मंगलवार, 3 नवंबर 2009

पवित्रता की आंच पर ....

अभिमान का दाना,

तुम नहीं खाना,

तुम्‍हें भी

अभिमान आ जाएगा

सजाना रिश्‍तों को

अपनेपन से

परोसना

उनकी थाली में

स्‍नेह का भोजन

जिसे पकाया गया हो

पवित्रता की आंच पर

जिससे

उसमें महक होगी

विश्‍वास की,

एकता का रस होगा

जो तुम्‍हारी जिभ्‍या को

रसास्‍वादन कराएगा,

तुम्‍हारी सोच को

संकुचित नहीं होने देगा

एक मजबूत मस्तिष्‍क

जो लड़ सकेगा

हर चुनौती से,

बचाएगा

तुम्‍हारे विचारों को

इधर-उधर भटकने से

संजो सकोगे तुम

वो सपने जिन्‍हें

हकीकत बनने से

कोई रोक नहीं पाएगा ।

25 टिप्‍पणियां:

  1. जिसे पकाया गया हो

    पवित्रता की आंच पर

    जिससे

    उसमें महक होगी

    विश्‍वास की,
    \

    in panktiyon ne dil chhoo lia.....

    behtareen shabdon ke saath ek behtareen kavita.........


    Regards.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनेपन से परोसना
    उनकी थाली में स्नेह का भोजन
    जिसे पकाया गया हो
    पवित्रता की आंच पर.....

    बहुत खूब, उम्दा भाव !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहरी भावना लिए बेहद
    सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख़ूबसूरत रचना है.....गहरी संवेदनाएं लिए,एक सुन्दर सन्देश के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  5. अभिमान का दाना,

    तुम नहीं खाना,

    तुम्‍हें भी

    अभिमान आ जाएगा


    वाह...वाह....!
    सदा जी!
    3 बार यह कविता पढ़ चुका हूँ!
    इतना ही कहूँगा कि बेहतरीन है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुम्‍हारे विचारों को

    इधर-उधर भटकने से

    संजो सकोगे तुम

    वो सपने जिन्‍हें

    हकीकत बनने से

    कोई रोक नहीं पाएगा ।
    बहुत ही सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बचाएगा
    तुम्‍हारे विचारों को
    इधर-उधर भटकने से
    संजो सकोगे तुम
    वो सपने जिन्‍हें
    हकीकत बनने से
    कोई रोक नहीं पाएगा ।

    बहुत सुन्दर और आत्मविश्वास से भरी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. सजाना रिश्‍तों को
    अपनेपन से
    परोसना
    उनकी थाली में
    स्‍नेह का भोजन
    जिसे पकाया गया हो
    पवित्रता की आंच पर
    बहुत ही अछे बात कही है आपने रचना के माध्यम से ........ लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  9. सजाना रिश्‍तों को
    अपनेपन से
    परोसना
    उनकी थाली में
    स्‍नेह का भोजन
    जिसे पकाया गया हो
    पवित्रता की आंच पर
    बहुत सुन्दर रचना है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. एकता का रस होगा
    जो तुम्‍हारी जिभ्‍या को
    रसास्‍वादन कराएगा
    वाह बहुत खूब लिखा है आपने ! इस भावपूर्ण और बेहतरीन रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  11. rachnaa ke shabd-shabd meiN
    shaasvat sach ka sandesh chhipaa hai
    abhivaadan svikaareiN

    उत्तर देंहटाएं
  12. कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA

    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर विचारों को समाहित किया है आपने इस कविता में..

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
    आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन


    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद गहन अर्थ समेटे उम्दा रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  16. नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल में आपकी रचना पढ़ी..
    बहुत सुन्दर सदा जी,
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  17. अभिमान का दाना,
    तुम नहीं खाना,

    बड़ी सुन्दर रचना....
    सादर बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  18. ऐसे भोजन के दुर्लभ स्वाद और पोषण की महत्ता समझ पाये तो पूरे समाज का उद्धार हो जाये !

    उत्तर देंहटाएं
  19. जिस अंदाज में अपने कहा मन को भा गया.. कहते हें 'जिसने खाया जैसा अन्न उसका हुआ वैसा ही मन' इसको ही सार्थक कर रही है कविता.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....