रविवार, 12 अप्रैल 2020

घर पर रहो, सुरक्षित रहो !!


बात सिर्फ़,
#मुलाक़ात की होती,
तुम कहते … तो मेरा आना
शायद हो भी जाता
पर, सवाल तुम्हारी और सबकी
ज़िंदगी का भी है …
घर पर रहो, सुरक्षित रहो,
मुझे कुछ लोगों को
अभी जीवन दान देना है !!!
....
© सीमा 'सदा'



20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत कम शब्दों में बहुत ही सार्थक बात कह दी आपने इसे साझा करने के लिए आपका शुक्रिया रफ्तार बनाए रखें

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी, बहुत आभार ...
      सबके सहयोग से अवश्य सम्भव होगा।

      हटाएं
  2. बहुत सही लिखा । हम सब इसमें शामिल हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  3. घर पर रहो, सुरक्षित रहो,
    आज का सबसे बेहतर उपाय !

    जवाब देंहटाएं
  4. घर पर रहो, सुरक्षित रहो,
    आज का सबसे बेहतर उपाय !

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन प्रस्तुति ,सार्थक पोस्ट ,मेरे ब्लॉग पर आप आई मेरी रचना को भी सराहा इसके लिए आपका दिल से शुक्रियां

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....