मंगलवार, 8 नवंबर 2011

कैसे न करूं मैं परिक्रमा आपकी .....!!!

















मां ...आप
हर बात मन में कैसे
जज्‍ब सी कर लेती हैं
देखिए ना मेरा स्‍नेह
आपको धूरी बना
बस आपकी ही
परिक्रमा करता रहता है
कुछ पूछने पर
आंखो में उसके
नजर आती है
आपकी तस्‍वीर
ये कैसी है तलाश इसकी
जो कभी खत्‍म
नहीं होती ....।
मां ..आप
हर बात को इतनी सहजता से
कैसे ले लेती हैं
जब हम नाराज होते हैं तो
आप झांककर हमारी आंखों में
मुस्‍करा के कहती हैं
तुम्‍हारा चेहरा
बिल्‍कुल अच्‍छा नहीं लगता ऐसे
बताओ तो मुझे क्‍या हुआ
और हम शुरू हो जाते हैं
टेप रिकार्ड का प्‍ले बटन दबा दिया हो
किसी ने जैसे
शिकायतें और शिकायतें
और उस वक्‍त
हम ध्‍यान देते तो देखते
आपका हांथ हमारे सिर पर होता
बस इतनी सी बात
हां मां बात इतनी सी है
इसका अहसास हुआ हमें
आपकी मुस्‍कराहट में
उस धवल हंसी  से
जाना कितना सुकून है
आपके साये में
तो कहिए
कैसे न करूं मैं परिक्रमा आपकी  .....!!!

25 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर पंक्तिया... माँ शब्द को सार्थक करती हुई ,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावमय कविता !

    कृपया पधारें ।

    http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर भाव............सच है माँ के कदमो में ही जन्नत है |

    उत्तर देंहटाएं
  4. माँ तो माँ ही होती है .... गज़ब के भाव हैं इस रचना में ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब, माँ के बड़ी कोई नेमत नहीं

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह मैंने कहीं पढ़ी है। मगर खैर कोई बात नहीं, जिसने भी लिखा है एक एक शब्द सही है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. पल्‍लवी जी,

    आपने बिल्‍कुल सही कहा ... इस रचना को आप पहले वटवृक्ष पर पढ़ चुकी हैं ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. माँ तो आखिर माँ है ना.

    बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. http://urvija.parikalpnaa.com/2011/10/blog-post_03.html

    yahan yah rachna inki aa chuki hai pahle

    उत्तर देंहटाएं
  10. “माँ सम बोलें कौन है, माँ रहकर के मौन
    अन्तर की भाषा पढ़े, माँ से बढ़कर कौन?”

    बहुत ही प्यारी रचना...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सदा जी,..माँ और बेटी के जज्बातों की सुंदर प्रस्तुति..लाजबाब पोस्ट
    मेरे नए पोस्ट में स्वागत है....

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी तस्‍वीर
    ये कैसी है तलाश इसकी
    जो कभी खत्‍म
    नहीं होती ....।

    sundar...

    उत्तर देंहटाएं
  13. मां को समर्पित सुंदर रचना।
    आभार.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत प्यारे भाव लिए हुए ... माँ की परिक्रमा कर ली तो सारी दुनिया की कर ली ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरे नये पोस्ट -वजूद- में स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  16. सही है ....माँ के कदमों में ही सब कुछ है
    माँ को समर्पित सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....