहुत सुन्दर भाव सदा जी..बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  26. धागों का समायोजन...आइडिया अच्छा है...जितने रिश्ते उतने धागे...उतनी मजबूती...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....