गुरुवार, 3 नवंबर 2011

तुमसे कहा क्‍यूं नहीं .... :)


















मुझे कहना होता है जब भी
तुमसे कुछ
उलझनें तुम्‍हारी मुझे
कुछ कहनें नहीं देती
मैं खामोश रह
सोचती रहती हूं बस
तुमको और तुम्‍हारी उलझनों को
मुझे हंसना भी
तुम्‍हारे साथ होता है
बतियाना भी
तुम्‍हारे साथ होता है
खबर है यह  भी  कि
तुम्‍हारी दुनिया बहुत बड़ी है
मेरी दुनिया सिर्फ
तुम से जुड़ी है .....
कहो कैसे संभव है
मेरे लिए कुछ लम्‍हे
चुराने हों तुम्‍हें भरी भीड़ से
मुमकिन है क्‍या ?
ये शिकायत तो नहीं है
बस मन में उठा
इक ख्‍़याल है  ....
कहना जरूरी था
तुम ये न कहो कभी
तुमसे कहा क्‍यूं नहीं .... :)

44 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भाव संजोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत प्रस्तुति , आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम्‍हारी दुनिया बहुत बड़ी है
    मेरी दुनिया सिर्फ
    तुम से जुड़ी है .....

    बहुत खूबसूरत|

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! बहुत बढ़िया, सुन्दर रचना...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये छोटी सी दुनिया ही तो असली दुनिया होती है सी की ... बहुत खूब ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह सदा जी बहुत सुंदर मनोभावों से सुसजित अभिव्यक्ति ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझे हंसना भी
    तुम्‍हारे साथ होता है
    बतियाना भी
    तुम्‍हारे साथ होता है
    .........वाह, दिल को छूती पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये शिकायत तो नहीं.
    बस मन में उठा एक ख्याल है.
    बेहत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबसूरत और दिल की छोटी बातों को बेहतरीन शब्दों में पिरोया है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. उहापोह का सुन्दर चित्रण
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी सुंदर लिखने की ये अदा
    शायद ही लिख पाते है यदा कदा
    आप दिल से हमेशा यूँ लिखती रहे
    कवितायें पसंद आती रहेगीं "सदा"....
    सुंदर पोस्ट ...
    नए पोस्ट पर स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्यारी सी दुनिया, प्यारी सी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  13. नन्‍ही दुनिया के अपने रंग होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत भावपूर्ण रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  15. sada ji
    bahut khoob 1 aapne apni baat bhi kah di aur unhe shikayat ka mouka bhi nahi milega---wah-wah
    bahut hi achha laga aapka ye andaaz.
    ham bhi aajmayenge---;
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  17. उसकी दुनिया बड़ी होगी तब भी कहने से क्यों हिचकना ...
    ना कर पाए कुछ , सुन तो लेगी ही ...
    प्यारी- सी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  18. भावभरी रचना।
    सुंदर प्रस्‍तुतिकरण।

    उत्तर देंहटाएं
  19. इक ख्‍़याल है ....
    कहना जरूरी था
    तुम ये न कहो कभी
    तुमसे कहा क्‍यूं नहीं .... :)

    सुन्दर ... मन के भाव उड़ेल दिए हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  20. खूब सरल, सरस और सारगर्भित।

    उत्तर देंहटाएं
  21. न कहने का मलाल भी तो नहीं होना चाहिए. बहुत सुंदर भाव से सीजी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी किसी पोस्ट की हलचल है ...कल शनिवार (५-११-११)को नयी-पुरानी हलचल पर ......कृपया पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें .....!!!धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  23. तुम्‍हारी दुनिया बहुत बड़ी है
    मेरी दुनिया सिर्फ
    तुम से जुड़ी है .....
    कहो कैसे संभव है
    मेरे लिए कुछ लम्‍हे
    चुराने हों तुम्‍हें भरी भीड़ से
    मुमकिन है क्‍या ?

    कितनी सच्ची बात कह दी इन पंक्तियों में आपने ! नारी मन की व्यथा को बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति दी है ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  24. kitni sadgi se komalta se man ki baat kah di. acchha hua kah di....ab vo kya samjhe kya pata.

    bahut sunder abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  25. हाँ जिंदगी में गलतफहमी नही होनी चाहिए और शिकायत के मौके तो एक दम नही |

    उत्तर देंहटाएं
  26. दिल के जज्बातों की सुंदर प्रस्तुति ,खूबसूरत फोटो के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  27. waah...
    na jne kitni baatein kahni thi
    na jane kitni baatein sunni thi
    par na us waqt man kaha lag jata hai
    tumhari us madhur awaaz mie kyu kho jata hai...
    aur fir sochti hu, wo baatein jo kahni thi
    aur kahti hu khud se
    ki "tumse kaha kyu nahi"
    aapki rachna padh ke ye panktiyaan aa gain mere man mei, so likh di... :)

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....