मंगलवार, 1 नवंबर 2011

मेरी खुशी ....!!!


 










उसे जानना है मेरे बारे में सब कुछ,
मैं हंस दी
उसके इस सवाल पे
सब कुछ क्‍या होता है
उसने कहा ...
आपकी चाहत, खुशी और हंसी ,
आपकी पसंद
मैं सोच में पड़ गई
क्‍या कहती
इन बातों से तो मैं खुद भी अंजान थी
मेरी चाहत ...
मन ही मन सोचा
अपने बारे में कभी सोचा ही नहीं मैने
तो उसे क्‍या बताऊं ...
मेरी खुशी ..
दूसरों के चेहरे पर 
मुस्‍कान के सिवा 
कभी कुछ चाहा ही नहीं
मैं उन्‍हीं खुशियों के बीच
रही हंसती सदा
मेरी पसंद भी ऐसी ही है
जो सबको भा जाए
वही मुझे पसंद है ...
उसने अपनी पलकें
हैरानी से झपकाईं
ऐसा भी कहीं होता है
मैने एक लम्‍बी सांस ली
ऐसा होता तो नहीं
पर शायद मेरे साथ ऐसा हो गया है ...!!!!

33 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी खुशी ..
    दूसरों के चेहरे पर मुस्‍कान
    के सिवा कभी कुछ चाहा ही नहीं
    मैं उन्‍हीं खुशियों के बीच
    रही हंसती सदा

    बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. लगता है हर गृहणी सबकी खुशी ही चाहती है और उसी में अपनी खुशी ढूँढ लेती है .. सत्य को कहती अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. जानने की बातों को तो कभी जाना ही नहीं, सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी खुशी ..
    दूसरों के चेहरे पर
    मुस्‍कान के सिवा
    कभी कुछ चाहा ही नहीं...तभी तो अब पन्ने ही हमसफ़र हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. जो सबको भा जाए
    वही मुझे पसंद है ...
    उसने अपनी पलकें
    हैरानी से झपकाईं
    ऐसा भी कहीं होता है
    दुसरे के लिए जीने कि
    कला को दर्शाती सुन्दर रचना.... !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. दूसरों के चेहरे पर
    मुस्‍कान के सिवा
    कभी कुछ चाहा ही नहीं...

    सचमुच ऐसा नहीं होता...
    पर होना बड़ा सुखद है....
    सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर भावों से भरी पोस्ट.......सच हम खुद ही नहीं जान पाते की हम क्या चाहते हैं तो दूसरों से क्या कहें........पसंद आई |
    फुर्सत मिले तो हमारे ब्लॉग 'जज़्बात' पर भी नज़र डालें |

    उत्तर देंहटाएं
  8. उसने अपनी पलकें
    हैरानी से झपकाईं
    ऐसा भी कहीं होता है
    मैने एक लम्‍बी सांस ली
    ऐसा होता तो नहीं
    पर शायद मेरे साथ ऐसा हो गया है
    बहुत सुंदर एवं गहरे भावों से सजी,सच्चाई को ब्यान करती बेहद सुंदर कविता .....लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बेहतरीन अभिव्यक्ति। धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  10. सूंदर भावनाओं के साथ लिखी लाजबाब रचना सुंदर पोस्ट....

    उत्तर देंहटाएं
  11. दूसरों की खुशियों पसंद नापसंद में ही ऐसे जीवन गुजर जाता है कि अपनी पसंद जानने का समय ही नहीं या कहे तो होश ही नहीं रहता.

    बहुत सुंदर भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर और निश्छल भावो से लिखी बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  13. खुशी देने से ही खुशी मिलती है.
    सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    छठपूजा की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  15. दूसरों के चेहरे पर
    मुस्‍कान के सिवा
    कभी कुछ चाहा ही नहीं
    मैं उन्‍हीं खुशियों के बीच
    रही हंसती सदा
    मेरी पसंद भी ऐसी ही है
    खुशी ढूंढने का शायद यही सबसे अच्छा तरीका है दूसरों के चेहरे पर खुशियाँ लाना
    सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  16. उसने अपनी पलकें
    हैरानी से झपकाईं
    ऐसा भी कहीं होता है
    मैने एक लम्‍बी सांस ली
    ऐसा होता तो नहीं
    पर शायद मेरे साथ ऐसा हो गया है ...!!!!
    Vilakshan!

    उत्तर देंहटाएं
  17. दूसरों के चेहरे पर मुस्कान की चाह ... छोटी से चाह ही तो है .. पर कितनी पवित्र ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. अलग सोच की कविता....शब्दों का चयन और प्रवाह .....अदभुत

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर भावों से उपजी रचना |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....