शुक्रवार, 31 दिसंबर 2021

वक़्त की मुस्कान ...

 वक़्त तो बड़ा ही व्यस्त है

ज़िन्दगी भी अब
इसकी अभ्यस्त है
नित-नई चुनौतियों की
ओढ़कर दुशाला
चलते-चलते
सोचता कोई है ..
जो मन की देहरी को
पार करने से पहले
दस्तक़ देकर,
पूछ ले हाल
मनमर्जियों की लग़ाम
पकड़ ले कसकर !

तुम्हें पता है न
विदा के वक़्त की मुस्कान
मन के हर भार को
हल्का कर देती है
और विश्वास को दुगुना
.. कि जो भी होगा
वो अच्छा ही होगा !!

नववर्ष की अनंत मंगलकामनाएं 🎉🎉
...
© सीमा 'सदा'


23 टिप्‍पणियां:

  1. जो भी होगा अच्छा होगा ।
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार(०१ -०१ -२०२२ ) को
    'नए वर्ष की ढेर शुभ-कामनाएँ'( चर्चा अंक-४२९६)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है। सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँँ 💐💐💐सुंदर सृजन !

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर सकारात्मकता से परिपूर्ण रचना ... नववर्ष मंगलमय हो ...

    जवाब देंहटाएं
  5. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ🙏

    जवाब देंहटाएं
  6. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं,सुन्दर सृजन

    जवाब देंहटाएं
  7. ऐसे ही विश्वास बना रहे तो जीवन की राहें सरल हो जाती हैं

    जवाब देंहटाएं
  8. सीमा जी बहुत प्यारी रचना है सीधे मन में उतरती सी।
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  9. जीवंतता सिखाती सुंदर सराहनीय रचना । बहुत बहुत शुभकामनाएं सीमा जी ।

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....